Home समाचार राहुल पर हमले के बाद ममता बनर्जी और कांग्रेस में छिड़ी जंग,...

राहुल पर हमले के बाद ममता बनर्जी और कांग्रेस में छिड़ी जंग, ममता पर बड़े पलटवार की तैयारी में कांग्रेस

891
SHARE

विपक्ष का नेता बनने के लिए पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और देश की सबसे पुरानी पार्टी कांग्रेस के बीच युद्ध छिड़ गया है। ममता बनर्जी विपक्ष की कमान संभालने के रास्ते में कांग्रेस को सबसे बड़ा रोड़ा मान रही है। इसलिए कांग्रेस को अपने रास्ते से हटाने और राष्‍ट्रीय स्‍तर पर खुद को स्‍थापित करने के लिए जमकर दांवपेंच चल रही है। जहां कांग्रेस के नेताओं को अपनी पार्टी में शामिल कर रही है, वहीं यूपीए के घटक दलों पर डोरे डाल रही है। इससे कांग्रेस के नेता तिलमिला उठे हैं और ममता बनर्जी पर पलटवार करना शुरू कर दिया है। 

‘कोई व्यक्ति कुछ ना करे और सिर्फ विदेश में ही रहे’

दरअसल ममता बनर्जी एक रणनीति के तहत कांग्रेस की दुखती रग पर हाथ रख रही है। महाराष्ट्र पहुंचीं ममता बनर्जी ने राहुल गांधी पर निशाना साधते हुए कहा कि कोई व्यक्ति कुछ ना करे और सिर्फ विदेश में ही रहे तो काम कैसे चलेगा? ममता ने इशारों ही इशारों में कहा कि अगर आप फील्ड में नहीं रहेंगे तो बीजेपी आप को बोल्ड कर देगी। अगर आप फील्ड में रहेंगे तो बीजेपी हार जाएगी। ममता बनर्जी से जब यह पूछा गया कि आखिर आप कांग्रेस से क्यों लड़ रही हैं? तब उन्होंने जवाब दिया कि अगर कांग्रेस और लेफ्ट हमारे खिलाफ बंगाल में चुनाव लड़ सकते हैं तो हम भी उनके खिलाफ जा सकते हैं।

ममता ने यूपीए के अस्तित्व को नकारा

मुंबई में एनसीपी प्रमुख शरद पवार से मिलने के बाद ममता बनर्जी ने कहा कि कोई यूपीए नहीं है। यूपीए (यूनाइटेड प्रोग्रेसिव एलायंस) यह खत्म हो चुका है। ममता ने यूपीए के अस्तित्व पर ही सवाल उठा कर स्पष्ट संकेत दे दिया है कि उन्हें अब कांग्रेस का नेतृत्व मंजूर नहीं है। वह दूसरी पार्टियों को भी कांग्रेस की तरफ जाने से रोकने के लिए अपना हरसंभव प्रयास कर रही है। इसके लिए वह कांग्रेस को कमजोर साबित करने में लगी है। वह बताने की कोशिश कर रही है कि कांग्रेस बीजेपी को चुनौती देने की स्थिति में नहीं है, ताकि क्षेत्रीय ताकतों के लिए वही एकमात्र विकल्प बन सके। 

“ममता पागल होने लगी हैं।…बंगाल का मतलब भारत नहीं है।”- अधीर रंजन

ममता बनर्जी के हमलों से आहत कांग्रेस ने भी मोर्चा खोल दिया है। सूत्रों के मुताबिक ममता पर बड़ा हमला बोलने का फैसला बुधवार रात हुई बैठक में लिया गया। पश्चिम बंगाल से कांग्रेस सांसद और लोकसभा में कांग्रेस के नेता अधीर रंजन चौधरी ने ममता पर तीखा हमला करते हुए कहा कि वह यूपीए के बारे में नहीं जानतीं। उन्होंने सवाल किया कि क्या ममता बनर्जी को नहीं पता यूपीए क्या है? मुझे लगता है कि वह पागल होने लगी हैं। उन्होंने आगे कहा, ‘वह सोचती हैं कि पूरे भारत ने ‘ममता-ममता’ का जाप करना शुरू कर दिया है, लेकिन भारत का मतलब बंगाल नहीं है और अकेले बंगाल का मतलब भारत नहीं है। पिछले चुनावों (पश्चिम बंगाल में) में उनकी रणनीति धीरे-धीरे उजागर हो रही है।’

ममता पर यूपीए को तोड़ने का आरोप

ममता बनर्जी पर बरसते हुए अधीर रंजन चौधरी ने कहा, ‘मिले सुर मेरा तुम्हारा, तो सुर बने हमारा’ बीजेपी को खुश रखने के लिए आज ममता बनर्जी का यही रुख है। यूपीए सरकार में तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) के 6 मंत्री थे। 2012 में ममता बनर्जी ने यूपीए से समर्थन वापस लेने के लिए कुछ बहाना बनाया था। वह उस समय यूपीए सरकार को तोड़ना चाहती थीं। उन्होंने आगे कहा, ‘लेकिन वह सफल नहीं हुईं क्योंकि तब अन्य पार्टियां थीं जिन्होंने तुरंत सरकार का समर्थन किया। यह उनकी पुरानी साजिश है।’

ईडी और सीबीआई से डरी ममता

कांग्रेस के जनरल सेक्रेटरी केसी वेणुगोपाल ने ममता बनर्जी पर निशाना साधते हुए कहा कि सभी भारतीय राजनीति की सच्चाई और वास्तविकता पता है। यह सोचना कि कांग्रेस के साथ बिना बीजेपी को हराया जा सकता है, यह एक सपने की तरह है, जो कभी पूरा नहीं हो सकता। उधर कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने ममता बनर्जी पर पलटवार किया। खड़गे ने कहा कि ममता बीजेपी की मदद कर रही हैं। ये ममता नहीं, ममता का ईडी और सीबीआई से डर बोल रहा है।

ममता बनर्जी और कांग्रेस के बीच बढ़ती दूरियां

गौरतलब है कि ममता बनर्जी और कांग्रेस के बीच दूरियां बढ़ती जा रही हैं। इसका संकेत हाल ही में ममता बनर्जी के दिल्‍ली दौरे से मिलता है। ममता दिल्ली में विभिन्‍न दलों के शीर्ष नेताओं से मुलाकात की लेकिन सोनिया गांधी से नहीं मिलीं। इसी साल जुलाई में जब ममता दिल्‍ली आई थीं तो वह सोनिया और राहुल गांधी से मिली थीं। संसद के शीतकालीन सत्र के दौरान विपक्ष की हर बैठक से टीएमसी के नेता नदारद रहे। यहां तक कि 12 राज्‍यसभा सदस्‍यों के निलंबन को लेकर भी टीएमसी और कांग्रेस में दूरी साफ नजर आई। अब दोनों दलों के बीच एक-दूसरे पर हमलों का सिलसिला शुरू हो गया है।

Leave a Reply