Home समाचार सोशल मीडिया पर नकेल कसने के लिए गाइडलाइंस जारी, रविशंकर प्रसाद ने...

सोशल मीडिया पर नकेल कसने के लिए गाइडलाइंस जारी, रविशंकर प्रसाद ने कहा- सोशल मीडिया का दोहरा चरित्र दिखता है, ऐसा नहीं चलेगा

366
SHARE

देश में केंद्र सरकार के खिलाफ माहौल बनाने के लिए सोशल मीडिया पर फर्जी खबरें और अपवाहें फैलायी जाती हैं। यहां तक कि ओटीटी प्लेटफॉर्म पर गालीगलौज की भाषा का खुलकर इस्तेमाल हो रहा है। वहीं कई न्यूज वेबसाइट बिना ठोस तथ्यों के खबरें चला देती हैं, जिससे देश का माहौल तनावपूर्ण हो जाता है। इस पर रोक लगाने के लिए मोदी सरकार ने गाइडलाइंस जारी की है। केंद्रीय आईटी मंत्री रविशंकर प्रसाद और सूचना-प्रसारण मंत्री प्रकाश जावडेकर ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर नई गाइडलाइन के बारे में जानकारी दी। 

केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा कि ये गाइडलाइन फॉलो करने के लिए सोशल मीडिया कंपनियों के पास तीन हीने का समय होगा। हालांकि इसके लिए किसी तरह का नया कानून नहीं बना है और आईटी एक्ट के अंदर ही इसका प्रावधान किया गया है। सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म रेग्यूलेशन के लिए कई प्वाइंटर्स गिनाए गए हैं। इनमें ग्रिवांस रिड्रेसल, वेरिफिकेशन से लेकर कंटेंट हटाए जाने तक शामिल है। सरकार या कोर्ट ऑर्डर पर सोशल मीडिया कंपनियों को कंटेंट हटाने होंगे।

गाइडलाइंस की मुख्य बिन्दु

  • सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म को शिकायत अधिकारी की नियुक्ति करनी होगी
  • चीफ कंपलायंस ऑफिसर की तैनाती करनी होगी
  • कानूनी एजेंसियों से तालमेल के लिए एक नोडल अधिकारी नियुक्त करना होगा
  • हर छह महीने में शिकायतों और उन पर की गई कार्रवाई की रिपोर्ट देनी होगी
  • कंटेंट कहां से शुरू हुआ यह बताना पड़ेगा, फर्स्ट ओरिजनेटर बताना पड़ेगा कि गड़बड़ी कहां से शुरू हुई
  • ऐसे अपराध जिनकी सजा पांच साल से अधिक है उनमें बताना पड़ेगा
  • सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म को स्वैच्छिक वैरिफिकेशन यूजर का ऑप्शन देना होगा
  • अगर किसी यूजर का कंटेंट हटाया जा रहा है या उसकी एक्सिस रोकी जा रही है, उसे बताना पड़ेगा कि ऐसा क्यों हुआ।

रविशंकर प्रसाद के मुताबिक भारत में सोशल मीडिया का दोहरा चरित्र दिखता है। दूसरे देशों में ऐसा नहीं है। हाल ही में लाल किला के मामले पर उन्होंने कहा कि भारत में सोशल मीडिया का डबल स्टैंडर्ड दिखाई दिया। इसलिए अब ऐसा नहीं चलेगा और उन्हें रेजिस्ट्रेशन फॉलो करना होगा।

रविशंकर प्रसाद ने कहा कि हिंसा के लिए सोशल मीडिया का इस्तेमाल हो रहा है। आतंकी भी सोशल मीडिया का इस्तेमाल कर रहे हैं। केंद्रीय आईटी मंत्री ने कहा कि आज सोशल मीडिया पर फेक न्यूज और अफवाहों की भरमार है और इसे रोकना जरूरी है। भारत में व्यापार के लिए सोशल मीडिया का स्वागत लेकिन दुरुपयोग बर्दाश्त नहीं होगा।

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि सोशल मीडिया का इस्तेमाल नफरत फैलाने के लिए हो रहा है। भारत में व्हाट्सएप के 53 करोड़, फेसबुक के यूजर 40 करोड़ से अधिक, ट्विटर पर एक करोड़ से अधिक यूजर है। भारत में इनका उपयोग काफी होता है। लेकिन पिछले कुछ समय से इनका दुरुपयोग हो रहा है। सुप्रीम कोर्ट ने ऑनलइन प्लेटफॉर्म पर डाले जाने वाले कंटेंट को लेकर गाइडलाइंस बनाने को कहा था। कोर्ट के आदेश के बाद ही नयी गाइडलाइंस बनाई गई है, जो 3 महीने में लागू कर दी जाएगी।

Leave a Reply