Home समाचार मुख्तार अंसारी के बेटे की अधिकारियों को धमकी- अखिलेश सरकार बनने दीजिए,...

मुख्तार अंसारी के बेटे की अधिकारियों को धमकी- अखिलेश सरकार बनने दीजिए, फिर होगा हिसाब किताब, पुलिस ने दर्ज किया केस

600
SHARE

उत्तर प्रदेश का सियासी संग्राम अब अंतिम चरण में पहुंच गया है। अब तक छह चरणों का मतदान हो चुका है। लेकिन समाजवादी पार्टी के समर्थक दिन में सरकार बनने के सपने देख रहे हैं। वे सरकार बनाने को लोकर इतने उतावले हैं कि उनकी जुबान बेलगाम हो गई है। ईवीएम में बंद जनता का फैसला आने से पहले ही अपना असली चेहरा जनता को दिखाने लगे हैं। इसी क्रम में मऊ सदर विधानसभा सीट से सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के प्रत्याशी और बाहुबली विधायक मुख्तारअंसारी के बड़े बेटे अब्बास अंसारी का एक वीडियो वायरल हो रहा है, जिसमें वो धमकी देते नजर आ रहे हैं।

पहले हिसाब-किताब, उसके बाद ट्रांसफर-पोस्टिंग

अब्बास अंसारी ने अपने विधानसभा क्षेत्र में एक जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि सूद समेत वापस लौटाउंगा, जो आज डंडा चला रहे हैं। यहां पर मुख्यमंत्री होने वाले अखिलेश भैया से कह कर आया हूं। सरकार आने पर 6 महीने तक किसी भी सरकारी अधिकारी और पुलिस कर्मियों की ट्रांसफर और पोस्टिंग नहीं होगी। पोस्टिंग से पहले हिसाब किताब लिया जाएगा, फिर कहीं जाकर पोस्टिंग पर मुहर लगेगी।

पुलिस ने अब्बास अंसारी के खिलाफ दर्ज की शिकायत

वीडियो सामने आने के बाद मऊ पुलिस ने ट्वीट करके बताया कि प्रत्याशी अब्बास अंसारी के वायरल विडियों के सम्बन्ध में थाना कोतवाली पर आचार संहिता के उलंघन के सम्बन्ध में धारा 171 च, 506 भादावि का अभियोग पंजीकृत किया गया है। इस सम्बन्ध में निवार्चन अधिकारी 356-मऊ सदर, मऊ को अग्रिम कार्यवाही हतु रिपोर्ट दी गयी है।

अब्बास अंसारी सुहेलदेव पार्टी से लड़ रहे चुनाव

गौरतलब है कि मुख्तार अंसारी के इस बार चुनाव नहीं लड़ने के फैसले के बाद अब्बास अंसारी मऊ सदर सीट से मैदान में हैं। मुख्तार अंसारी पिछले 5 बार से सदर सीट से विधायक हैं और यह सीट उनका गढ़ माना जाता रहा है। 1996 के बाद मुख्तार अंसारी के अलावा यहां कोई और चुनाव नहीं जीता है। ओमप्रकाश राजभर की सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी ने मऊ सदर विधानसभा सीट से अब्बास अंसारी को चुनावी मैदान में उतारा है। 7 मार्च को सातवें चरण के लिए मतदान होगा।

योगी सरकार की कार्रवाई से बौखलाहट

यूपी के माफिया डॉन से नेता बने मुख्तार अंसारी अभी उत्तर प्रदेश की बांदा जेल में बंद हैं। बीजेपी विधायक कृष्णानंद राय की हत्या के अलावा उनके खिलाफ गाजीपुर जिले के एक ही थाने में 40 से अधिक मामले दर्ज हैं। उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के दौरान योगी सरकार ने बड़ी कार्रवाई की। 23 फरवरी, 2022 को मुख्तार अंसारी का महुआबाग गाजीपुर स्थित गजल होटल से जुड़े 2 करोड़ की संपत्ति को जब्त कर लिया। यह संपत्ति पत्नी और बेटे के नाम पर थी। इससे पहले दिसंबर 2021 में एंटी माफिया अभियान के तहत पुलिस प्रशासन ने मुख्तार अंसारी की 10.10 करोड़ की बेनामी संपत्ति कुर्क की थी।

मुख्तार के करीबियों पर कार्रवाई

योगी सरकार में प्रशासन ने कार्रवाई करते हुए मऊ सदर से बाहुबली विधायक माफिया मुख्तार अंसारी के करीबी कोयला माफिया उमेश सिंह के 10 करोड़ के शॉपिंग मार्ट को ध्वस्त कर दिया। मऊ में ठेकेदार उमेश सिंह के शॉपिंग मार्ट पर प्रशासन का बुलडोजर चला। यह मार्ट पिछले कई वर्षों से संचालित हो रहा था, लेकिन पूर्ववर्ती किसी सरकार ने उस पर कार्रवाई करने की हिम्मत नहीं जुटाई। मऊ सिटी मजिस्ट्रेट के न्यायालय में अवैध तरीके से निर्माण करने का मुकदमा स्टेट बनाम उमेश सिंह, अजय सिंह, विजय सिंह, विनय सिंह के विरुद्ध चल रहा था। जिसकी सुनवाई करते हुए कोर्ट ने ध्वस्तीकरण का आदेश जारी किया था।

Leave a Reply