Home समाचार बालाकोट एयर स्ट्राइक से आतंकी संट, पीओके पर दावा हुआ मजबूत

बालाकोट एयर स्ट्राइक से आतंकी संट, पीओके पर दावा हुआ मजबूत

380
SHARE

साल 2019 के पुलवामा आतंकी हमले का मुहतोड़ जबाव देते हुए आज ही के दिन बालाकोट में भारतीय वायुसेना ने एयर स्ट्राइक की थी। बालाकोट एयर स्‍ट्राइक को याद करते हुए भारतीय वायुसेना के पूर्व चीफ बीएस धनोवा ने कहा कि आज ऑपरेशन के एक साल बीतने पर हम काफी संतुष्‍ट हैं, इस एयर स्‍ट्राइक से हमने काफी कुछ सीखा, कई सारी चीजें लागू हुईं।

बालाकोट एयर स्‍ट्राइक के बाद से नहीं हुआ कोई बड़ा आतंकी हमला

भारतीय वायुसेना के पूर्व चीफ बीएस धनोवा ने बताया कि बालाकोट एयर स्‍ट्राइक के बाद देश में अब तक कोई बड़ा आतंकी हमला नहीं हुआ है, जबकि देश में बड़े चुनाव भी हुए। इसका मतलब यह है कि आतंकी भयभीत हैं, उनको यह डर है कि अगर आगे कोई हमला करते हैं तो फिर से बालाकोट जैसी कार्रवाई भारत की ओर से की जाएगी।

उन्होंने बताया कि मूल रूप से यह हमारे ऑपरेशन करने के तरीके में एक बदलाव की तरह था. पाकिस्‍तान ने कभी सोचा भी नहीं था कि हम वहां एक आतंकी प्रशिक्षण शिविर पर एयर स्‍ट्राइक कर सकते हैं, लेकिन हमने उसे सफलतापूर्वक अंजाम दिया। हम अपने दुश्‍मन देश को संदेश देना चाहते थे कि हम कहीं भी घुसकर मारने की क्षमता रखते हैं, चाहे आतंकी कहीं भी छुपकर बैठे हों। वहीं हम अपनी जमीन से भी उन पर हमला बोल सकते थे।

सरकार ने दिखाई पीओके को वापस लेने की प्रतिबद्धता

बालाकोट एयर स्ट्राइक के बाद से देश की रक्षा प्रणाली और राजनीति में भी बड़ा बदलाव आया और सरकार ने पहली बार पीओके को जम्मू-कश्मीर का हिस्सा बताकर दोबारा इसे वापस लेने की प्रतिबद्धता दिखाई।

वहीं एयर स्ट्राइक के छह महीने होने तक मोदी सरकार ने जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल 370 हटाकर पाकिस्तान की कमर तोड़ दी। इसके साथ ही आतंकी फंडिंग का जरिया बने क्रॉस एलओसी ट्रेड को बंद कर भी भारत ने पाकिस्तान को तगड़ा झटका दिया।

भारतीय सेना की एयर स्ट्राइक ने जगाया राष्ट्रवाद और देशप्रेम

पुलवामा हमले के बाद 40 जवानों की शहादत का बदला लेने के लिए भारतीय वायुसेना की एयर स्ट्राइक ने पूरे देश में राष्ट्रवाद और देशप्रेम की भावना जगा दी। मोदी सरकार के इस कदम की पूरे देश ने सराहना की, जिसके बाद से लगातार पीओके को अपना हिस्सा बनाने पर भी जोर दिया गया। मोदी सरकार न केवल आतंकवाद का सफाया करने में जुटी है, बल्कि आतंक के अध्याय को हमेशा के लिए बंद करना चाहती है।

वहीं एनआईए की जांच में यह सामने आया कि क्रॉस एलओसी ट्रेड आतंकी फंडिंग का जरिया है। गृह मंत्रालय ने पुंछ के चक्कां दा बाग तथा उड़ी के सलामाबाद से क्रॉस एलओसी ट्रेड बंद किया और एलओसी क्रॉस ट्रेड से जुड़े कई कारोबारी भी जांच एजेंसी के निशाने पर हैं। साथ ही हाल में एनआईए ने ट्रेड से जुड़े पुलवामा निवासी एक पूर्व अध्यक्ष को टेरर फंडिंग मामले में गिरफ्तार भी किया है।

आतंक के खिलाफ जंग में भारत के साथ अंतरराष्ट्रीय समुदाय

भारतीय सेना की बालाकोट एयर स्ट्राइक के बाद से पाकिस्तान से पनप रहे आतंक की कमर बुरी तरह टूट गई। जम्मू की सेंट्रल यूनिवर्सिटी के रक्षा अध्ययन विभाग के प्रोफेसर जेएस जगन्नाथ ने बताया कि वहां की आईएसआई, सेना और आतंकी समूहों को डीप सेटेट कहा जाता है जो बालाकोट एयर स्ट्राइक के बाद गहरे संकट में है।

बालाकोट एयर स्ट्राइक ने पाकिस्तान की गीदड़भभकियों को भी तगड़ा तमाचा मारा है। प्रो. जगन्नाथन के मुताबिक हमले के बाद अंतरराष्ट्रीय समुदाय भी आतंकवाद के खिलाफ भारत के साथ खड़ा हुआ है।

Leave a Reply