Home चुनावी हलचल एमसीडी चुनाव: दो करोड़ रुपए दो, आम आदमी पार्टी से टिकट लो

एमसीडी चुनाव: दो करोड़ रुपए दो, आम आदमी पार्टी से टिकट लो

1493
SHARE

आम आदमी पार्टी भ्रष्टाचार से छुटकारा दिलाने और राजनीतिक पारदर्शिता लाने के वादों के साथ राजनीति में आयी थी। लेकिन पार्टी अपने वादों से विपरीत आचरण कर रही है। पार्टी संयोजक अरविंद केजरीवाल भले ही ईमानदारी का लाख दम भरे लेकिन दिल्ली नगर निगम यानी एमसीडी चुनाव में उनकी पार्टी पर पैसे लेकर टिकट देने के आरोप लगे हैं।

बताया जा रहा है कि दो से तीन करोड़ रुपए लेकर पार्टी के टिकट बेचे जा रहे हैं। एक फोन टेप सामने आया है, जिसमें टिकट के लिए दो करोड़ रुपए देने की बात की जा रही है। आम आदमी पार्टी की एक कार्यकर्ता आभा मित्तल और पार्टी के बड़े नेता के साथ बातचीत के टेप से ये खुलासा हुआ है। बताया जा रहा है आभा मित्तल के साथ टेप में रिकार्ड आवाज आप के दिल्ली संयोजक दिलीप पांडे की है। बातचीत में आभा मित्तल को साफ कहा जा रहा है कि टिकट के लिए दो करोड़ रुपए देने होंगे। दो करोड़ रुपए पर आभा मित्तल के चौंकने पर उनसे साफ कहा जा रहा है कि आप ये खर्च नहीं उठा पाएंगी।

आप भी सुनिए ये बातचीत-

यूट्यूब पर ये टेप चंदा बंद सत्याग्रह चलाने वाले लोगों ने अपलोड की है। केजरीवाल के पुराने साथी पार्टी में पारदर्शिता लाने और चंदा देने वाले लोगों का लिस्ट पार्टी वेबसाइट पर डालने की मांग कर रहे हैं। चंदा बंद सत्याग्रह के संयोजक डॉ मुनीश रायजादा का कहना है कि पार्टी की बुनियाद उसके 100 प्रतिशत वितीय पारदर्शिता के सिद्धांत पर रखी गयी थी। लेकिन अब पार्टी अपने बुनियादी मार्गदर्शक सिद्धांतों से भटक गयी है। ये किसी से छिपा नहीं है की पिछले साल जून महीने से पार्टी ने अपने दानकर्ताओं की सूची को हटा दिया है। रायजादा आम आदमी पार्टी से एक आतंरिक लड़ाई लड़ रहे हैं। वे दिसम्बर 2016 से ही पार्टी के खिलाफ चल रहे चन्दा बंद सत्याग्रह (नो लिस्ट: नो डोनेशन) का नेतृत्व कर रहे हैं।

भ्रष्टाचार के खिलाफ देश में सबसे बड़े अन्ना आंदोलन से राजनीति में चमके अरविन्द केजरीवाल की छवि अब दागदार होने लगी है। आम आदमी पार्टी को खड़ा करने में कभी अपना जी जान लगा देने वाले केजरीवाल के पुराने साथी भी नाराज हैं। अन्ना के साथ प्रशांत भूषण, योगेंद्र यादव, किरण बेदी, शाजिया इल्मी और प्रोफेसर आनंद कुमार जैसे लोगों का भी केजरीवाल से मोहभंग हो चुका है। सत्ता के खिलाफ लड़ाई में देश से भ्रष्टाचार मिटाने का दंभ भरने वाले आम आदमी पार्टी के ज्यादातर नेता जेल का मुंह देख चुके हैं। कई नेताओं के खिलाफ जांच भी चल रही है।

इसे भी पढ़िए-

मनीष सिसोदिया बने ‘आप’के दागी नंबर 35 – केजरीवाल के गैंग का पर्दाफाश
केजरीवाल सरकार – वो सवाल उठाते रहे, हम गुलछर्रे उड़ाते रहे
जिनसे बने थे केजरीवाल अब वही मीडिया ‘दलाल’?

LEAVE A REPLY