Home समाचार अमेरिकी विदेश नीति विशेषज्ञ ने की पीएम मोदी की तारीफ, कहा- महामारी...

अमेरिकी विदेश नीति विशेषज्ञ ने की पीएम मोदी की तारीफ, कहा- महामारी के बावजूद दुनिया की सबसे बड़ी उभरती हुई शक्ति बना हुआ है भारत

685
SHARE

कोरोना महामारी से निपटने को लेकर मोदी सरकार की आलोचना करने वालो को सऊदी अरब के अरब न्यूज में प्रकाशित एक रिपोर्ट से करारा जवाब मिला है। रिपोर्ट में कहा गया है कि कोविड-19 मामलों में रिकॉर्ड बढ़ोत्तरी ने भारत को काफी नुकसान पहुंचाया है, लेकिन इसके बाद भी वो सबसे बड़ी और तेजी से उभरती शक्ति बना हुआ है। इस रिपोर्ट में पीएम मोदी की भी तारीफ की गई है।

रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत में कई मूलभूत ताकतें हैं, जो उसे दुनिया के सबसे शक्तिशाली देशों में से एक बना देंगी। कोरोना महामारी से निपटने को लेकर मोदी सरकार की आलोचना करने वालों को भी रिपोर्ट में कड़ी फटकार लगाई गई है। अमेरिकी विदेश नीति विशेषज्ञ डॉ जॉन सी हल्समैन ने ‘अरब न्यूज’ के एक कार्यक्रम में भारत की तारीफ करते हुए कहा कि उसकी राजनीतिक शक्ति संरचना स्थिर है।

हल्समैन ने इस दौरान प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की भी तारीफ की। उन्होंने कहा, ‘नरेन्द्र मोदी और बीजेपी दोनों राजनीतिक रूप से इस तरह सुरक्षित हैं कि अन्य विकासशील देश केवल भारत से ईर्ष्या कर सकते हैं।’ उन्होंने आगे कहा कि वायरस के मामलों में अधिक वृद्धि के कारण भारत ने अपने स्वास्थ्य ढांचे पर दबाव महसूस किया है और इसे लेकर उसकी आलोचना भी हुई है, जो सही नहीं है।

अपनी रिपोर्ट में हल्समैन ने तर्क दिया है कि विश्लेषणात्मक खतरा भारत की मौजूदा दुखद समस्याओं को देखना है, जबकि सतह के नीचे मौजूद स्थायी परिवर्तनों पर किसी का ध्यान नहीं है, जो उसे दुनिया में सबसे बड़ी बढ़ती शक्ति बनाते रहेंगे। गौरतलब है कि कोरोना की दूसरी लहर के दौरान देश में बुनियादों सुविधाओं की कमी को लेकर सरकार को आलोचना झेलनी पड़ी है।

हल्समैन ने कहा कि राजनीतिक लाभों के साथ, भारत की जनसांख्यिकी इसे एक शक्तिशाली सापेक्ष लाभ प्रदान करती है। यह 2024 तक चीन को दुनिया के सबसे अधिक आबादी वाले देश के रूप में पार करने का अनुमान है। महत्वपूर्ण रूप से, भारत की 50 प्रतिशत से अधिक आबादी 25 वर्ष से कम आयु की है और 65 प्रतिशत है। 


भारत के मजबूत आंकड़ों की ओर इशारा करते हुए विदेश नीति विशेषज्ञ ने कहा कि आर्थिक आंकड़े “झूठ नहीं बोलते।” “2050 तक, यह अनुमान है कि भारत वैश्विक सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) का चौंकाने वाला 15 प्रतिशत हिस्सा होगा। कोविड -19 आर्थिक रसातल से बाहर आकर, उपमहाद्वीप नए सिरे से विकास के एक सुनहरे युग के लिए तैयार है।”

उन्होंने यह भी याद दिलाया कि कैसे अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष का अनुमान है कि भारत की अर्थव्यवस्था इस वर्ष प्रभावशाली 11.5 प्रतिशत की दर से बढ़ने वाली है, जो कि एकमात्र प्रमुख वैश्विक अर्थव्यवस्था है जिसे दोहरे अंकों की वृद्धि का अनुभव करने की भविष्यवाणी की गई है।

Leave a Reply