Home विपक्ष विशेष देखिए मौकापरस्त नेता चंद्रबाबू नायडू की हकीकत

देखिए मौकापरस्त नेता चंद्रबाबू नायडू की हकीकत

258
SHARE

तेलगू देशम पार्टी के अध्यक्ष और आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू एक ऐसे नेता हैं, जो मौका देखकर पाला बदलने में उस्ताद हैं। चार वर्षों तक एनडीए सरकार का हिस्सा रहे चंद्रबाबू नायडू ने अपनी स्वार्थ की राजनीति के लिए ही सरकार से पल्ला झाड़ा और अब भाजपा के खिलाफ माहौल बनाने में लगे हैं। चंद्रबाबू नायडू इन दिनों कांग्रेस से करीबी बढ़ा रहे हैं, कुछ दिनों पहले उन्होंने दिल्ली में राहुल गांधी से मुलाकात की थी और आंध्र प्रदेश में मिलकर चुनाव लड़ने को लेकर बातचीत की थी। इतना ही नहीं चंद्रबाबू नायडू ने भाजपा के विरोध में विपक्षी दलों का मोर्चा बनाने का भी बीड़ा उठाया है। यू टर्न लेने में माहिर चंद्रबाबू नायडू भारत के राजनीतिक इतिहास से सबसे बड़े धोखेबाज नेताओं में से एक हैं। चंद्रबाबू नायडू ने अपनी राजनीति के लिए हर किसी को धोखा दिया है। आइए देखते हैं पिछले साढ़े तीन दशक के राजनीतिक करियर वो किस तरह धोखा देते रहे हैं-

स्वार्थ की राजनीति का दूसरा नाम है चंद्रबाबू नायडू
आंध्र प्रदेश को विशेष राज्य का दर्जा नहीं दिए जाने को आधार बताते हुए तेलुगू देशम पार्टी (टीडीपी) के अध्यक्ष चंद्रबाबू नायडू ने इसी साल मार्च में एनडीए से अलग होने का फैसला किया था। उनका यह फैसला चार वर्षों तक केंद्र सरकार का हिस्सा बने रहने के बाद आया था। दरअसल, आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू का राजैनतिक इतिहास टटोलने पर पता चलता है कि वह हमेशा स्वार्थ की राजनीति करते रहे हैं। जब से उन्होंने राजनीति में कदम रखा है, सिर्फ अपने लिए ही राजनीति की है, उन्हें आंध्र प्रदेश और देश की जनता से कोई लेनादेना नहीं है। अपने राजनीतिक फायदे के लिए राज्य के लोगों की भावनाओं को भड़काना, खेमा बदलना, धोखा देना, ब्लैकमेल करना और विश्वास तोड़ना उनके चरित्र का हिस्सा रहा है।

‘केंद्र जो भी देगा मंजूर होगा’ कहकर किया पालाबदल
स्पेशल स्टेटस के नाम पर एनडीए छोड़ने वाले चंद्रबाबू नायडू ने कभी कहा था कि केंद्र से जो मिलेगा, वह उन्हें मंजूर होगा। उन्होंने खुद यह भी माना था कि स्पेशल स्टेटस से अधिक लाभकारी स्पेशल पैकेज है।

केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा था कि केंद्र फाइनेंस कमीशन की रिपोर्ट के आधार पर आंध्र प्रदेश को विशेष पैकेज देने को तैयार है। गौर करने वाली बात है कि इसके तहत भी वो सारी सुविधाएं मिलती हैं जो स्पेशल स्टेटस के तहत दी जाती हैं। चंद्रबाबू ने इस मामले पर 360 डिग्री की पलटी मारी और एनडीए से अलग हो गए। तेलगुदेशम कोटे के केंद्रीय मंत्री रहे सुजान चौधरी भी कह चुके थे कि विशेष दर्जे से अच्छा विशेष पैकेज है।

अपने ससुर का विश्वास जीतकर किया विश्वासघात
1980 में चंद्रबाबू नायडू की शादी आंध्र प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और तेलुगू देशम पार्टी के संस्थापक एनटी रामाराव की तीसरी बेटी से हुई। इसके कुछ ही महीने बाद चंद्रबाबू नायडू कांग्रेस छोड़कर ससुर की पार्टी में आ गए थे। 1984 में जब भास्कर राव ने एनटी रामाराव के तख्तापलट की कोशिश की थी तो चंद्रबाबू नायडू ने ससुर के पक्ष में विधायकों को जुटाये रखने में भूमिका निभाई थी। इससे खुश होकर एनटी रामाराव ने अपने इस दामाद को अपना राजनीतिक वारिस बना दिया। इसके बाद तो अगले कुछ ही सालों में चंद्रबाबू नायडू की राजनीतिक महत्वाकांक्षा का रंग दिखने लगा। 1989 में चंद्रबाबू नायडू खुद विपक्ष के नेता बन गए।  महत्वाकांक्षा का रंग उन पर इतना हावी हो चुका था कि 1995 तक आते-आते उन्होंने तेलुगू देशम पार्टी के संस्थापक रहे अपने ससुर को ही पार्टी से बाहर का रास्ता दिखा दिया।  

