Home समाचार राजस्थान में कर्ज माफ नहीं होने से 6 किसानों की 80 लाख...

राजस्थान में कर्ज माफ नहीं होने से 6 किसानों की 80 लाख की जमीन नीलाम, किसान हितैषी राजनीतिक पार्टियां और किसानों के ठेकेदार सब मौन

565
SHARE

राजस्थान में छह किसानों की करीब 80 लाख रुपये की जमीन की नीलामी ने पूरी देश को हैरान कर दिया है। अब सवाल पूछे जा रहे हैं कि किसानों की कर्ज माफी का वादा कर सत्ता में आई गहलोत सरकार में किसानों की जमीन नीलाम क्यों हो रही है? कांग्रेस और उसके तत्कालीन अध्यक्ष राहुल गांधी ने सार्वजनिक मंच से ऐलान किया था, कि उनकी सरकार बनते ही दस दिन के अंदर किसानों का कर्ज माफ कर दिया जाएगा, फिर भी किसानों को उनकी जमीन से बेदखल क्यों किया जा रहा है ? दिल्ली की सीमा पर एक साल तक डेरा डालने वाले किसान संगठन, किसान नेता और किसानों की हितैषी बताने वाली पार्टियां अब कहां है? क्यों इस मामले में मौन है ?

दरअसल ये तथाकथित किसान हितैषी इन सावलों का जवाब नहीं दे सकते हैं। क्योंकि उनका किसानों के वास्तविक मुद्दों और परेशानियों से कोई लेना-देना है। उनका मुख्य मकसद अपनी सियासत चमकानी है। किसानों के नाम पर किसानों और जनता को गुमराह कर अपना मकसद पूरा करना है। अगर वे किसानों के सच्चे हितैषी होते तो किसानोंं की जमीन बचाने के लिए खड़े हो गए होते। एक साल तक आंदोलन चलाने के लिए बेहिसाब पैसे खर्च किए गए। उन पैसों से इन गरीब किसानों के कर्ज की अदायगी कर उनकी जमीन की नीलामी से बचाया जा सकता था। लेकिन इन किसानों की आवाज उठाने के लिए न तो कोई किसान संगठन है और न ही चंदा देने के लिए एनआरआई।  

थानागाजी में छह किसानों की जमीन नीलाम होने पर बीजेपी ने तीखा हमला किया है। केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत ने राहुल गांधी और गहलोत सरकार को घेरा है। शेखावत ने ट्वीट कर सवाल पूछा कि कहां गए किसानों की कर्जमाफ़ी का वादा करने वाले राहुल गांधी और अशोक गहलोत? ये नीलामी कांग्रेस की नीतियों का नतीजा है। अब क्या राहुल इन किसानों की रोजी – रोटी चलाएंगे? जमीन और कर्जमाफी पर कांग्रेस पर भरोसा कभी न करें। ये नामदार लोगों की पार्टी है जमीन के जिसके खेल छिपे नहीं हैं।

गौरतलब है कि राजस्थान क्षेत्रीय ग्रामीण शाखा थानागाजी ने कर्ज नहीं चुकाने पर छह किसानों की जमीनें नीलाम कर दीं। तहसीलदार अक्षय प्रेम चेयरवाल के मुताबिक करीब 42 बीघा काश्तकारी जमीन 79.64 लाख रुपये में नीलाम की गई है। इन छह किसानों के करीब 41 लाख रुपये बकाये थे। इनमें से चौथाई राशि 19.1 लाख रुपये जमा करा दिया है।

Leave a Reply