Home नरेंद्र मोदी विशेष तेजपुर यूनिवर्सिटी के दीक्षांत समारोह में बोली पीएम मोदी- कोरोना काल में...

तेजपुर यूनिवर्सिटी के दीक्षांत समारोह में बोली पीएम मोदी- कोरोना काल में आत्मनिर्भर भारत अभियान हमारे सपनों के अंदर घुलमिल गया है

109
SHARE

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने शुक्रवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए असम के तेजपुर विश्वविद्यालय के दीक्षांत समारोह को संबोधित किया। उन्होंने कहा कि आज 1200 से ज्यादा छात्रों के लिए जीवन भर याद रहने वाला क्षण है। आपके शिक्षक, आपके माता पिता के लिए भी आज का दिन बहुत अहम है। सबसे बड़ी बात आज से आपके कॅरियर के साथ तेजपुर विश्वविद्यालय का नाम हमेशा के लिए जुड़ गया है।

प्रधानमंत्री ने छात्रों से कहा कि हमें जीवन में अलग-अलग लोगों से ज्ञान लेना चाहिए, सीखना चाहिए और उस सीख के साथ आगे बढ़ते हुए अपने लक्ष्य को प्राप्त करना चाहिए। जब आप इसी अप्रोच के साथ आगे बढ़ेंगे, तो असम, नॉर्थ ईस्ट, देश के विकास में अपना योगदान दे पाएंगे। उन्होंने कहा कि आपने देखा होगा कोरोना के इस काल में आत्मनिर्भर भारत अभियान हमारी Vocabulary का अहम हिस्सा हो चुका है। हमारे सपनों के अंदर घुलमिल गया है, हमारा पुरुषार्थ, हमारे संकल्प , हमारी सिद्धि, हमारे प्रयास सबकुछ उसके इर्दगिर्द हम अनुभव कर रहे हैं।

इस दौरान उन्होंने भारतीय क्रिकेट टीम की जमकर सराहना की और उनके संघर्ष को सभी के समक्ष रखा। उन्होंने छात्रों को आगे बढ़ने की प्रेरणा भी दी।प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि इस टूर में क्या-क्या चुनौतियां नहीं आई, हमारी बहुत बुरी हार हुई लेकिन उतनी ही तेजी से हम उभरे भी और अगले मैच में जीत भी दर्ज की। चोट लगने के बावजूद हमारे खिलाड़ी मैदान में डटे रहे। चुनौतियां का हमारे युवा खिलाड़ियों ने सामना किया और उसका समाधान ढूंढा। कुछ खिलाड़ियों में अनुभव जरूर कम था लेकिन हौसला उतना ही बुलंद दिखा। उन्हें जैसे ही मौका मिला उन्होंने इतिहास बना दिया। प्रधानमंत्री मोदी ने आगे कहा कि भारतीय टीम ने अनुभवी टीम को पराजित कर दिया। युवा साथियों क्रिकेट के मैदान पर हमारे खिलाड़ियों की यह प्रतिभा सिर्फ खेल के लिहाज से ही महत्वपूर्ण नहीं है बल्कि एक लाइव लेशन भी है।

पहला लेशन यह कि हमें विश्वास होना चाहिए। दूसरा यह कि हमें सकारात्मक विचारों के साथ आगे बढ़ना चाहिए क्योंकि उसका परिणाम भी सकारात्मक आता है। तीसरा यह कि अगर आपके पास एक तरफ सेफ निकल जाने का विकल्प हो और दूसरी तरफ मुश्किल जीत का विकल्प हो तो आपको जीत का विकल्प जरूर चुनना चाहिए और अगर जीतने की कोशिश में कभी-कभार असफलता भी हाथ लगे तो उसमें कोई नुकसान नहीं है। रिस्क लेने से कोई नुकसान नहीं है। हमें अपने भीतर के असफलता के डर को बाहर निकालना होगा।

तेजपुर विश्वविद्यालय, असम में 18 वें दीक्षांत समारोह में प्रधानमंत्री के सम्‍बोधन का मूल पाठ

नमस्कार!

