Home समाचार ईमानदार करदाताओं को झेलना पड़ता है टैक्स नहीं चुकाने वालों का भार...

ईमानदार करदाताओं को झेलना पड़ता है टैक्स नहीं चुकाने वालों का भार : Times Now Summit में पीएम मोदी

655
SHARE

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को टाइम्स नाउ टीवी चैनल के पहले समिट में हिस्सा लिया। उन्होंने कहा कि इस समिट की थीम India Action Plan 2020 है, लेकिन आज का India तो पूरे दशक के Action Plan पर काम कर रहा है। दुनिया का सबसे युवा देश अब तेजी से खेलने के मूड में है। सिर्फ 8 महीने की सरकार ने फैसलों की जो सेंचुरी बनाई है,वो अभूतपूर्व है।

पीएम मोदी कहा कि भारत ने पिछले पांच सालों में तेज गति से फैसले लिए हैं। नागरिकता संशोधन कानून, राम मंदिर निर्माण, तीन तलाक, आर्टिकल 370, बोडो शांति, सीडीएस गठन, नए मोटर वीइकल एक्ट समेत कई फैसले लिए गए। उन्होंने 5 ट्रिलियन इकॉनमी के लक्ष्य को लेकर अपनी प्रतिबद्धता को एक बार फिर दोहराया तो देशवासियों से टैक्स भरने की भी अपील की।

पीएम मोदी ने कहा कि पिछले पांच साल में देश में 1.5 करोड़ से ज्यादा कारों की ब्रिकी हुई है। तीन करोड़ से ज्यादा भारतीय बिजनेस के काम से या घूमने के लिए विदेश गए, लेकिन स्थिति ये है कि 130 करोड़ से ज्यादा के हमारे देश में सिर्फ 1.5 करोड़ लोग ही इनकम टैक्स देते हैं। इसमें से भी प्रति वर्ष 50 लाख से ज्यादा आय घोषित करने वालों की संख्या सिर्फ तीन लााख है। उन्होंने कहा कि टैक्स नहीं भरने का भार उन लोगों पर पड़ता है जो ईमानदारी से टैक्स अदा करते हैं।

प्रधानमंत्री ने कहा कि देश में बहुत सारे प्रोफेशनल्स अपने क्षेत्र में काफी बढ़िया काम रहे हैं और देश की सेवा कर रहे हैं, लेकिन ये भी एक सच्चाई है कि सिर्फ 2,200 प्रोफेशनल ही सालाना इनकम को एक करोड़ से ज्यादा बताते हैं। अकेले सुप्रीम कोर्ट मे ही इससे ज्यादा लोग होंगे, लेकिन स्थिति ये है कि पूरे देश में सिर्फ 2200 प्रोफेशनल्स की आय ही एक करोड़ है! 

पीएम मोदी ने कहा कि आज हम दुनिया के उन गिने चुने देशों में शामिल हो गए हैं, जहां टैक्स पेयर्स के अधिकारों को स्पष्टता से डिफाइन करने वाला टैक्सपेयर्स चार्टर भी लागू होगा। 

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि देश में हो रहे परिवर्तनों ने समाज के हर स्तर पर नई ऊर्जा का संचार किया है। आज देश के गरीब में ये आत्मविश्वास आ रहा है कि वो अपना जीवन स्तर सुधार सकता है। उन्होंने कहा कि अब भारत का लक्ष्य है कि अगले पांच साल में अपनी अर्थव्यवस्था को 5 ट्रिलियन डॉलर तक का विस्तार देना। ये लक्ष्य आसान नहीं है, लेकिन ऐसा भी नहीं कि जिसे प्राप्त ही नहीं किया जा सके। इस लक्ष्य की प्राप्ति के लिए ये बहुत आवश्यक है कि भारत में मैन्यूफैक्चरिंग बढ़े, Export बढ़े। इसके लिए सरकार ने अनेक फैसले लिए हैं।

उन्होंंने कहा कि पहली बार किसी सरकार ने छोटे शहरों की भी Economic Growth पर ध्यान दिया है। पहली बार किसी सरकार ने इन छोटे शहरों के बड़े सपनों को सम्मान दिया है। 

पीएम मोदी ने कहा कि वे Times Now के मंच से, सभी देशवासियों से ये आग्रह करूंगा कि देश के लिए अपना जीवन समर्पित करने वालों को याद करते हुए एक प्रण लें, संकल्प लें।  उन लोगों को याद करें जिन्होंने देश को आजाद कराने में अपने प्राणों की आहूति दे दी थी।

Leave a Reply