Home समाचार जानिए शाहीन बाग और रिया मामले में कोर्ट के फैसले ने कैसे...

जानिए शाहीन बाग और रिया मामले में कोर्ट के फैसले ने कैसे बढ़ाई लिबरल गैंग की उलझनें

710
SHARE

आज यानि 7 अक्टूबर, 2020 को दो अलग-अलग मामलों में सुप्रीम कोर्ट और बॉम्बे हाईकोर्ट के फैसले आए। जहां सुप्रीम कोर्ट ने शाहीन बाग में धरना-प्रदर्शन पर अपना फैसला देते हुए कहा कि सार्वजनिक स्थानों पर अनिश्चितकाल के लिए कब्जा नहीं किया जा सकता है, वहीं बॉम्बे हाईकोर्ट ने रिया चक्रवर्ती को सशर्त जमानत देकर बड़ी राहत दी। लेकिन इन दोनों फैसलों से लिबरल गैंग उलझन में फंस गया है। उन्हें अब समझ में नहीं आ रहा है इन फैसले पर किस तरह प्रतिक्रिया दी जाए।

दरअसल, शाहीन बाग में सीएए विरोधी धरना और प्रदर्शन में लिबरल गैंग ने सक्रिय भूमिका निभाई और समर्थन दिया। लोकतंत्र और संविधान बचाने के नाम पर लिबरल गैंग ने लोगों को भड़काने की कोशिश की। अपने मनगढ़ंत तर्कों और काल्पनिक डर दिखाकर लोगों को गुमराह किया। लेकिन शाहीन बाग प्रदर्शन पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले ने उनके प्रयासों पर पानी फेर दिया है। उन्हें प्रतिक्रिया देना मुश्किल हो रहा है कि सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद लोकतंत्र खतरे में पड़ गया है।

वहीं लिबरल गैंग की चहेती रिया चक्रवर्ती को कई दिनों की मशक्कत के बाद बॉम्बे हाईकोर्ट ने सशर्त जमानत दे दी। रिया को 1 लाख रुपए के निजी मुचलके पर जमानत दी गई है। रिया को अपना पासपोर्ट जमा करना होगा। अगर रिया को मुंबई से बाहर भी जाना होगा तो उसके लिए उन्हें मंजूरी लेनी होगी। जब भी रिया को पूछताछ के लिए बुलाया जाएगा उन्हें वहां पहुंचना पड़ेगा। रिया को राहत मिलने से लिबरल गैंग खुश होगा, क्योंकि सुशांत सिंह मौत मामले में लिबरल गैंग ने खुलकर रिया चक्रवर्ती का समर्थन किया था। लेकिन यह गैंग ‘सत्यमेव जयते’ का ट्वीट नहीं कर सकता, क्योंकि सुप्रीम कोर्ट के फैसले ने उनका जायका खराब कर दिया है।

लिबरल गैंग की इस उलझन को लेकर सोशल मीडिया पर लोगों ने दिलचस्प प्रतिक्रियाएं दी हैं। आप भी देखिए… 

Leave a Reply