Home समाचार देश में कोरोना के आधे से ज्यादा मामले केरल और महाराष्ट्र में,...

देश में कोरोना के आधे से ज्यादा मामले केरल और महाराष्ट्र में, लेकिन मीडिया में हो रही है केरल मॉडल और बेस्ट सीएम की चर्चा

1160
SHARE

देश में कोरोना के मामले धीरे-धीरे कम हो रहे हैं, लेकिन केरल और महाराष्ट्र दो ऐसे राज्य हैं जहां मामले बढ़ते ही जा रहे हैं। ताजुब्ब की बात तो यह है कि लेफ्ट और कांग्रेसी मीडिया के पक्षकार इन दोनों राज्यों में कोरोना से निपटने के तरीकों की तारीफ करने में लगे हुए हैं। पक्षकार केरल मीडिया की चर्चा करने के साथ महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को बेस्ट सीएम का तमगा देने में लगे हुए हैं। जबकि केरल और महाराष्ट्र के ताजा हालात ये बताते हैं कि वहां की सरकारें कोरोना पर लगाम कसने में नाकाम साबित हुई हैं।

दूसरी लहर के बाद देश में कोरोना के मामलों में जहां कमी दर्ज की जा रही है, वहां केरल और महाराष्ट्र में इसमें तेजी से होने वाले उछाल चिंता का सबब बना हुआ है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने शुक्रवार को कहा है कि देश में पिछले हफ्ते आए कोविड-19 के आधे से ज्यादा मामले दो राज्यों महाराष्ट्र (21 प्रतिशत) और केरल (32 प्रतिशत) से हैं। मंत्रालय ने कहा कि महामारी अभी जल्द खत्म होने वाली नहीं है इसलिए हमें अपनी ऐहतियात कम नहीं करनी है।

शुक्रवार को केरल ने 13,563 नए मामले दर्ज किए। पिछले शुक्रवार को यह संख्या 12,095 थी। ये संख्या दिखाते हैं कि केरल में कोरोना के मामले बढ़े हैं। केरल में इस सप्ताह अब तक 65,345 मामले दर्ज किए गए हैं, जो पिछले सप्ताह के 60,234 मामलों से 8.4 प्रतिशत अधिक है। इसके साथ ही केरल में कोरोना के कुल संक्रमितों की संख्या तीस लाख के पार 30,39,029 हो गई है।

जनसंख्या के अनुपात से देखा जाय तो केरल की कुल आबादी 3.46 करोड़ और महाराष्ट्र की जनसंख्या 12.49 करोड़ है। केरल में प्रति दस लाख आबादी में 90 हजार लोग कोरोना संक्रमित हुए हैं, जो राष्ट्रीय औसत से काफी ज्यादा है। देश में प्रति दस लाख पर संक्रमण की संख्या 24 हजार है। साफ है कि केरल में देश के प्रति 10 लाख की आबादी की तुलना में संक्रमण दर काफी ज्यादा है।

केरल में शुक्रवार को कोरोना से 130 लोगों की मौत हुई। इसे मिलाकर राज्य में अब तक 14,380 लोगों की मौत हो चुकी है। इस हिसाब से केरल में प्रति दस लाख लोगों पर 424 लोगों की मौत हुई है, जो देश राष्ट्रीय औसत 311 की तुलना में काफी ज्यादा है। अब तक के कुल कोरोना केस को देखा जाए तो केरल देश भर में महाराष्ट्र के बाद दूसरे स्थान पर है। ये तो तब है जब केरल ने मामले की संख्या काफी कम करके दिखाई है। टाइम्स ऑफ इंडिया अखबार की ओर से दाखिल आरटीआई के जवाब से पता चलता है कि केरल में कोरोना के मामले सरकारी आंकड़ों से कहीं ज्यादा है।

कोरोना के ताजा आंकड़ों के अनुसार शुक्रवार को महाराष्ट्र में 8,992 नए मामले दर्ज हुए। इसे लगाकर राज्य में अब तक कोरोना के 61 लाख 40 हजार से अधिक मामले दर्ज किए गए हैं। कोरोना केस के मामले में महाराष्ट्र देश में पहले स्थान पर है। शुक्रवार को राज्य में 738 लोगों की मौत हुई। इसे लगाकर अब तक महाराष्ट्र में कोरोना से सवा लाख से ज्यादा लोगों की जान चा चुकी है। 

Leave a Reply