असम के गवर्नर प्रोफेसर जगदीश मुखी जी, केंद्रीय शिक्षा मंत्री श्री रमेश पोखरियाल निशंक जी, असम के मुख्यमंत्री श्री सर्बानंद सोनोवाल जी, तेजपुर यूनिवर्सिटी के वाइस चांसलर प्रोफेसर वी के जैन जी, अन्य फैकल्टी मेंबर्स और तेजपुर यूनिवर्सिटी के तेजस्वी, Talented, मेरे प्यारे Students, आज 1200 से ज्यादा Students के लिए, जीवन भर याद रहने वाला क्षण है। आपके शिक्षक-प्रोफेसर्स, आपके माता-पिता के लिए भी आज का दिन बहुत अहम है। और सबसे बड़ी बात कि आज से आपके करियर के साथ तेजपुर यूनिवर्सिटी का नाम हमेशा के लिए जुड़ गया है। आप आज जितना खुश हैं, उतना ही मैं भी हूं। आज आप अपने भविष्य को लेकर जितनी आशा से भरे हुए हैं, उतना ही मेरा आप सब पर अपार विश्वास है। मुझे भरोसा है कि आपने तेजपुर में रहते हुए तेजपुर यूनिवर्सिटी में जो सीखा है, वो असम की प्रगति को, देश की प्रगति को गति देगा, नई ऊंचाई देगा।

साथियों,

इस भरोसे की कई वजहें भी हैं-पहला- तेजपुर का ये ऐतिहासिक स्थान, इसके पौराणिक इतिहास से मिलने वाली प्रेरणा। दूसरा- तेजपुर विश्वविद्यालय में आप जो काम कर रहे हैं, जो मुझे बताया गया है, वो बहुत उत्साह जगाता है। और तीसरा- पूर्वी भारत के सामर्थ्य पर, यहां के लोगों, यहां के नौजवानों की क्षमताओं पर, राष्ट्रनिर्माण के उनके प्रयासों पर सिर्फ मेरा ही नहीं देश का भी अटूट विश्वास है।

साथियों,

अभी अवार्ड और मेडल देने से पहले जो यूनिवर्सिटी एन्थम गाया गया है, उसमें निहित भाव तेजपुर के महान इतिहास को नमन करता है। मैं इसकी कुछ पंक्तियां दोहराना चाहता हूं और इसलिए भी दोहराना चाहता हूं क्योंकि ये असम के गौरव, भारत रत्न भूपेन हजारिका जी ने लिखीं हैं। उन्होंने लिखा है- अग्निगड़र स्थापत्य, कलियाभोमोरार सेतु निर्माण, ज्ञान ज्योतिर्मय, सेहि स्थानते बिराजिसे तेजपुर विश्वविद्यालय, यानि जहां अग्निगढ़ जैसा स्थापत्य हो, जहां कलिया-भोमोरा सेतु हो, जहां ज्ञान की ज्योति हो, ऐसे स्थान पर विराजमान है तेजपुर विश्वविद्यालय। इन तीन पंक्तियों में भूपेन दा ने कितना कुछ वर्णित कर दिया है। अग्निगढ़ का, राजकुमार अनिरुद्ध-राजकुमारी उषा-भगवान श्री कृष्ण से जुड़ा इतिहास, महान ऑहोम शूरवीर कलिया-भोमोरा फुकन की दूरदृष्टि, ज्ञान का भंडार, ये तेजपुर की प्रेरणा हैं। भूपेन दा के साथ ही ज्योति प्रसाद अग्रवाल, बिष्णु प्रसाद राभा जैसे महान व्यक्तित्व तेज़पुर की पहचान रहे हैं। आप इनकी कर्मभूमि में, जन्मभूमि में पढ़े हैं और इसलिए आप पर गर्व का भाव होना और गौरव के कारण आत्‍मविश्‍वास से भरा हुआ आपका जीवन होना, यह बहुत स्‍वाभाविक है।

