Home इतिहास के झरोखे में नरेन्द्र मोदी इतिहास के झरोखे में नरेन्द्र मोदीः 24 दिसंबर

इतिहास के झरोखे में नरेन्द्र मोदीः 24 दिसंबर

392
SHARE

24 दिसंबर 2014
पंडित मदन मोहन मालवीय और अटल बिहारी वाजपेयी को भारत रत्न सम्मान देने की घोषणा पर प्रसन्नता व्यक्त की, कैबिनेट ने असम में आदिवासियों पर हुए कायराना हमले में मृतकों को श्रद्धांजलि दी।

24 दिसंबर 2015
रूस के राष्‍ट्रपति व्‍लादिमीर पुतिन के साथ बातचीत, रूस के राष्ट्रपति के साथ साझा प्रेस कॉन्फ्रेंस में वक्तव्य, मॉस्‍को में राष्‍ट्रीय संकट प्रबंधन केंद्र का दौरा किया, मॉस्‍को में ‘फ्रैंडस आॉफ इंडिया’ कार्यक्रम में भाग लिया।

24 दिसंबर 2016
मुंबई में शिवाजी महाराज के ‘शिव स्मारक’ पर जल पूजन किया, मुंबई में विभिन्न विकास परियोजनाओं के शिलान्यास समारोह में संबोधन, National Institute of Securities Markets के नए कैंपस के उदघाटन समारोह में संबोधन, पुणे मेट्रो परियोजना (प्रथम चरण) के शिलान्यास समारोह में संबोधन।

24 दिसंबर 2018

भुवन्नेवश्वर के अरागुल में 1660 करोड़ रुपये की लागत से बने आईआईटी के नए कैंपस का उद्घाटन, वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए पूरे ओडिशा के लिए सड़क, स्वास्थ्य, शिक्षा और संस्कृति से जुड़ी परियोजनाओं का शुभारंभ, दिल्ली में आयोजित समारोह में पूर्व प्रधानमंत्री स्व अटल बिहारी वाजपेयी की स्मृति में सिक्का और डाक टिकट जारी किया।

24 दिसंबर 2019

अफग़ानिस्तान के राष्ट्रपति महामहिम मोहम्‍मद अशरफ गनी से टेलीफोन पर बात,अफगानिस्‍तान के राष्‍ट्रपति चुनाव में जीत पर बधाई दी।

24 दिसंबर 2020

विश्व-भारती विश्वविद्यालय, शांतिनिकेतन के शताब्दी समारोह को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से संबोधन।

Leave a Reply