Home समाचार पीएम मोदी का नया भारत है, 24 घंटे के अंदर कश्मीरी पंडित...

पीएम मोदी का नया भारत है, 24 घंटे के अंदर कश्मीरी पंडित राहुल भट्ट की मौत का लिया बदला, एनकाउंटर में मारे गए हत्या में शामिल तीनों आतंकी

149
SHARE

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का नया भारत है, जो कश्मीर आतंकियों का महिमामंडन नहीं करता है। 24 घंटे के अंदर उनके किए का बदला लेता है और सबक सीखाता है कि अगर दुस्साहस की तो करारा जवाब मिलेगा। सुरक्षा बलों ने 24 घंटे के भीतर कश्मीरी पंडित राहुल भट्ट को मौत के घाट उतारने वाले तीनों आतंकियों को ढेर कर दिया। 2 आतंकियों को तो कल ही मौत के घाट उतार दिया गया था और आज एक आतंकी को एनकाउंटर के दौरान मौत की नींद सुला दिया गया।

इन आतंकियों को बांडीपोरा में हुई मुठभेड़ के दौरान मौत के घाट उतारा गया। ये तीनों ही आतंकी राहुल भट्ट की हत्या में शामिल थे। इन आतंकियों ने बड़गाम जिले के चडूरा तहसील ऑफिस में घुसकर क्लर्क राहुल को शूट कर दिया था। इसके बाद राहुल ने अस्पताल में इलाज के दौरान दम तोड़ दिया था। घटना के बाद से ही इलाके में सर्च ऑपरेशन चल रहा था। राहुल की मौत के बाद लोगों में जबरदस्त आक्रोश देखने को मिला। आक्रोशित लोगों ने सड़कों पर उतर कर प्रदर्शन किया और आतंकियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की थी।


कश्मीर घाटी में स्थानीय लोगों पर हुए अटैक के पीछे लश्कर और जैश का हाथ है, लेकिन खुद को बचाने के लिए विश्वस्तर पर पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई के इशारे पर नाम कश्मीर टाइगर्स का लिया जा रहा है। दिसंबर 2021 में ही इसका मुखिया मुफ्ती अल्ताफ मारा जा चुका है। कश्मीर टाइगर्स को अल्ताफ ने ही बनाया था और खुद अल्ताफ जैश का आंतकवादी था। घाटी में कश्मीरी पंडित राहुल भट्ट की हत्या के पीछे कश्मीर टाइगर्स नाम के कथित आंतकी संगठन का नाम बताया जा रहा है।


गौरतलब है कि राहुल भट्ट बतौर सरकारी क्लर्क घाटी के ऑफिस में कार्यरत था। लेकिन बीते गुरुवार (12 मई, 2022) को आतंकियों ने तहसील कार्यालय में घुसकर गोली मारकर हत्या कर दी थी। शुक्रवार सुबह बनतालाब में राहुल का अंतिम संस्कार किया गया। इस मौके पर जम्मू के एडीजीपी मुकेश सिंह, डिविजनल कमिश्नर रमेश कुमार और डिप्टी कमिश्नर अवनी लवासा भी मौजूद रही। राहुल भट्ट नौ सितंबर 2020 को तहसील कार्यालय में क्लर्क के तौर पर नियुक्त हुए थे। वह वर्तमान में शेखपोरा विस्थापित कॉलोनी में परिवार के साथ रह रहे थे। वह मूल रूप से बडगाम जिले के बीरवाह इलाके के संग्रामपोरा के रहने वाले थे।

 

Leave a Reply