Home समाचार राजस्थान में पेट्रोल छिड़ककर जलाई गई रेप पीड़िता, बचाने आई बेटी भी...

राजस्थान में पेट्रोल छिड़ककर जलाई गई रेप पीड़िता, बचाने आई बेटी भी लपटों में घिरी, हाथरस जाने वाले राहुल और प्रियंका जयपुर जाएंगे क्या ?

123
SHARE

जब पूरा देश दीपावली का त्योहार मना रहा था और घरों में दीप जलाए जा रहे थे, तभी राजस्‍थान की राजधानी जयपुर में एक महिला और उसकी बेटी को जिंदा जलाया जा रहा था। शहर के कोतवाली थाना इलाके में रेप पीड़ित एक महिला पर रेप के आरोपी ने पेट्रोल छिड़ककर आग लगा दी और जिंदा जलाने का प्रयास किया। इससे महिला करीब 70 प्रतिशत तक झुलस गई। महिला को बचाने आई उसकी नाबालिग बेटी भी आग की लपटों में घिर गई, जिससे वह भी झुलस गई। 

वारदात की सूचना पर कोतवाली पुलिस मौके पर पहुंची और मां-बेटी को अस्पताल में भर्ती करवाया। वहां मां-बेटी का इलाज जारी है। महिला की हालत गंभीर बताई जा रही है। महिला पर पेट्रोल छिड़क कर जलाते समय आरोपी के भी हाथ झुलस गए। उसे भी अस्पताल में भर्ती करवाया गया है। पुलिस ने इस मामले में मुख्य आरोपी समेत चार को गिरफ्तार किया है।

पीड़ित महिला ने पुलिस पर आरोप लगाया है कि आरोपी सात महीने से फरार था। लेकिन पुलिस आरोपी को गिरफ्तार नहीं कर रही थी। आरोपी उसे और उसके परिजनों को लगतार धमकियां दे रहा था और राजीनामे का दबाव बना रहा था। पुलिस से शिकायत के बावजूद कोई कार्रवाई नहीं हुई। राज्य में कानून-व्यवस्था पूरी तरह से खराब हो गई है। अपराधियों के हौसले बुलंद है। जिसका नतीजा है कि बेखौफ आरोपी ने इस घटना को अंजाम दिया।

राजस्थान पुलिस की लापरवाही की वजह से आज एक महिला और उसकी नाबालिग बेटी जिंदगी के लिए जंग लड़ रही हैं। लेकिन हैरानी की बात है कि सबसे बड़ा महिला हितैषी होने का दावा करने वाले राहुल गांधी और प्रियंका वाड्रा इस घटना पर मौन है। बीजेपी शासित राज्यों में घटने वाली मामूली घटना पर ट्वीट करने वाली भाई-बहन की इस जोड़ी ने पीड़िता परिवार के प्रति संवेदना जताने के लिए ट्वीट करना उचित नहीं समझा। कांग्रेस बेटियों और महिलाओं के साथ कितना भेदभाव और छलने का काम करती है, यह उसका सबसे बड़ा प्रमाण है।

कुछ दिन पहले उत्तर प्रदेश के हाथरस में एक 19 साल की लड़की के साथ कथित रेप और हत्या के मामले में राहुल गांधी और प्रियंका वाड्रा ने जो ड्रामा किया,उसे पूरी दुनिया ने देखा। दोनों भाई-बहन पीड़ित परिवार से मिलने के लिए दिल्ली से हाथरस पहुंचे। पीड़ित परिवार से मिलकर खूब घड़ियाली आंसू बहाए और उन्हें आर्थिक मदद दी। लेकिन दुर्भाग्य है कि जयपुर की महिला और उसकी बेटी की, जिन्हें राजस्थान पुलिस की लापरवाही का खामियाजा भुगतना पड़ रहा है, लेकिन राहुल और प्रियंका गांधी मौन है।

ऐसे में सवाल उठता है कि हाथरस की बेटी के लिए इंसाफ मांगने वाले राहुल और प्रियंका जयपुर जाकर रेप पीड़िता और उसकी बेटी के लिए इंसाफ की मांग करेंगे ? क्या गहलोत सरकार को महिला विरोधी करार देंगे? राजस्थान में महिलाओं के साथ होने वाले अपराधों में कमी होती नजर नहीं आ रही है।कांग्रेस सरकारों में ही महिलाओं के साथ सबसे ज्यादा अपराध होते हैं, लेकिन राहुल और प्रियंका को ये अपराध दिखाई नहीं देते हैं। इससे साबित होता है कि कांग्रेस के लिए महिला सुरक्षा की बात करना सिर्फ ढकोसला है।

गौरतलब है कि पीड़ित महिला ने आरोपी के खिलाफ अप्रैल में रेप का मामला दर्ज करवाया था। उसके बाद से ही आरोपी फरार चल रहा था। पीड़िता का आरोप है कि आरोपी उसे और उसके परिजनों को लगतार धमकियां दे रहा था। दिवाली के दिन आरोपी अचानक पीड़िता के घर पहुंचा। उसने दिवाली पूजन कर रही पीड़िता के ऊपर पेट्रोल छिड़क दिया और आग लगा दी। इस दौरान मां को बचाने के चक्कर में उनकी नाबालिग बेटी भी आग की चपेट में आ गई।

 

Leave a Reply