Home समाचार एक किसान परिवार बना छह हजार परिवारों का सहारा

एक किसान परिवार बना छह हजार परिवारों का सहारा

729
SHARE

इस संकट की घड़ी में जरूरतमंद लोगों की मदद करने की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अपील का असर बड़े-बड़े उद्योगपतियों पर ही नहीं पड़ा है बल्कि ग्रामीण क्षेत्र के किसानों पर भी पड़ा है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अपील का असर जोधपुर के उम्मेदनगर के एक किसान पर पड़ा है। कोरोना संकट के इस दौर में गरीबों की मदद की कई कहानी सामने आई है। सभी लोग अपनी-अपनी क्षमता के अनुरूप जरूरतमदों की सेवा कर रहे हैं। लेकिन उम्मेदनगर निवासी किसान पाबूराम मंडा ने जरूरतमदों की मदद के लिए अपनी जीवन भर की कमाई ही लगा दी है।

संकट की घड़ी में गरीबों की मदद

उम्मेदनगर निवासी पाबूराम मंडा और उनकी पत्नी मुन्नीबाई ने अपनी जीवन भर की पूंजी जरूरतमदों की मदद में लगा दी। बता दें कि पाबूराम मंडा ने अपनी 50 लाख रुपये की राशि अपने इलाके के 80 गांवों के गरीब परिवारों की मदद करने के लिए लगा दी है। उन्होंने इस राशि से छह हजार परिवारों की मदद करने में जुट गए हैं।

80 गांवों में गरीबों को पहुंचाए जा रहे राशन

इन बुजुर्ग दंपति ने अपने इलाके के 80 गांवों के गरीबों को राशन पहुंचाने का फैसला किया है। अपनी 50 लाख रुपये की राशि से उन्होंने 80 गांवों के 6000 परिवारों को चिह्नित कर उन्हें राशन के पैकेट पहुंचाने का काम किया जा रहा है। अभी तक 2000 लोगों तक मदद पहुंचाई जा चुकी है। और अभी चार हजार लोगों तक मदद पहुंचाने का काम जारी है। सभी गरीब परिवारों को राशन का पैकेट दिया जा रहा है, ताकि इस संकट की घड़ी में उन्हें खाने-पीने की दिक्कत न हो।

बुजुर्ग ने बढ़ाए हाथ, प्रशासन ने दिया साथ

बुजुर्ग दंपति के इस प्रेरक काम को अंजाम तक पहुंचाने में स्थानीय प्रशासन ने भी पूरा साथ दिया है। स्थानीय प्रशासन की मदद से ही बुजुर्ग दंपति ने संपूर्ण लॉकडाउन की वजह से भोजन जैसी बुनियादी जरूरतों के संकट से जूझ रहे परिवारों की पहचान की है। इस प्रकार मंडा परिवार ने अभी तक इस इलाके के 2000 से भी अधिक परिवारों को खाने का समान पहुंचा चुका है। बांकि परिवारों को भी बुनियादी सामान भेजा जा रहा है।

देवकी भंडारी ने पीएम केयर फंड में दी जीवनभर की कमाई 

वैश्विक महामारी कोरोना से लड़ने के लिए पीएम केयर्स फंड में दान देने की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अपील का क्या गरीब और क्या अमीर सभी पर एक समान असर पड़ा है। पीएम केयर्स फंड में कई ऐसे लोगों ने दान दिए हैं जिनपर पूरे देश को गर्व है। उत्तराखंड की एक ऐसी महिला हैं देवकी भंडारी, जिन्होंने पीएम मोदी के आह्वान पर अपनी जीवन भर की कमाई पीएम केयर्स फंड में दान दे दिया है। पीएम मोदी के आह्वान पर  60 वर्षीय महिला देवकी भंडारी ने अपने जीवन भर की कमाई पीएम केयर फंड में दान दिया है। यह धनराशि 10 लाख रुपये की है। देवकी भंडारी उत्तराखंड के चमोली के गौचर की निवासी हैं। कोरोना वायरस के संकट की इस घड़ी में उन्‍होंने अपने जीवन में कमाई सारी पूंजी पीएम केयर फंड में दान कर दिया है। देवकी भंडारी का कहना है कि देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से प्रभावित होकर उन्होंने ये निर्णय लिया है। देवकी भंडारी के पति रेशम विभाग से सेवानिवृत्त हुए और वो अब वह इस दुनिया में नहीं है। देवकी भंडारी की अपनी संतान नहीं हैं और वो फिलहाल वह गरीब बच्चें को पढ़ा भी रही हैं।

 

Leave a Reply