Home समाचार भाजपा नेता ने भ्रष्टाचार के खिलाफ अन्ना हजारे की मदद क्या मांगी,...

भाजपा नेता ने भ्रष्टाचार के खिलाफ अन्ना हजारे की मदद क्या मांगी, अन्ना ने खुद को रेडिमेट दुकान का कपड़ा बता दिया

739
SHARE

अन्ना हजारे के त्याग और बलिदान पर तो सवाल खड़ा नहीं किया जा सकता। लेकिन जिस प्रकार उन्होंने भ्रष्टाचार के खिलाफ चयनित आंदोलन और भेदभावकारी नीति अपनायी है, उससे भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ाई में उनकी प्रतिबद्धता पर सवाल खड़े हो रहे हैं। दिल्ली भाजपा के प्रमुख आदेश गुप्ता ने सोमवार को अन्ना हजारे को पत्र लिखकर अरविंद केजरीवाल सरकार के खिलाफ अपनी पार्टी के जन आंदोलन में शामिल होने का आग्रह किया था। लेकिन अन्ना हजारे ने बीजेपी की अपील ठुकरा कर खुद को रेडिमेड दुकान का कपड़ा बता दिया।

चेले के खिलाफ आंदोलन करने से बचते गुरु 

दिल्ली भाजपा के पत्र के जवाब में अन्ना हजारे ने जो पत्र लिखा है, उसमें उन्होंने जिस भाषा और शब्दावली का इस्तेमाल किया, उससे पता चलता है, वे अरविंद केजरीवल को खिलाफ आंदोलन करने से बचने की कोशिश कर रहे हैं। जरा पत्र की भाषा पर गौर कीजिए। वो लिखते हैं – “आपके पार्टी में बड़ी संख्या में युवक होते हुए और विश्व में सबसे ज्यादा पार्टी सदस्य होने का दावा करने वाले पार्टी के नेता 83 साल के मंदीर में 10 बाय 12 फीट के कमरे में रहने वाले अन्ना हजारे जैसे फकीर आदमी को जिसके पास धन नहीं, दौलत नहीं, सत्ता नहीं ऐसे आदमी को दिल्ली में आंदोलन करने के लिए बुला रहे हैं इस से ज्यादा दुर्भाग्यपूर्ण बात और क्या हो सकती।”

पक्षपातपूर्ण है भ्रष्टाचार के खिलाफ अन्ना का आंदोलन

अन्ना हजारे ने पत्र में लिखा है, “मैंने किसी पक्ष और पार्टी को देखते हुए आंदोलन नहीं किया है। हमें पक्ष और पार्टी का कोई लेनदेन नहीं है। सिर्फ गांव, समाज और देश की भलाई यह सोचकर आंदोलन करते आया हूं।” लेकिन अन्न हजारे की ये बात गले नहीं उतरी है। मार्च 2018 में मोदी सरकार के खिलाफ आंदोलन का फैसला किया, जबकि तीन सालों के दौरान मोदी सरकार के खिलाफ भ्रष्टाचार के कोई आरोप नहीं लगे थे। ऐसे में सवाल उठाता है कि क्या अन्ना का भ्रष्टाचार के खिलाफ आंदोलन पक्षपातपूर्ण है ?

केजरीवाल के भ्रष्टाचार पर चुप्पी क्यों?

भाजपा के अनुरोध को ठुकराने से लगता है कि अन्ना हजारे को अरविंद केजरीवाल का भ्रष्टाचार दिखाई नहीं देता है। यहां तक कि रिश्तेदारों के साथ वो घोटाले में फंसे, भ्रष्टाचार के आरोप में कई मंत्रियों की कुर्सी गई, लेकिन अन्ना को कभी इन लोगों के खिलाफ आंदोलन करने का मन नहीं किया। आखिर क्यों?

खुद को बताया रेडिमेड दुकान का कपड़ा 

अन्ना ने खुद कपड़ों की तरह इस्तेमाल होने दिया

अन्ना हजारे खुद स्वीकार करते हैं, कि पार्टियों ने अपनी सुविधा के अनुसार इस्तेमाल किया। ऐसे में सवाल उठता है कि क्या पार्टियों ने उनका फायदा उठाया या उन्होंने जानबूझकर अपना इस्तेमाल होने दिया ? कई नेताओं ने अन्ना हजारे का इस्तेमाल किया और उनसे किनारा कर लिया। कई ऐसे मौके आए, जब अन्ना हजारे ने किसी खास मकसद से भ्रष्टाचार के खिलाफ आंदोलन का फैसला किया। 

केजरीवाल ने किया अन्ना हजारे का इस्तेमाल

अन्ना हजारे के नेतृत्व में जनलोकपाल की ऐतिहासिक लड़ाई हुई, जिनके अनशन के सामने पूरी सरकार ने घुटने टेक दिए। पर, स्वार्थ का राजनीतिक फल खाने के लिए केजरीवाल ने अन्ना को ही ठेंगा दिखला दिया। केजरीवाल ने सारे आंदोलन को अपने हाथ में ले लिया। केजरीवाल ने कहना शुरु कर दिया कि राजनीति का कीचड़ साफ करना है तो कीचड़ में उतरना ही पड़ेगा। अन्ना के विरोध के बाद भी केजरीवाल ने 26 नवंबर 2012 को आम आदमी पार्टी का गठन कर दिया। 

ममता के साथ मंच शेयर करने को तैयार थे अन्ना

अन्ना हजारे राजनीति से दूरी बनाए रखने की बात तो हमेशा करते रहे हैं लेकिन वह कब किस नेता के साथ मंच शेयर करने को तैयार हो जाएं, कहना मुश्किल है। ऐसा ही एक संदर्भ सामने आया था 12 मार्च 2014 को जिसमें पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के साथ वो दिल्ली के रामलीला मैदान पर मंच शेयर करने को तैयार हो गए थे। हालांकि अन्ना तबियत खराब होने का हवाला देकर उस रैली में शामिल नहीं हुए थे। लेकिन बताया ये भी गया कि रैली में सिर्फ चार हजार लोगों के आने की जानकारी पाकर अन्ना अत्यंत निराश थे। भले अन्ना इस रैली से दूर रहे थे लेकिन यह प्रकरण एक बार फिर बता गया था कि अन्ना को आसानी से कन्विंस करने का मौका निकालने वाले नेताओं की कमी नहीं।

अपनी भूल से भी सबक लेने को तैयार नहीं हैं अन्ना

अन्ना ने पत्र में लिखा, “सत्ता कोई भी पक्ष या पार्टी की क्यों ना हो जबतक व्यवस्था नहीं बदलेगी तबतक लोगों को राहत नही मिलेगी। इसलिए मैं फिर दिल्ली में आने से कोई फर्क नहीं आयेगा ऐसी मेरी धारणा है।” अन्ना हजारे के इस बात से सवाल उठता है कि जिस व्यवस्था बदलाव की वह बात कर रहे हैं, उसमें बदलाव कैसे आएगा, जब वह इस बदलाव का हिस्सा नहीं बनते हैं ? क्या वह मान चुके हैं कि अब उनका जादू खत्म हो चुका है ? क्या वह अपने चेले को बचाना चाहते हैं ? अन्ना हजारे खुद कह चुके हैं कि अरविंद केजरीवाल जैसे लोगों को अपने आंदोलन से जोड़ना उनके जीवन की बड़ी भूल थी। लेकिन लगता है अपनी बड़ी भूल से भी सबक लेने को तैयार नहीं हैं। 

Leave a Reply