Home समाचार पीएम मोदी ने लिया ‘सोनार बांग्ला’ के निर्माण का संकल्प, जनता को...

पीएम मोदी ने लिया ‘सोनार बांग्ला’ के निर्माण का संकल्प, जनता को दिलाया ‘आशोल पोरिबोरतोन’ का भरोसा

554
SHARE

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी गुरुदेव रवींद्रनाथ टैगोर के सपने को पूरा करने के लिए ‘सोनार बांग्ला’ के संकल्प को लेकर आगे बढ़ रहे हैं। प्रधानमंत्री मोदी ने जनता को भरोसा दिलाया है कि आजादी के सत्तर साल बाद भी जिन सुविधाओं से वंचित है, उन्हें पूरा किया जाएगा। टीएमसी और ममता बनर्जी के तुष्टिकरण, हिंसा और भ्रष्टाचार से मुक्ति दिलाकर राज्य में ‘आशोल पोरिबोरतोन’ करेंगे। इस तरह से आत्मनिर्भर भारत अभियान में आत्मनिर्भर बंगाल बेहद महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा। आइए देखते हैं किस तरह प्रधानमंत्री मोदी पश्चिम बंगाल और जनता के विकास के लिए अथक प्रयास कर रहे हैं…. 

मोदी सरकार में पहली बार

  • पीएम मोदी ने नेताजी के सम्मान में 21 अक्टूबर, 2018 को आजाद हिन्द सरकार की 75वीं वर्षगांठ पर लाल किले से तिरंगा फहराया।
  • मोदी सरकार ने हर साल नेताजी की जयंती, यानि 23 जनवरी को ‘पराक्रम दिवस’ के रूप में मनाने का फैसला किया।
  • कोलकाता में ईस्ट-वेस्ट मेट्रो प्रोजेक्ट के तहत देश की पहली हुगली नदी के नीचे दौड़ने वाली मेट्रो ट्रेन की शुरुआत हुई।
  • हावड़ा मेट्रो स्टेशन साउथ एशिया का चौथा और भारत का सबसे गहरा मेट्रो स्टेशन है, जिसका निर्माण मोदी सरकार ने कराया है।
  • पीएम मोदी ने नोपाड़ा और दक्षिणेश्वर खंड में पहली मेट्रो सेवा को हरी झंडी दिखाई।
  • सिवोक-रैंगपो नई रेल लाइन बनायी जा रही है, जिसके जरिए पश्चिम बंगाल और सिक्किम को मार्च 2023 तक जोड़ दिया जाएगा।
  • पीएम मोदी ने जलपाईगुड़ी में कलकत्ता हाईकोर्ट के सर्किट बेंच का उद्घाटन किया।
  • मोदी सरकार ने 2020-21 के बजट में देश का पहला भारतीय धरोहर और संरक्षण संस्‍थान स्‍थापित करने का प्रस्‍ताव किया।
  • मोदी सरकार ने 7 अक्टूबर, 2015 को पश्चिम बंगाल के कल्याणी में में नए एम्स अस्पताल की स्थापना की मंजूरी दी।
  • नए कृषि सुधार कानूनों से पश्चिम बंगाल के किसानों को भी अपनी फसल कहीं पर, किसी को भी बेचने की आजादी मिली।
  • नागरिकता संशोधन कानून-2019 के लागू होने के बाद पश्चिम बंगाल में आए गैर-मुस्लिम शरणार्थियों को लाभ मिलेगा।
  • मोदी सरकार ने तीन तलाक के खिलाफ कानून लागू किया, जिससे पश्चिम बंगाल की मुस्लिम महिलाओं को इस कुप्रथा से आजादी मिली।