Home समाचार अपनी प्रिय ‘काशी’ के लिए फिर उमड़ा मोदीजी का प्यार, की सौगातों...

अपनी प्रिय ‘काशी’ के लिए फिर उमड़ा मोदीजी का प्यार, की सौगातों की बौछार

271
SHARE

बाबा विश्वनाथ की नगरी और अपने निर्वाचन क्षेत्र वाराणसी के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का प्यार छुपाए नहीं छिपता। आज काशी में ढाई हजार करोड़ रुपये की परियोजनाओं के लोकार्पण और शिलान्यास के दौरान पीएम मोदी ने काशीवासियों के अपने प्रति प्यार और विश्वास को सूद समेत लौटाने की कोशिश की। पीएम मोदी ने काशी में ज देश के पहले मल्टीमॉडल टर्मिनल के उद्घाटन किया। इस मौके पर पीएम मोदी ने कहा कि ये दिन काशी समेत पूर्वांचल, पूर्वी भारत और सारे देश के लिए बेहद ऐतिहासिक मौका है

विकास और रोजगार का ‘जलमार्ग’

पूर्वी भारत के मुख्य शहर काशी को ढेर सारी सौगात देते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि अब काशी पूर्वी भारत के विकास का केंद्र बन गया है। वाराणसी से पश्चिम बंगाल के हल्दिया तक के देश के पहले जल मार्ग पर पहले कंटेनर वेसल का स्वागत करने खुद पीएम मौजूद रहे। उन्होंने कहा कि अब काशी से बिहार, झारखंड और पश्चिम बंगाल का जल मार्ग खुल गया है। इससे इलाके के लोगों को बेहद सस्ती माल और यात्री सेवा मिल सकेगी। इसके अलावा काशी और उसके आसपास के इलाके के वस्त्र उत्पाद के लिए न केवल पूरे देश बल्कि विदेशों तक भी बाजार और कारोबार खुल गया है। उन्होंने कहा कि काशी में उतरने वाले सामान के हर कंटेनर के साथ समय और रुपये की भारी बचत हो रही है जिससे यहां विकास और रोजगार के नए नए द्वार खुलेंगे।

दरअसल प्राचीन समय से इसी मार्ग से काशी पूर्वी भारत का व्यापारिक केंद्र था लेकिन आजादी के बाद से इन जल मार्ग को बिल्कुल भुला दिया गया। उन्होंने कहा कि काशी के लिए, पूर्वांचल, पूर्वी भारत, पूरे भारत वर्ष के लिए ये दिन ऐतिहासिक है।  आज वाराणसी और देश विकास के उस कार्य का गवाह बना है जो दशकों पहले होना जरूरी था, लेकिन नहीं हुआ। आज का दिन इस बात का गवाह बना है संकल्प लेकर जब कार्य समय पर सिद्ध किये जाते हैं तो उसकी तस्वीर कितनी भव्य होती है, उज्जवल होती है, गौरमवमय होती है।

नए जमाने का नया ‘जलमार्ग’

अगली पीढ़ी के इनफ्रास्ट्रक्चर से पूर्वांचल का कायाकल्प हो रहा है। प्रधानमंत्री मोदी ने इसे दोहरी खुशी का मौका बताते हुए कहा कि काशी से हर भारतवासी का आध्यात्मिक संपर्क तो है ही, लेकिन अब काशी को दुनिया से जोड़ने वाले जल-थल-नभ तीनों को जोड़ने वाली ऊर्जा का संचार हुआ है। इससे देश का सपना काशी की धरती पर साकार हो गया है। काशी-हल्दिया के बीच जो कंटेनर सेवा शुरू हुई है उससे पूर्वांचल के कारोबार के बंगाल की खाड़ी के जरिए दुनियाभर को जोड़ने का रास्ता खुल गया है।

भव्य काशी, दिव्य काशी

बाबा विश्वनाथ की नगरी वाराणसी के चौतरफा विकास के लिए पीएम मोदी के कार्यकाल में कई काम किए गए है। इन कार्यों में बाबतपुर एयरपोर्ट से शहर को जोड़ने वाली फोर लेन सड़क, शहर से यातायात का दबाव कम करने के लिए रिंग रोड, बिजली के झूलते तारों से मुक्ति दिलाने के लिए बिजली के तारों को अंडरग्राउंड करना और मां गंगा में प्रदूषित पानी डालने से बचाने के लिए सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट शामिल है। पीएम मोदी ने इस मौके पर कहा कि बदलते हुए बनारस की भव्य और दिव्य तस्वीर बनाई जा रही है। आजादी के बाद पहली बार देश के जलमार्ग को व्यापार, कारोबार के लिए इतने बड़े पैमाने पर इस्तेमाल करने की क्षमता आई है। उन्होंने कहा कि जब चार साल पहले उन्होंने वाराणसी-हल्दिया जल मार्ग शुरू करने का विचार व्यक्त किया था तो कई लोगों ने इसका मजाक उड़ाया था लेकिन अब जब ये परियोजना साकार हो गई है तो ऐसे लोगों के मुंह पर ताले जड़ गए हैं। उन्होंने कहा कि ये जलमार्ग न्यू इंडिया के न्यू विजन का जीता जागता सबूत है। इससे देश के संसाधनों-सामर्थ्य पर भरोसा करने का भरोसा बढ़ा है। अब पूर्वांचल की कलाकारी, सब्जियां, अनाज, कच्चा माल सीधे पूर्वी भारत के बंदरगाहों तक आया-जाया करेगा।