साथियों,

हमारा देश इस वर्ष अपनी आजादी के 75 वर्ष में प्रवेश कर रहा है। सैकड़ों वर्षों की गुलामी से मुक्ति दिलाने के लिए असम के अनगिनत लोगों का योगदान है। जो उस समय थे, उन्होंने देश की आजादी के लिए जीवन दे दिया, अपनी जवानी खपा दी, अब आपको नए भारत के लिए, आत्मनिर्भर भारत के लिए जीकर दिखाना है, जीवन को सार्थक करके दिखाना है। अब से लेकर भारत की आजादी के 100 वर्ष पूरे होने तक, ये 25-26 साल आपके जीवन के भी स्वर्णिम वर्ष हैं। आप कल्‍पना कीजिए 1920-21 में जो नौजवान, जो बेटी आपकी उम्र की होगी, आज आप जिस उम्र के हैं, 1920-21 के कालखंड में वो क्‍या सपने देखते होंगे। वो अपने किन बातों के लिए जीवन ढालते होंगे, किन बातों की पूर्ति के लिए अपने-आपको खपाते होंगे। अगर थोड़ा सा स्‍मरण करें, 100 साल पहले आपके उम्र के लोग क्‍या करते थे तो आज आगे के लिए आपको क्‍या करना है, ये सोचने में देर नहीं लगेगी ये आपके लिए Golden Period है। तेजपुर का तेज पूरे भारत में, पूरे विश्व में फैलाइए। असम को, नॉर्थ ईस्ट को विकास की नई उंचाइयों पर ले जाइए। हमारी सरकार आज जिस तरह नॉर्थ ईस्ट के विकास में जुटी है, जिस तरह कनेक्टिविटी, एजुकेशन, हेल्थ, हर सेक्टर में काम हो रहा है, उससे आपके लिए अनेकों नई संभावनाएं बन रही हैं। इन संभावनाओं का पूरा लाभ उठाइए। आपके प्रयास ये बताते हैं कि आपमें क्षमता भी है, नया सोचने, नया करने का सामर्थ्य भी है।

साथियों,

तेज़पुर यूनिवर्सिटी की एक पहचान अपने Innovation Center के लिए भी है। आपके Grassroots Innovations, Vocal for Local को भी नई गति देते हैं, नई ताकत देते हैं। ये Innovations स्थानीय समस्याओं को सुलझाने में काम आ रहे हैं, जिससे विकास के नए द्वार खुल रहे हैं। अब जैसे मुझे बताया गया है कि आपके डिमार्टमेंट ऑफ केमिकल साइंस ने पीने के पानी को साफ करने के लिए एक कम कीमत वाली आसान टेक्नॉलॉजी पर काम किया है। इसका लाभ असम के अऩेक गांवों को हो रहा है। बल्कि मुझे तो यह बताया गया है कि अब ये नई टेक्नोलॉजी छत्तीसगढ़ में, ओडिशा में, बिहार में, कर्नाटका और राजस्थान जैसे राज्यों तक भी पहुंच रही है, मतलब आपकी ये कीर्ति पताका अब फैल रही है। भारत में इस प्रकार की टेक्नोलॉजी के विकास से हर घर जल पहुंचाने का- जल जीवन मिशन का जो सपना है, उसका एक सशक्तिकरण होगा।

साथियों,

पानी के अलावा गांवों में Waste को Energy में बदलने का जो बीड़ा आपने उठाया है, उसका प्रभाव भी बहुत बड़ा है। फसलों के अवशेष हमारे किसानों और हमारे पर्यावरण दोनों के लिए बहुत बड़ी चुनौती हैं। बायोगैस और ऑर्गेनिक फर्टिलाइजर से जुड़ी एक सस्ती और प्रभावी टेक्नोलॉजी को लेकर जो काम आप अपनी यूनिवर्सिटी में कर रहे हैं, उससे देश की एक बहुत बड़ी समस्या हल हो सकती है।

साथियों,

मुझे ये भी जानकारी दी गई है कि तेज़पुर यूनिवर्सिटी, नॉर्थ ईस्ट की Bio-Diversity और Rich Heritage को संरक्षित करने का भी अभियान चला रही है। नॉर्थ ईस्ट के आदिवासी समाज की वो भाषाएं जिन पर विलुप्त होने का खतरा है, उनको Document करना बहुत सराहनीय काम है। इसी तरह, संत श्रीमंत शंकरदेव की जन्मभूमि, नगांव के बाताद्रव थान में सदियों पुरानी लकड़ी पर उकेरी गई कला का Preservation हो, या फिर गुलामी के कालखंड में लिखी गईं असम की किताबों और पेपर्स का डिजिटलीकरण, आप वाकई इतने विविध कामों पर लगे हुए हैं। कोई भी सुनेगा, उसको गर्व होगा कि इतना दूर हिन्‍दुस्‍तान के पूर्वी छोर पर तेजपुर में ये तपस्‍या हो रही है, साधना हो रही है, आप वाकई कमाल कर रहे हैं।

