Home समाचार क्विक रिएक्शन: स्वदेशी मिसाइल का सफल परीक्षण

क्विक रिएक्शन: स्वदेशी मिसाइल का सफल परीक्षण

पीएम मोदी के नेतृत्व में सशक्त हो रही भारत की रक्षा शक्ति

300
SHARE

रक्षा मंत्री अरुण जेटली ने जब चीन को दो टूक कहा कि भारत अब 1962 वाला भारत नहीं है, तो चीन बौखला गया। लेकिन सच्चाई तो यही है प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में सशक्त और सक्षम भारत को चीन अब हल्के में लेने की जुर्रत नहीं करेगा। वजह भी साफ है, भारत ने रक्षा क्षेत्र में जबरदस्त विकास किया है, न सिर्फ अन्य मित्र देशों के सहयोग से, बल्कि भारत अपने बलबूते भी रक्षा क्षेत्र में लगातार सशक्त होता जा रहा है। सोमवार को सुबह के 11.25 बजे जब ओडिशा के समुद्री तट से एक स्वदेशी मिसाइल का सफल परीक्षण किया तो यह हमारी सेना की शक्ति में इजाफे का एक और अध्याय जोड़ गया।

स्वदेशी मिसाइल का सफल परीक्षण
भारत ने सोमवार को ओडिशा तट से जमीन-से-हवा में कम दूरी तक मार सकने वाली स्वदेशी मिसाइल का सफल परीक्षण किया। ओडिशा के चांदीपुर के पास एकीकृत परीक्षण रेंज (आईटीआर) के लॉन्च कॉम्पलेक्स संख्या तीन से अत्याधुनिक मिसाइल का परीक्षण किया गया। हवा में मौजूद लक्ष्य को निशाना बनाकर दागी गई इस अत्याधुनिक मिसाइल का यह दूसरा विकास परीक्षण था।

20-30 किलोमीटर है मारक क्षमता
इस मिसाइल का पहला परीक्षण चार जून 2017 को इसी प्रक्षेपण स्थल से किया गया था। यह मिसाइल कई लक्ष्यों को एक साथ साधने में सक्षम है। इसकी मारक क्षमता 25 से 30 किमी है। त्वरित प्रक्रिया मिसाइल के तौर पर डिजाइन की गई इस मिसाइल में हर मौसम में काम करने वाली हथियार प्रणाली लगी है।

DRDO ने किया है मिसाइल का विकास
रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन (DRDO) और अन्य संस्थानों ने यह मिसाइल विकसित की है। मिसाइल की खासियत ये है कि यह बिना भटके एक साथ कई लक्ष्यों को सफलता के साथ साध सकती है। इसके अलावा इस मिसाइल को हर मौसम में काम करने वाली प्रणाली से लैस किया गया है।

LEAVE A REPLY