Home समाचार भारत को 5 ट्रिलियन डॉलर की इकोनॉमी बनाने में CAG की भूमिका...

भारत को 5 ट्रिलियन डॉलर की इकोनॉमी बनाने में CAG की भूमिका अहम होगी : पीएम मोदी

174
SHARE

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज नई दिल्ली में देशभर से आए महालेखाकारों और उपमहालेखाकारों को संबोधित किया। ट्रांसफार्मिंग ऑडिट एंड एश्‍योरेंश इन ए डिजिटल वर्ल्‍ड’ विषय पर बोलते हुए पीएम मोदी ने कहा कि गांधी जी कहते थे कि जिस तरह व्यक्ति अपनी पीठ नहीं देख सकता, उसी तरह व्यक्ति को अपनी त्रुटियों को देखना बड़ा मुश्किल होता है। आप सभी वो दिग्गज हैं जो आइना लेकर सरकारी व्यवस्थाओं के सामने खड़े हो जाते हैं और कमियों और गलतियों को बताते हैं।

पीएम मोदी ने कहा कि सिर्फ आंकड़ों और प्रक्रिया तक ही इस संगठन को सीमित नहीं रहना है,बल्कि वाकई में गुड गवर्नेंस के एक Catalyst के रूप में आगे आना है। CAG को CAG Plus बनाने के सुझाव पर आप गंभीरता से अमल कर रहे हैं, यह खुशी की बात है। उन्होंने कहा कि CAG की जिम्मेदारी इसलिए भी अधिक है क्योंकि आप देश और समाज के आर्थिक आचरण को पवित्र रखने में अहम भूमिका निभाते हैं, इसलिए आपसे उम्मीद अधिक रहती हैं।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि आज जब भारत 5 ट्रिलियन डॉलर की आर्थिक ताकत बनने की ओर अग्रसर हो रहा है, उससे भी आप सभी की भूमिका अहम है। क्योंकि आप जो करेंगे उसका सीधा असर सरकारी की Efficiency पर पड़ेगा। सरकार की Decision Making पर पड़ेगा। उन्होंने कहा कि हमारा लक्ष्य है कि साल 2022 तक Evidence Based Policy Making को गवर्नेस का अभिन्न हिस्सा बनाया जाए। ये न्यू इंडिया की नई पहचान बनाने में मदद करेगा। ऐसे में ऑडिट और Assurance Sector के Transformation के लिए भी ये सही दौर है। अब CAG को भी CAG 2.0 की तरफ बढ़ना होगा।

प्रधानमंत्री ने कहा कि आज जितने भी Stake holders हैं, उनको सटीक ऑडिट भी चाहिए, ताकि वो अपनी योजना को सही से लागू कर सके। उन्होंने कहा कि JAM- जनधन, आधार और मोबाइल से सामान्य मानवी को योजनाओं का लाभ डायरेक्ट पहुंच रहा है। और GeM – गवर्नमेंट ई-मार्केटप्लेस के माध्यम से आज सरकार की सवा चार सौ से ज्यादा स्कीम का लाभ लाभार्थियों तक पहुंच रहा है।

उन्होंने कहा कि बीते कुछ सालों में सरकारी विभागों में Fraud से निपटने के लिए अनेक प्रयास हुए हैं। अब CAG को ऐसे टेक्निकल टूल्स डेवलप करने होंगे ताकि संस्थानों में Fraud के लिए कोई गुंजाइश न बचे। 

 

 

Leave a Reply