साथियों,

मैंने जब इतना कुछ जाना तो मन में ये सवाल भी आया कि स्थानीय विषयों पर, स्थानीय आवश्यकताओं पर इतना काम, इतनी रिसर्च करने की प्रेरणा आपको कहां से मिलती है? इसका जवाब भी तेज़पुर यूनिवर्सिटी कैंपस में ही है। अब जैसे आपके हॉस्टल्स। चराईदेव, नीलाचल, कंचनजंगा, पटकाई, धानसिरी, सुबनसिरी, कोपिली, ये सभी पर्वतों, चोटियों और नदियों के नाम पर हैं। और ये सिर्फ नाम नहीं हैं। ये जीवन की जीती-जागती प्रेरणा भी हैं। जीवन यात्रा में हमें अनेक मुश्किलों, अनेक पर्वतों का सामना करना पड़ता है, कई नदियों को पार करना पड़ता है। ये एक बार का काम नहीं होता। आप एक पर्वत चढ़ते हैं और फिर दूसरे की तरफ बढ़ते हैं। हर पर्वतारोहण के साथ आपकी जानकारी भी बढ़ती है, आपकी Expertise भी बढ़ती है और नई चुनौतियों को लेकर आपका Perspective तैयार होता है। इसी तरह नदियां भी हमें बहुत कुछ सिखाती हैं। नदियां, कई सहायक धाराओं से मिलकर बनती हैं और फिर समंदर में मिल जाती हैं। हमें भी जीवन में अलग-अलग लोगों से ज्ञान लेना चाहिए, सीखना चाहिए और उस सीख के साथ आगे बढ़ते हुए अपने लक्ष्य को प्राप्त करना चाहिए।

साथियों,

जब आप इसी अप्रोच के साथ आगे बढ़ेंगे, तो असम, नॉर्थ ईस्ट, देश के विकास में अपना योगदान दे पाएंगे। आपने देखा होगा, कोरोना के इस काल में आत्मनिर्भर भारत अभियान हमारी Vocabulary का अहम हिस्सा हो चुका है। हमारे सपनों के अंदर वह घुल मिल गया है। हमारा पुरुषार्थ, हमारे संकल्‍प, हमारी सिद्धि, हमारे प्रयास, सब कुछ उसके इर्द-गिर्द हम अनुभव कर रहे हैं लेकिन आखिर ये अभियान है क्या? आखिर बदलाव क्या आ रहा है? क्या ये बदलाव सिर्फ Resources में है? क्या ये बदलाव सिर्फ Physical Infrastructure में है?

क्या बदलाव सिर्फ Technology में है? क्या बदलाव सिर्फ बढ़ती Economic और Strategic Might का है? ऐसे हर सवाल का जवाब हां में है। लेकिन, इनमें से भी जो सबसे बड़ा परिवर्तन है, वो है Instinct का, Action और Reaction के नज़रिए का है। हर चुनौती, हर समस्या से निपटने का हमारे युवा देश का अंदाज, देश का मिजाज, अब कुछ हटकर है। इसका एक ताज़ा उदाहरण तो अभी हमें क्रिकेट की दुनिया में दिखा है। आप लोगों में से बहुतों ने भारतीय क्रिकेट टीम के ऑस्ट्रेलिया टूर को फॉलो किया होगा। इस टूर में क्या-क्या चुनौतियां हमारी टीम के सामने नहीं आई? हमारी इतनी बुरी हार हुई लेकिन उतनी ही तेजी से हम उबरे भी और अगले मैच में जीत हासिल की। चोट लगने के बावजूद हमारे खिलाड़ी मैच बचाने के लिए मैदान पर डटे रहे। Challenging Conditions में निराश होने के बजाय हमारे युवा खिलाड़ियों ने Challenge का सामना किया, नए समाधान तलाशे। कुछ खिलाड़ियों में अनुभव जरूर कम था, लेकिन हौसला उतना ही बुलंद दिखा। उनको जैसे ही मौका मिला, उन्होंने इतिहास बना दिया। एक बेहतर टीम को अपने Talent और Temperament में वो ताकत थी, जिसमें उन्‍होंने इतने अनुभवी टीम को, इतने पुराने खिलाडि़यों के टीम को पराजित कर दिया।