नेचर, कल्चर और एडवैंचर का संगम

काशी की परंपरा और उसकी प्राचीनता को बरकरार रखते हुए पीएम मोदी ने विकास और आधुनिक सुख सुविधाओं का जो विजन दिया है, उससे अब जल्द ही काशी से रो-रो सर्विस शुरू होने की संभावना है। इससे पूर्वांचल के लोगों को आवागमन के लिए ट्रेन-बस-वायु मार्ग के अलावा जल मार्ग का भी रास्ता मिल जाएगा।  पीएम मोदी ने कहा कि देशभर में 100 से ज्यादा जलमार्ग विकसित किये जा रहे हैं। वाराणसी-हल्दिया मार्ग पर पांच हजार करोड़ रुपये खर्च किये जा रहे हैं। इससे न केवल कारोबार बल्कि पर्यटन के क्षेत्र में भी क्रांतिकारी परिवर्तन होगा। पर्यटकों को क्रूज टूरिज्म का मौका मिलेगा। पीएम मोदी मानते हैं कि सुगमता का सुविधा से सीधा रिश्ता होता है।

बाबतपुर एयरपोर्ट की तस्वीर बदली

पहले बाबतपुर एयरपोर्ट से वाराणसी को जोड़ने वाली सड़क जिस खस्ताहाल में थी उससे न केवल लोगों का वक्त और मूड खराब होता था बल्कि पर्यटकों के सामने किरकिरी होती थी लेकिन बाबतपुर से चार लेने की जो वर्ल्ड क्लास सड़क बनी है, उससे लोगों को रफ्तार और सुविधा का रोमांच मिल रहा है। लोग सोशल मीडिया पर सेल्फियां डाल रहे हैं और आसपास के जिले से कनेक्टिविटी बढ़ गई है। पीएम ने आज रामनगर हेलीपैड का शिलान्यास भी किया। उन्होंने कहा कि कनेक्टिविटी से टूरिज्म रोजगार के अलावा लोगो का देश के प्रति विश्वास और तंत्र के प्रति भरोसा भी बढ़ जाता है।

मोदी सरकार का ‘विकास मंत्र’

पीएम मोदी ने अपने कार्य और व्यक्तित्व के दम पर देश के लोगों में विकास को लेकर एक नया नजरिया बनाया है। पीएम ने कहा कि भाजपा की सरकारों के लिए देश और देशवासियों का विकास सबसे ऊपर है। उन्होंने कहा कि अब देश विकास की राजनीति चाहता है, वोट बैंक की राजनीति नहीं। इसी का नतीजा है कि देश के पूर्वोत्तर और दुर्गम इलाके में एयरपोर्ट और ट्रेन की पहली बार पहुंच रहे हैं। पीएम मोदी ने कहा कि सरकार महज संसाधनों के विकास पर ही ध्यान नहीं दे रही बल्कि लोगों के स्वास्थ्य और स्वच्छता पर भी पूरा फोकस कर रही है। इसी का नतीजा है कि चार साल पहले ग्रामीण स्वच्छता का दायरा चालीस फीसदी से भी कम था लेकिन अब वो बढ़कर 95 फीसदी हो गया है। इसके अलावा आयुष्मान भारत जैसी योजनाओं के लांच होने के करीब सवा महीने में दो लाख से ज्यादा गरीब मरीज गंभीर बीमारियों का इलाज करा चुके हैं।

मां गंगा की सेहत पर ध्यान

मोदी सरकार जीवनदायिनी नदियों की सेहत सुधारने के लिए भरपूर कोशिशें कर रही है। नमामि गंगे कार्यक्रम के तहत मां गंगा की सेहत से खिलवाड़ कर रहे गंदे नालों का ट्रीटमेंट हो रहा है और इसके लिए गंगा में गंदगी बहाने वाले सीवेज के लिए 400 करोड़ के प्रोजेक्ट का लोकार्पण और शिलान्यास पीएम ने किया। पीएम ने कहा कि पहले की सरकार पानी में पैसा बहा रही थी लेकिन अब सारा पैसा योजनाबद्ध तरीके से खर्च हो रहा है। मोदी सरकार ने गंगा सफाई के लिए 23 हजार करोड़ के प्रोजेक्ट मंजूर किये हैं जिसमें से 5 हजार करोड़ रुपये के कार्य पर काम चल रहा है।

काशीवासियों के लिए पीएम मोदी का संदेश

काशी की जो भव्य और दिव्य तस्वीर उभर रही है, वो दुनिया के लिए एक मिसाल है। पीएम ने कहा कि जनवरी में प्रवासी भारतीय दिवस काशी की धरती पर आयोजित हो रहा है। इसी दौरान प्रयागराज में अर्धकुंभ भी होना है, लिहाजा लाखों की संख्या में श्रद्धालू और टूरिस्ट काशी आएंगे। इस दौरान काशी आने वालों को ये अनुभव जीवनभर याद रहे, इसके लिए हर काशीवासी को जिम्मेदारी उठाना होगी। दरअसल मोदी सरकार हर कार्यक्रम में जन भागीदारी पर जोर देती है जिससे लोग सरकारी कार्यक्रम से न सिर्फ जुड़ रहे हैं बल्कि उन्हें और बेहतर करने में मदद भी कर रहे हैं। इसीलिये पीएम मोदी ने काशीवासियों से अपील की कि भव्य काशी को सहेजना है, सुरक्षित रखना है ताकि दुनिया में काशी का नाम गूंजता रहे।

LEAVE A REPLY