Home समाचार राहुल गांधी का झूठ नंबर 15: सेना की महिला अधिकारियों को स्थायी...

राहुल गांधी का झूठ नंबर 15: सेना की महिला अधिकारियों को स्थायी कमीशन पर SC के फैसले पर बोला झूठ

370
SHARE

देश की सबसे पुरानी पार्टी कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष रह चुके और सांसद  राहुल गांधी को अगर झूठ की मशीन कहा जाए तो कोई अतिश्योक्ति नहीं होगी। राजनीतिक फायदे के लिए राहुल गांधी अनेकों बार झूठ बोल चुके हैं। आइए, आपको बताते हैं कि राहुल गांधी ने कब-कब और किन किन मुद्दों पर झूठ बोला।

राहुल गांधी का झूठ नंबर-15  

सेना की महिला अधिकारियों को स्थायी कमीशन पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर झूठ बोला

17/02/2020

राहुल गांधी ने ट्वीट कर कहा कि सरकार के उच्चतम न्यायालय में यह दलील देकर हर महिला का अपमान किया है कि महिला सैन्य अधिकारी कमान मुख्यालय में नियुक्ति पाने या स्थायी सेवा की हकदार नहीं हैं क्योंकि वे पुरुषों के मुकाबले कमतर होती हैं लेकिन हकीकत यह है कि इस संबंध में 2010 में ही उच्चतम न्यायलय में अपील की गई है, उस समय केंद्र में कांग्रेस की सरकार थी।  

राहुल गांधी का झूठ नंबर-14

किसानों की कर्ज माफी पर राहुल गांधी के झूठ की खुली पोल 

14/02/2020

मध्य प्रदेश सरकार के सहकारिता मंत्री गोविंद सिंह ने यह कह कर राहुल गांधी की पोल खोल दी कि मध्य प्रदेश सरकार राहुल गांधी के कर्जमाफी के बयान को पूरा नहीं सकी, जबकि 19 दिसंबर 2019 को राहुल गांधी ने ट्वीट कर कहा था कि मध्यप्रदेश में सरकार बनते ही किसानों के कर्ज माफ कर दिए गए हैं। 

राहुल गांधी का झूठ नंबर-13

राहुल गांधी ने डिटेंशन सेंटर बनाए जाने पर झूठ बोला

26/12/2019 

राहुल गांधी ने ट्वीट कर डिटेंशन सेंटर बनाने की बात कही लेकिन 13 दिसंबर, 2011 को पीआईबी द्वारा प्रकाशित की गई एक ख़बर से साफ है कि कांग्रेस की सरकारों के दौरान डिटेंशन सेंटर बनाए गए थे। पीआईबी के मुताबिक तत्कालीन कांग्रेस सरकार ने गोलपुरा, कोकराझाड़ और सिल्चर में डिटेंशन सेंटर बनाए ताकि अवैध घुसपैठियों को प्रत्यर्पण तक वहां रखा जाए।

राहुल गांधी का झूठ नंबर-12 

रायबरेली के साथ भेदभाव करने का आरोप लगाकर झूठ बोला

27/04/2019

राहुल गांधी ने कहा कि मोदी सरकार आने के बाद से रायबरेली के साथ भेदभाव किया जाता रहा है, लेकिन सच्चाई यह है कि यूपीए के जमाने में राजीव गांधी के नाम पर रायबरेली में जो पेट्रोलियम यूनिवर्सिटी स्थापित की गई थी उसे पांच वर्षों के दौरान यूपीए सरकार ने महज 1 करोड़ रुपये दिए थे,जबकि मोदी सरकार ने पहले दो वर्षों में इस यूनीवर्सिटी के लिए 360 रुपये देकर इसे एक संस्थान के रूप में विकसित किया। इतना ही नहीं रायबरेली में स्थित इंडियन टेलीकॉम इंडस्ट्रीज नाम का संस्थान बंद होने के कगार पर था और वहां अफसरों को वेतन तक नहीं मिल पा रहा था, मोदी सरकार ने इस संस्थान को 500 करोड़ आवंटित कर जीवनदान दिया और 1100 करोड़ रुपये का आर्डर भी दिलाया।

राहुल गांधी का झूठ नंबर-11

राफेल पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले का हावला देकर झूठ बोला

10/04/2019 

सुप्रीम कोर्ट ने 10 अप्रैल 2019 को केंद्र सरकार की आपत्तियों को दरकिनार करते हुए राफेल मामले में रिव्यू पिटिशन पर नए दस्तावेज के आधार पर सुनवाई करने फैसला किया था। इस पर राहुल गांधी ने कहा था कि अब सुप्रीम कोर्ट ने मान लिया है कि चौकीदार चोर है। इसके बाद बीजेपी नेता मीनाक्षी लेखी ने राहुल के खिलाफ आपराधिक अवमानना की याचिका दायर की थी, फिर बाद में राहुल गांधी ने सुप्रीम कोर्ट से माफी मांगी। 

राहुल गांधी का झूठ नंबर-10 

राफेल के सीईओ ने राहुल गांधी के झूठ का किया पर्दाफाश 

20/02/2019 

राहुल गांधी ने झूठ फैलाया कि केंद्र सरकार ने अनिल अंबानी को फायदा पहुंचाने के लिए राफेल के साथ ऑफसेट कॉन्ट्रैक्ट की डील रिलायंस डिफेंस को दिलवा दी,लेकिन डसॉल्ट एविएशन के सीईओ एरिक ट्रैपियर ने साफ कहा कि डसॉल्ट एविएशन ने ही ऑफसेट पार्टनर के तौर पर रिलायंस डिफेंस का चयन किया, भारत सरकार की ओर से पार्टनर चुनने का कंपनी के ऊपर कोई दबाव नहीं डाला गया। 