एनटी रामाराव का तख्ता पलटकर खुद बने थे मुख्यमंत्री
राजनीति में चंद्रबाबू नायडू का असली रूप क्या है, यह इस बात से पता चलता है। जिस सुसर को चंद्रबाबू नायडू भगवान मानते थे, जिसके सहारे राजनीति में वे आगे की ओर बढ़ते गए एक दिन उसी ससुर का तख्ता पलटने में उन्हें जरा भी हिचकिचाहट नहीं हुई। 1 सितंबर 1995 को वे ना सिर्फ तेलुगू देशम पार्टी के मुखिया बन बैठे, बल्कि बड़े शातिराना तरीके से यह इंतजाम भी कर लिया कि एनटी रामाराव की दूसरी पत्नी लक्ष्मी पार्वती उनके लिए कभी सियासी खतरा ना बन सकें। तब एनटीआर और उनकी पत्नी लक्ष्मी पार्वती ने नायडू को पीठ में खंजर भोंकने वाला और औरंगजेब बताया था।

झूठ की राजनीति में महारत
चंद्रबाबू नायडू अपनी राजनीति में झूठ के सहारे भावनाएं भुनाने की कोशिश करते रहे हैं। पिछले दिनों उन्होंने यह बताने की कोशिश की थी कि केंद्र सरकार उनके साथ कैसा सौतेला व्यवहार करती रही। उन्होंने कहा कि वे 29 बार दिल्ली गए लेकिन केंद्र सरकार ने हमेशा उनकी अनसुनी की। लेकिन खबरों की मानें तो प्रधानमंत्री ने ख़ुद 20 मिनट तक नायडू से फोन पर बात की थी और उन्हें उनके फैसले पर पुनर्विचार करने के लिए कहा था।

सत्ता की मलाई खाने में चंद्रबाबू का विश्वास
चंद्रबाबू नायडू की राजनीति का इतिहास बताता है कि सत्ता की मलाई चाटने में उनका विश्वास रहा है। केंद्र में भी वो इसी आधार पर साथ आते रहे हैं और साथ छोड़ते रहे हैं। 1998 में वे संयोजक का पद छोड़े बिना ही संयुक्त मोर्चा से अलग हो गए थे। तब से लेकर आज तक राजनीति में उनका रुख कभी इस पाले में तो कभी उस पाले में रहा है। 1990 के दशक के आखिर में उनकी पार्टी एनडीए का हिस्सा बनी थी। लेकिन 2004 में उन्होंने एनडीए से अलग होने का फैसला किया था। केंद्र में अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार बनी थी। उसके बाद उन्होंने टीआरएस से लेकर लेफ्ट तक के साथ पैक्ट किया। 2013 में जब उन्होंने एक बार फिर बीजेपी की ओर हाथ बढ़ाया तो उम्मीद की गई उन्होंने बीजेपी की विकासवादी राजनीति को महसूस किया है। लेकिन अब एनडीए से बाहर होकर वो एक बार फिर साबित कर गए हैं कि जिस थाली में वो खाते हैं उसी में छेद करने की उनकी सियासी फितरत रही है।

पॉवरगेम के माहिर खिलाड़ी हैं चंद्रबाबू नायडू
आइये देखते हैं उनके द्वारा लिए गए कुछ निर्णयों के बारे में जानते हैं जो उन्होंने राजनीतिक गुणा-भाग के आधार पर किए हैं।  

चंद्राबाबू नायडू का ट्रैक रिकॉर्ड

1983– कांग्रेस का साथ छोड़ा और एनटी रामा राव के साथ आए

1989-  एनटी रामा राव के बदले खुद विपक्ष के नेता बन बैठे

1995– एनटी रामा राव का तख्तापलट कर खुद मुख्यमंत्री बने

1998– संयोजक का पद छोड़े बिना ही संयुक्त मोर्चा से अलग हुए

2004- विधानसभा चुनाव में हार के बाद बीजेपी से अलग हुए नायडू

2009-  टीआरएस का साथ छोड़ा और अलग राज्य के लिए आंदोलन

2013 – लेफ्ट का साथ छोड़ भारतीय जनता पार्टी के साथ आए

2018- एक बार फिर भारतीय जनता पार्टी का साथ छोड़ दिया

LEAVE A REPLY