युवा साथियों,

क्रिकेट के मैदान पर हमारे खिलाड़ियों की ये Performance सिर्फ Sports के लिहाज़ से ही Important नहीं है। ये एक बहुत बड़ा Life Lesson भी है। पहला Lesson ये कि हमें अपनी Ability पर विश्वास होना चाहिए, Confidence होना चाहिए। दूसरा Lesson हमारे माइंडसेट को लेकर है। हम अगर पॉजिटिव माइंडसेट को लेकर आगे बढ़ेंगे तो, रिजल्ट भी पॉजिटिव ही आएंगे। तीसरा और सबसे अहम Lesson, अगर आपके पास एक तरफ Safe निकल जाने का Option हो और दूसरी तरफ मुश्किल जीत का विकल्प हो, तो आपको विजय का Option ज़रूर explore करना चाहिए। अगर जीतने की कोशिश में कभी-कभार असफलता भी हाथ लगे, तो उसमें कोई नुकसान नहीं है। रिस्क लेने से, प्रयोग करने से डरना नहीं है। हमें proactive और fearless होना ही पड़ेगा। हमारे भीतर जो Failure का डर होता है, हम जो Unnecessary Pressure अपने ऊपर लेते हैं, उससे जब आप बाहर निकलेंगे तो fearless बनकर उभरेंगे भी।

साथियों,

हौसले से भरा हुआ, अपने लक्ष्यों के प्रति समर्पित भारत सिर्फ क्रिकेट की फील्ड पर दिखता है, ऐसा नहीं है। आप भी तो इसी ही एक तस्वीर हैं। आप आत्मविश्वास से, Self-confidence से भरे हैं। आप लीक से हटकर सोचने और चलने से डरते नहीं हैं। आपके जैसी इसी युवा ऊर्जा ने कोरोना के खिलाफ अपनी लड़ाई में भी भारत को बहुत मजबूती दी है। आपको याद होगा, इस लड़ाई की शुरुआत में ऐसी आशंकाएं जताई गई थीं कि इतनी बड़ी आबादी वाला भारत, Resources के अभाव में कोरोना से तबाह हो जाएगा। लेकिन भारत ने दिखाया कि, Resolve और Resilience आपके पास है तो Resources तैयार होते देर नहीं लगती। भारत ने यही किया। भारत ने हालात से समझौता करने के बजाय, मुसीबत बढ़े इसका इंतजार करने के बजाय, तेजी से फैसले लिए, Proactive होकर फैसले लिए। इसी का परिणाम है कि भारत वायरस से ज्यादा प्रभावी रूप से बढ़ पाया, प्रभावी रूप से लड़ पाया। Made in India Solutions से हमने वायरस के फैलाव को कम किया, अपने हेल्थ इंफ्रा को बेहतर किया। अब हमारे Vaccine से जुड़ी Research और Production की क्षमता भारत के साथ-साथ दुनिया के अनेक देशों को सुरक्षा कवच का विश्वास दे रही है।

अगर हम अपने वैज्ञानिकों, अपने Researchers, स्‍कॉलर्स से, अपने साइंटिस्‍ट से, अपनी इंडस्ट्री की ताकत पर भरोसा ना करते तो क्या ये सफलता संभव हो पाती? और साथियों, सिर्फ हेल्थ सेक्टर ही क्यों, हमारा डिजिटल इंफ्रास्ट्रक्चर ही लीजिए। अगर हम भी ये मानकर बैठ जाते कि भारत में Literacy के अभाव में, DBT और डिजिटल लेनदेन संभव नहीं है, तो क्या कोरोना जैसे संकट में सरकार गरीब से गरीब तक इतने प्रभावी ढंग से पहुंच पाती? आज जिस Fintech में, Digital Inclusion में, हम दुनिया के अग्रणी देशों में शामिल हैं, वो क्या कभी संभव हो पाता? आज का भारत समस्या के समाधान के लिए Experiment से भी नहीं डरता और बड़े स्केल पर काम करने से भी पीछे नहीं हटता। सबसे बड़ा Banking Inclusion अभियान भारत में हो रहा है, टॉयलेट बनाने का सबसे बड़ा अभियान भारत में, हर परिवार को घर देने का अभियान भारत में, घर-घर जल पहुंचाने का सबसे बड़ा अभियान भारत में। सबसे बड़ी हेल्थ एश्योरेंस स्कीम भारत में और अब सबसे बड़ा टीकाकरण अभियान भी भारत में। इन सबका बहुत बड़ा लाभ नॉर्थ ईस्ट को हुआ है, असम के लोगों को हुआ है। ऐसे कार्यक्रम तभी चल सकते हैं, जब देश और समाज आत्मविश्वास से भरा हो, देश यथास्थिति को बदलने के लिए, Innovate करने के लिए पूरी शक्ति लगा रहा हो।

