Home समाचार कोरोना महामारी ने हमें विश्व व्यवस्था को नए आकार में ढालने, अपनी...

कोरोना महामारी ने हमें विश्व व्यवस्था को नए आकार में ढालने, अपनी सोच को नए सिरे से व्यवस्थित करने का अवसर दिया है- प्रधानमंत्री मोदी

312
SHARE

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा है कि कोरोना महामारी ने पूरी विश्व व्यवस्था को नए आकार में ढालने और सोच को नए सिरे से व्यवस्थित करने का अवसर दिया है। रायसीना संवाद की छठी कडी का वर्चुअल उद्धाटन करते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि पूरी मानवजाति तब तक इस महामारी को मात देने में सफल नहीं होगी जब तक विश्व के हर स्थान के लोग इससे उबर न जायें। उन्होंने कहा कि हमें ऐसी व्यवस्थाएं बनानी चाहिए, जो आज की समस्याओं और भविष्य की चुनौतियों का समाधान करें और हमें पूरी मानवता के बारे में सोचना चाहिए, न कि सिर्फ उन लोगों के बारे में, जो हमारी सीमाओं में रहते हैं। मानवता समग्र रूप से हमारी सोच और गतिविधियों के केंद्र में होनी चाहिए।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि इसी तथ्य को ध्यान में रखते हुए भारत ने अनेक व्यवधानों के बावजूद 80 से अधिक देशों को कोरोना वैक्सीन की आपूर्ति की है। प्रधानमंत्री ने कहा कि महामारी के दौरान भारत ने अपने एक अरब 30 करोड़ नागरिकों को बचाने के साथ-साथ अन्य देशों को भी सहयोग उपलब्ध कराने का प्रयास किया है। अपने पास-पड़ोस में, हमने संकट से निपटने के लिए हमारी समन्वित क्षेत्रीय प्रतिक्रिया को भी प्रोत्साहित किया है। पिछले साल हमने डेढ़ सौ से ज्यादा देशों के साथ दवाएं और सुरक्षात्मक उपकरणों को साझा किया।

उन्होंने कहा कि हम पूर्ण रूप से समझते हैं कि मानव जाति इस महामारी को तब तक नहीं हरा पाएगी जब तक कि हम इसके लिए, सभी जगहों पर, अपने सभी तरह के भेदों को भुलाकर, बाहर नहीं आते हैं। हम जानते हैं कि पूरी मानव जाति के टीकाकरण होने में एक लंबा समय लगेगा। लेकिन इसके साथ हम यह भी जानते हैं कि आशाएं मायने रखती हैं। यह सबसे अमीर देशों के नागरिकों के लिए भी जितना मायने रखती है, उतना ही कमजोर देशों के नागरिकों के लिए भी। और इसलिए हम महामारी के खिलाफ लड़ाई में पूरी मानवता के साथ अपने अनुभवों, अपनी विशेषज्ञता और अपने संसाधनों को साझा करना जारी रखेंगे।

Leave a Reply