Home समाचार फेक अकाउंट और पुरानी तस्वीरों के जरिए सोशल मीडिया पर चलाया जा...

फेक अकाउंट और पुरानी तस्वीरों के जरिए सोशल मीडिया पर चलाया जा रहा है NEET-JEE परीक्षा के खिलाफ अभियान

600
SHARE

लाखों स्टूडेंट्स के भविष्य और सुप्रीम कोर्ट के फैसले के मद्देनजर केंद्र सरकार ने JEE और NEET परीक्षा कराने का फैसला किया है, लेकिन कांग्रेस और कुछ गैरजिम्मेदार राजनीतिक पार्टियां इसके खिलाफ देशभर के युवाओं को उकसाने का प्रयास कर रही हैं। इसके अलावा सोशल मीडिया के जरिए भी युवाओं को भ्रमित करने की साजिश रची जा रही है। कई फर्जी ट्वीट अकाउंट से पुरानी तस्वीरें पोस्ट कर JEE और NEET परीक्षा के खिलाफ अभियान चलाया जा रहा है। रीता नाम के हैंडल से इस बात का खुलासा किया गया है कि किस तरह कुछ लोग फेक अकाउंट से परीक्षा के खिलाफ अभियान चला रहे हैं।

देबजानी नाम के हैंडल से भी इस बात का खुलासा किया गया है कि कुछ लोग साजिश के तहत युवाओं में भ्रम फैलाने की कोशिश कर रहे हैं कि छात्र JEE-NEET परीक्षा के खिलाफ हैं। 

केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने दूरदर्शन के साथ बातचीत में बताया कि सुप्रीम कोर्ट के फैसले और छात्रों-अभिभावकों के दवाब के मद्देजनर NEET-JEE परीक्षा कराने का फैसला किया है ताकि स्टूडेट्स का साल बर्बाद न हो। उन्होंने बताया कि JEE परीक्षा के लिए अब तक 85 फीसदी स्टूडेंट्स एडमिट कार्ड डाउनलोड कर चुके हैं। निशंक ने कहा कि छात्रों की सुविधा को देखते हुए परीक्षा केंद्र आवंटित किए गए हैं। आपको बता दें कि JEE की परीक्षा 1-6 सितंबर के बीच होनी हैं जबकि NEET परीक्षा 13 सितंबर को होगी। 

आज तक के मुताबिक सोशल डिस्टेंसिंग को लेकर नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (NTA) के डीजी विनीत जोशी ने कहा कि पहले एक क्लासरूम में 25 स्टूडेंट रहते थे, लेकिन अब सिर्फ 12 बच्चों बैठाया जाएगा। छात्रों को लेकर NTA डीजी विनीत जोशी ने बताया कि हमने ABHYAS ऐप बनाई है, जिसके जरिए छात्रों को कोचिंग दी जा रही है। अब तक 16 लाख बार ये एप्लिकेशन डाउनलोड की जा चुकी है, जबकि छात्रों ने करीब सौ टेस्ट ऐप पर ही किए हैं।

उधर, कांग्रेस और दूसरी राजनीतिक पार्टियां JEE-NEET परीक्षा को लेकर राजनीति करने पर उतर गई है। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने आज NEET और JEE परीक्षा को लेकर 7 गैर बीजेपी शासित राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक की। इस बैठक में राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत, छत्तीसगढ़ के सीएम भूपेश सिंह बघेल, पंजाब के सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह, पुडुचेरी के सीएम नारायणसामी, महाराष्ट्र के सीएम उद्धव ठाकरे, झारखंड के सीएम हेमंत सोरेन और पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने हिस्सा लिया। ये सभी राज्य कोरोना काल में NEET और JEE की परीक्षा टालने की मांग कर रहे हैं। हालांकि हकीकत यह है कि ये सभी मुख्यमंत्री अपने राज्यों में सारी गतिविधियों की अनुमति दे रखी हैं।  

 

Leave a Reply