Home कोरोना वायरस महाराष्ट्र: कांग्रेस कार्यकर्ता उड़ा रहे हैं कोरोना प्रोटोकाल की धज्जियां, पार्टी नेता...

महाराष्ट्र: कांग्रेस कार्यकर्ता उड़ा रहे हैं कोरोना प्रोटोकाल की धज्जियां, पार्टी नेता की अंत्येष्टि में उमड़ा हुजूम

358
SHARE

पूरे देश में कोरोना महामारी के प्रकोप से जूझ रहा है, राज्यों में सख्त लॉकडाउन लगा हुआ है, लोग घरों से बाहर नहीं निकल रहे हैं, लेकिन महाराष्ट्र में जगह-जगह कोरोना प्रोटोकाल की धज्जियां उड़ाई जा रही हैं।महाराष्ट्र में हालात बेहद चिंताजनक है, इसके बावजूद वहां सत्ताधारी कांग्रेस पार्टी के नेताओं और कार्यकर्ताओं को इसकी जरा सी भी चिंता नहीं है। पिछले दिनों राज्य के सोलापुर और पुणे में कांग्रेस नेताओं की अंतिम यात्राओं में हजारों की संख्या में कांग्रेसी शामिल हुए हैं। कोरोना महामारी के दौरान इस तरह की लापरवाही मीडिया और सोशल मीडिया में चर्चा का विषय बनी हुई है।

सोलापुर जिले में पूर्व कांग्रेस पार्षद अनीता महेत्रे के पति एवं सामाजिक कार्यकर्ता करन महेत्रे का निधन हो गया था। करन महेत्रे सोलापुर के कांग्रेस विधायक प्रणति शिंदे के समर्थक थे। 16 मई को निकाली गई उनकी अंतिम यात्रा में कोरोना प्रोटोकाल और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं किया गया। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक करण महेत्रे की अंतिम यात्रा में बड़ी संख्या में कांग्रेसी कार्यकर्ता शामिल हुए, वो भी बिना मास्क पहने हुए।

कुछ इसी प्रकार पिछले दिनों कांग्रेस सांसद राजीव सातव के निधन के बाद उनके अंतिम संस्कार में भी इसी तरह का नजारा देखने को मिला था। राजीव सातव ने 16 मई को पुणे में अंतिम सांस ली थी। उनका अंतिम संस्कार उनके पैतृक गांव कलामनुरी में किया गया था। उनकी अंत्येष्टि में भी हजारों की संख्या में कांग्रेस कार्यकर्ता शामिल हुए थे और सोशल डिस्टेंसिंग की जमककर धज्जियां उड़ाई थी।

जब सत्ताधारी राजनीतिक दल के नेता और समर्थक ही लॉकडाउन, सोशल डिस्टेंसिंग और कोरोना प्रोटोकाल का पालन नहीं करेंगे, तो फिर आम लोग से क्या उम्मीद की जाए। पिछले दिनों पुणे में ही कुख्यात अपराधी माधव वाघटे के अतिम संस्कार में लॉकडाउन के नियमों को ताक पर रखकर हजारों की संख्या में बाइक के साथ लोग सड़क पर उतर गए थे और महाराष्ट्र सरकार की पुलिस तमाशा देखती रही।

जाहिर है कोरोना संकट के दौरान जहां हर जगह शादी और अंत्येष्टि आदि में सीमित संख्या में लोगों के शामिल होने की अनुमति है, वहीं महाराष्ट्र में कांग्रेस के लोग ही इसका पालन नहीं कर रहे हैं। कोरोना को लेकर बड़ी-बड़ी बातें करने वाले कांग्रेस नेता राहुल गांधी और दूसरे विपक्षी नेताओं को यह सब दिखाई नहीं देता है। अगर यह सब चलता रहा तो देश से कोरोना को खत्म करना असंभव होगा। सभी को अपनी जिम्मेदारी निभाते हुए भीड़-भाड़ से बचना ही होगा।

Leave a Reply