साथियों,

आज जिस प्रकार दुनिया में, भारत में नई टेक्नॉलॉजी का प्रसार हो रहा है, उससे हर क्षेत्र में नई संभावनाएं पैदा हो रही हैं। आज हम बिना ब्रांच के बैंक, बिना शोरूम के रिटेल बिजनेस, बिना डाइनिंग हॉल के क्लाउड किचन, ऐसे अनेक प्रयोगों को रोजमर्रा की जिंदगी में देख रहे हैं। ऐसे में ये भी संभव है कि भविष्य की यूनिवर्सिटी पूरी तरह से Virtual हो और दुनियाभर से Students और Faculties किसी भी यूनिवर्सिटी का हिस्सा बन सकें। इस प्रकार की ट्रांसफॉर्मेशन के लिए हमारे पास एक ज़रूरी रेगुलेटरी फ्रेमवर्क होना बहुत ज़रूरी है। नई नेशनल एजुकेशन पॉलिसी के माध्यम से लगातार इसकी कोशिश की जा रही है। इस पॉलिसी में Technology के ज्यादा से ज्यादा उपयोग, मल्टीडिसिप्लिनरी एजुकेशन और Flexibility को प्रोत्साहित किया जा रहा है। नई National Educational Policy, Data और Data Analytics के लिए हमारे एजुकेशन सिस्टम को तैयार करने पर बल देती है। Data Analysis की मदद से Admission से लेकर Teaching और Evaluation तक पूरी प्रक्रिया बहुत बेहतर हो जाएगी।

मुझे विश्वास है कि तेज़पुर यूनिवर्सिटी, नेशनल एजुकेशन पॉलिसी के इन लक्ष्यों को सिद्ध करने में अहम भूमिका निभाएगी। मुझे तेज़पुर यूनिवर्सिटी के ट्रैक रिकॉर्ड और इसके सामर्थ्य पर पूरा भरोसा है। और मैं अपने Student साथियों को ये बात विशेष तौर पर कहूंगा कि जब आपकी फॉर्मल एजुकेशन पूरी होती है तो आप सिर्फ अपने फ्यूचर के लिए नहीं, बल्कि राष्ट्र के फ्यूचर के लिए काम करते हैं। आप बस एक बात याद रखें, अगर आपका Purpose ऊंचा है तो आपको जीवन के ऊतार-चढ़ाव से उतना असर नहीं पड़ेगा। आपके जीवन के आने वाले 25-26 साल आपके करियर के साथ-साथ देश के भाग्य को भी तय करने वाले हैं।

मुझे विश्वास है कि आप सभी देश को नई ऊंचाई पर पहुंचाएंगे। 2047, जब देश आजादी का 100 साल मनाता होगा तो यही 25-30 साल का कालखंड आपके योगदान से, आपके पुरुषार्थ से, आपके सपनों से भरा हुआ होगा। कल्‍पना कीजिए, आजादी के शतक में आपके 25 साल कितना बड़ा रोल पैदा करनेवाले हैं। आइए साथियों, अपने-आप को उन सपनों के लिए सजग कीजिए, चल पड़ें, संकल्‍प के साथ चल पड़ें, सपनों को लेकर चल पड़ें, सिद्धि पाने के मकसद से निकल पड़ें। देखिए, जीवन सफलताओं की एक-एक ऊंचाई को पार करते जाएगा। आज के इस पवित्र अवसर पर आपके परिवारजनों को, आपके शिक्षक जगत को, आपके सभी faculties को, आपके सपनों को, सबको बहुत-बहुत शुभकामनाएं देता हूं, अनंत-अनंत शुभकामनाएं देता हूं!

बहुत-बहुत आभार!!

Leave a Reply