Home समाचार कोरोना से ठीक होने वालों की संख्या 23 लाख के पार के...

कोरोना से ठीक होने वालों की संख्या 23 लाख के पार के साथ रिकवरी रेट बढ़कर 75.27 प्रतिशत पर

693
SHARE

कोरोना संक्रमण को नियंत्रित करने के लिए कोविड टेस्टिंग की रफ्तार तेजी से आगे बढ़ रही है। इसके साथ ही देश में स्वस्थ होने की दर बढ़कर 75.27 प्रतिशत हो गई है। पिछले 24 घंटों में 57 हजार 469 मरीज स्वस्थ हुए हैं। बड़ी संख्या में मरीजों के ठीक होने, अस्पताल से छुट्टी मिलने और होम क्वारांटाइन के कारण कोरोना से ठीक होने वालों की कुल संख्या 23 लाख 38 हजार से अधिक हो गई है। यह मौजूदा एक्टिव मामलों से तीन गुना से ज्यादा है।

आंकड़ों से पता चलता है कि ठीक होने वाले रोगियों की संख्या पिछले कई महीनों से लगातार बढ़ रही है। केन्द्र सरकार की प्रभावी नीतियों के कारण कोविड अस्पतालों में सभी तरह के मरीजों के लिए बेहतर इलाज उपलब्ध हुआ है। बीमारी से ठीक होने वालों की बड़ी संख्या से साफ है कि देश में कोरोना के सक्रिय मामलों की संख्या में कमी आई है जो वर्तमान में कुल पॉजिटिव मामलों का केवल 22.88 प्रतिशत है।

स्वस्थ होने वालों की बढ़ती दर के साथ ही देश में इस संक्रमण से होने वाली मौतों का प्रतिशत भी कम हो रहा है। इस समय भारत में कोविड मरीजों की मृत्यु दर 1.85 प्रतिशत है जो दुनिया में सबसे कम में शामिल है।

भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद के अनुसार पिछले 24 घंटों में कोरोना संक्रमण के छह लाख (कुल 6,09,91) से अधिक टेस्ट किए गए। अब तक देश में तीन करोड 59 लाख (कुल 3,59,02,137) से अधिक टेस्ट किए जा चुके हैं। देश में प्रति दस लाख आबादी पर जांच की संख्‍या में 26,016 की तेज वृद्धि देखी गई है और इसमें लगातार तेजी आ रही है।

जांच के लिए राष्ट्रीय स्तर पर प्रयोगशालाओं की क्षमता भी बढाई गई है। इस समय कुल 1520 प्रयोगशालाओं के माध्यम से कोविड-19 नमूनों की जांच की जा रही है। इनमें से 984 सरकारी और 536 निजी प्रयोगशालाएं हैं।

कोरोना संबंधी तकनीकी सवाल technicalquery.covid19@gov.in और अन्‍य सवाल ncov2019@gov.in और @CovidIndiaSeva पर भेजे जा सकते हैं। कोरोना से संबंधित किसी भी प्रश्न का उत्‍तर जानने के लिए स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय के हेल्पलाइन नंबर: +91-11-23978046 या 1075 (टोल-फ्री) पर कॉल करें। कोरोना पर राज्यों-केंद्र शासित प्रदेशों के हेल्पलाइन नंबरों की सूची इस तरह है-

Leave a Reply