Home कोरोना वायरस ग्लोबल वैक्सीन शिखर सम्‍मेलन में पीएम मोदी ने कहा- विश्व के साथ...

ग्लोबल वैक्सीन शिखर सम्‍मेलन में पीएम मोदी ने कहा- विश्व के साथ एकजुट होकर खड़ा है भारत, GAVI को 15 मिलियन डॉलर भी दिए

701
SHARE

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने भारत की ओर से अंतरराष्ट्रीय वैक्सीन गठबंधन गावी को 15 मिलियन अमेरिकी डॉलर की मदद दी है। गुरुवार को पीएम मोदी ने ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन की ओर से आयोजित वर्चुअल ग्लोबल वैक्सीन शिखर सम्मेलन को संबोधित किया। पीएम मोदी ने कहा कि भारत इस चुनौतीपूर्ण समय में दुनिया के साथ एकजुट होकर खड़ा है। उन्होंने भारतीय संस्कृति की ‘वसुधैव कुटुम्बकम’ की भावना का जिक्र करते हुए कहा कि कोरोना महामारी के दौरान भारत ने इस शिक्षा को जीने की कोशिश की। भारत ने देश में दुनिया के 120 से अधिक देशों को दवाओं उपलब्ध कराई और उनकी हर संभव चिकित्सीय मदद की।

इस सम्मेलन में 50 से अधिक देशों के राष्ट्राध्यक्षों और विभिन्न देशों के बिजनेस लीडर्स ने भाग लिया। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि कोविड-19 महामारी ने कुछ मायनों में वैश्विक सहयोग की सीमाओं को उजागर कर दिया है और हाल के इतिहास में ऐसा पहली बार है कि मानव जाति को एक समान शत्रु का सामना करना पड़ा है प्रधानमंत्री मोदी ने अंतर्राष्ट्रीय वैक्सीन गठबंधन ‘GAVI’ के बारे में कहा कि यह महज वैश्विक गठबंधन नहीं है, बल्कि यह वैश्विक एकजुटता का एक प्रतीक है और यह याद दिलाता है कि दूसरों की सहायता करके ही हम अपनी भी सहायता कर सकते हैं। पीएम मोदी नें कहा कि भारत की जनसंख्या काफी ज्यादा है और स्वास्थ्य सुविधाएं सीमित हैं, जिससे रोग प्रतिरक्षण के महत्व का भी पता चलता है।

शिखर सम्मेलन को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि गावी को हमारा समर्थन केवल वित्तीय नहीं है। भारत की भारी मांग टीकों की वैश्विक कीमत को कम करती है। आज के चुनौतीपूर्ण संदर्भ में मैं दोहराना चाहता हूं कि भारत दुनिया के साथ एकजुट खड़ा है। कम लागत पर गुणवत्तापूर्ण दवाएं और टीके का उत्पादन करने की हमारी सिद्ध क्षमता, तेजी से फैलते टीकाकरण में हमारा अपना घरेलू अनुभव हैं। हमारा उद्देश्य मानवता की सेवा है।

कोरोना वैक्सीन के बारे में बात करते हुए पीएम मोदी ने कहा अंतर्राष्ट्रीय वैक्सीन गठबंधन GAVI को भारत ने 15 मिलियन डॉलर दिए है। उन्होंने आगे कहा कि भारत न केवल वैश्विक स्वास्थ्य प्रयासों में योगदान करने की क्षमता रखता है, बल्कि साझा करने और देखभाल करने की भावना के साथ ऐसा करने की इच्छा भी रखता है।

Leave a Reply