राहुल गांधी का झूठ नंबर-09

राहुल गांधी नेे महिला साक्षरता के आंकड़ें पर झूठ बोला

03/12/2017

राहुल गांधी ने गुजरात विधानसभा चुनाव प्रचार के दौरान महिला सुरक्षा, पोषण और महिला साक्षरता पर झूठ बोला। आंकड़ों में दिखाया गया था कि 2001 से 2011 के बीच गुजरात में महिला साक्षरता दर में 70.73 से गिरकर 57.8 फीसदी हो गई है जबकि हकीकत यह है कि गुजरात में 2001 से 2011 के बीच महिला साक्षरता में 12.9 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है। 

राहुल गांधी का झूठ नंबर-08

राहुल गांधी ने Statue of Unity प्रतिमा पर देश से बोला झूठ

29/09/2018

राहुल गांधी ने कहा कि नर्मदा नदी पर बनने वाली Statue of Unity सरदार पटेल की प्रतिमा made in China होगी, जबकि सच्चाई ये है कि प्रतिमा के निर्माण का कार्यभार एक भारतीय कंपनी को दिया गया है। यह पूरी तरह भारतीय तकनीक, भारतीय मेटेरियल, भारतीय इंजिनियरों, भारतीय लेबर और भारतीय चीज़ों द्वारा बनाई गई। 

राहुल गांधी का झूठ नंबर-07

राहुल गांधी ने दो करोड़ रोजगार देने के पीएम मोदी के बयान पर झूठ बोला

20/07/2018

लोकसभा में अविश्वास प्रस्ताव पर चर्चा के दौरान राहुल गांधी ने कहा कि पीएम मोदी ने 2014 के चुनाव प्रचार के दौरान हर वर्ष युवाओं को 2 करोड़ रोजगार देने का वादा किया था। राहुल गांधी का ये आरोप सच्चाई से कोसों दूर है। एबीपी न्यूज चैनल की पड़ताल में यह बात झूठ निकली। पीएम मोदी ने कभी भी देशवासियों से सरकार बनने पर प्रति वर्ष दो करोड़ रोजगार देने का वादा नहीं किया था। 

राहुल गांधी का झूठ नंबर-06

राहुल गांधी नेे नोटबंदी पर झूठ बोला

23/02/2018 

राहुल गांधी ने कहा कि संघ परिवार के एक विचारक ने पीएम मोदी को नोटबंदी का विचार दिया था। राहुल गांधी का यह बयान सरासर झूठा है। सच्चाई यह है कि देश को भ्रष्टाचार से मुक्त करने और कालेधन पर लगाम लगाने के लिए मोदी सरकार ने काफी गहन विचार-विमर्श के बाद नोटबंदी का ऐलान किया था।

राहुल गांधी का झूठ नंबर-05

राहुल गांधी ने महंगाई पर झूठ बोला  

05/12/2017 

राहुल गांधी ने ट्वीट कर गैस सिलिंडर, प्याज, दाल, टमाटर, दूध और डीजल के दामों का हवाला देकर 2014 और 2017 के दामों की तुलना में सभी चीजों के दामों में वास्तविक दामों से 100 प्रतिशत अधिक की बढ़ोतरी दिखा दी लेकिन हकीकत यह है कि मोदी सरकार के कार्यकाल में महंगाई दर सबसे कम रही है। 

राहुल गांधी का झूठ नंबर-04

राहुल गांधी ने एक उद्योगपति को 45,000 करोड़ एकड़ जमीन देने की बात कह कर झूठ बोला

2/12/2017 

गुजरात चुनाव में प्रचार के दौरान राहुल गांधी ने कहा कि पीएम मोदी ने अपने उद्योगपति दोस्तों को 45,000 करोड़ एकड़ जमीन दे दी, लेकिन हकीकत यह है कि 45,000 करोड़ एकड़ जमीन इस धरती से भी तीन गुना ज्यादा है। पूरी धरती ही लगभग 13,000 करोड़ एकड़ की है।

राहुल गांधी का झूठ नंबर-03

अमेरिका में लोकसभा सदस्यों की संख्या पर बोला झूठ

12/09/2017  

राहुल गांधी ने अमेरिका की एक यूनिवर्सिटी में छात्रों को संबोधित करते हुए  लोकसभा में कुल सदस्यों की संख्या ही 546 बता डाली, जबकि सच्चाई यह है कि लोकसभा में कुल सदस्यों की संख्या 545 है, इनमें से 543 को जनता चुनती है और दो सदस्य (ऐंग्लो-इंडियन) मनोनित किए जाते हैं। 

राहुल गांधी का झूठ नंबर-02

इंदिरा कैंटीन को बताया अम्मा कैंटीन

16/08/2017

कर्नाटक की राजधानी बेंगलुरु में इंदिरा कैंटीन योजना की लॉन्चिंग में राहुल गांधी ने योजना का नाम ही गलत बता दिया। यह योजना उनकी दादी यानी इंदिरा गांधी के नाम पर शुरू हो रही थी, लेकिन राहुल गांधी ने उसे तमिलनाडु में जयललिता के नाम पर चलने वाली अम्मा कैंटीन बता दिया। 

राहुल गांधी का झूठ नंबर-01

उत्तर प्रदेश के शिक्षा बजट पर झूठा बोला 

11/07/2017 

यूपी की योगी आदित्यनाथ की सरकार ने जुलाई 2017 में पहला बजट पेश किया था। इस बजट में शिक्षा के लिए आवंटित धन में कमी दिखाकर सोशल मीडिया पर शेयर किया किया गया,जबकि शिक्षा का बजट वास्तव में बढ़ाया गया था। 

Leave a Reply