Home समाचार जब बात मोदी जी की होती है तो स्वाति चतुर्वेदी की पत्रकारिता...

जब बात मोदी जी की होती है तो स्वाति चतुर्वेदी की पत्रकारिता ऐसी होती है…

865
SHARE

स्वाति चतुर्वेदी उस खान मार्केट गैंग की पत्रकार है, जिनका सिर्फ और सिर्फ एक ही मकसद है- प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का विरोध। कांग्रेसी आकाओं को खुश करने के लिए ये चाटुकारिता की हद तक जा सकती हैं। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और उनकी सरकार कोरोना संकट के दौरान इतना कुछ कर रही है कि पूरी दुनिया में उसकी तारीफ हो रही है। लेकिन आंखों पर कांग्रेसी चश्मा पहनने वाली पत्रकार स्वाति चतुर्वेदी को कुछ अच्छा दिखाई ही नहीं देता है। ये इतनी बड़ी कलाकार हैं कि हर बात में मोदी विरोध का एंगल ढूंढ़ ही लेती हैं।

मजदूरों के पैदल पलायन के मुद्दे को लेकर भी स्वाति चतुर्वेदी का यही एजेंडा दिखाई दे रहा है। अभी तीन दिन पहले 18 मई को बुजुर्ग नेता यशवंत सिन्हा मोदी सरकार से प्रवासी मजदूरों को उनके घर भेजने की मांग को लेकर राजघाट पर धरने पर बैठ गए थे। जब वो नहीं माने ते दिल्ली पुलिस ने उन्हें अरेस्ट कर लिया था। तब स्वाति चतुर्वेदी ने यशवंत सिन्हा का पक्ष लेते हुए ट्वीट किया और उनकी मांग का समर्थन किया।

लेकिन 21 मई को एनडीटीवी ने जब ब्रेकिंग न्यूज चलाई की जो प्रवासी मजदूर उत्तर प्रदेश लौटे हैं, उनमें से 1041 मजदूर कोरोना संक्रमित पाए गए हैं। तो मोदी विरोध में अंधी हो चुकी स्वाति चतुर्वेदी ने इसे भी ट्वीट कर दिया और लिखा की पीएम मोदी कोरोना महामारी की समस्या राज्यों को ट्रांसफर कर रहे हैं।

मतलब पीएम मोदी से मजदूरों को भेजने की मांग का समर्थन किया जा रहा है और जब प्रवासी मजदूर कोरोना पॉजिटिव निकल रहे हैं, तो इसके लिए भी मोदी जी को ही दोषी ठहराया जा रहा है। बहरहाल इस एजेंडा पत्रकार के इस रवैये पर सोशल मीडिया पर लोगों ने जमकर क्लास ली-

Leave a Reply