Home समाचार केजरीवाल के बाद अब मनीष सिसोदिया को जनता ने खदेड़ा

केजरीवाल के बाद अब मनीष सिसोदिया को जनता ने खदेड़ा

778
SHARE

आम आदमी पार्टी के संयोजक और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को दिल्ली से लेकर पंजाब, हिमाचल प्रदेश और गुजरात तक में विरोध का सामना करना पड़ रहा है। पिछले दिनों जब वह हिमाचल प्रदेश में रोड शो और सभा करने पहुंचे तो वहां पंजाब के टीचर उन्हें वादों की याद दिलाने पहुंच गए। इसके बाद वहां मौजूद AAP कार्यकर्ताओं ने उन टीचरों के साथ मारपीट की जिससे सभा में हंगामा हो गया और केजरीवाल बिना भाषण दिए बैरंग दिल्ली लौट आए। केजरीवाल इन दिनों गुजरात चुनाव और दिल्ली में एमसीडी चुनाव के प्रचार में पहुंच रहे हैं जहां उन्हें केजरीवाल मुर्दाबाद के नारे सुनने को मिल रहे हैं। केजरीवाल 20 नवंबर 2022 को दिल्ली के पहाड़गंज इलाके में सभा में पहुंचे तो वहां आंगनवाड़ी कार्यकर्ताएं वादे याद दिलाने पहुंच गई। वहां भी AAP कार्यकर्ताओं ने उनके साथ बदसलूकी की और मारपीट किया। इसके बाद नाराज आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं ने केजरीवाल मुर्दाबाद के नारे लगाए जिससे सभा में हंगामा हो गया। अब दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया दिल्ली के चंदन विहार में एमसीडी चुनाव का प्रचार करने पहुंचे तो वहां जनता ने पानी की किल्लत सहित अन्य बुनियादी सुविधाओं की बात उठाई। उसके बाद सभा में हंगामा हो गया और सिसोदिया भी केजरीवाल की तरह बिना भाषण दिए बैरंग लौट गए। केजरीवाल के खिलाफ केवल जनता का ही गुस्सा नहीं बढ़ रहा है बल्कि अब तो AAP कार्यकर्ता भी केजरीवाल मुर्दाबाद के नारे लगाने लगे हैं और पोस्टरों पर कालिख पोतने लगे हैं।

मनीष सिसोदिया को जनता ने खदेड़ा

दिल्ली में सभा करने गये सिसोदिया को जनता के विरोध की वजह से बीच सभा में छोड़कर भागना पड़ा! जनता जब सवाल पूछने पर आती है तो इनको सामना करने की जगह भाग लेने में ही भलाई लगती है। खुद को कट्टर ईमानदार और कट्टर देशभक्त बताने वाले केजरीवाल और मनीष सिसोदिया झूठे वादे करने में तो माहिर हैं लेकिन जब जनता सवाल पूछती है तो इनके तोते उड़ जाते हैं। आज पूरी दिल्ली परेशान है और फ्री बिजली पानी के इनके मायाजाल का सच जनता जान चुकी है। इसीलिए एक सभा के बाद दूसरी सभा में लगातार उन्हें जनता के विरोध का सामना करना पड़ रहा है।

दिल्ली में पहाड़गंज की सभा में लगे केजरीवाल मुर्दाबाद के नारे

केजरीवाल का दोहरा चरित्र देखिए कि पंजाब में चुनाव के दौरान उन्होंने कहा कि हमने दिल्ली में सभी आशा वर्कर और आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं का मानदेय डबल कर दिया है। वहीं दूसरी तरफ पहाड़गंज की सभा में आंगनवाड़ी कार्यकर्ता मानदेय बढ़ाने के वादे याद दिलाने पहुंची तो आम आदमी पार्टी के कार्यकर्ता बदसलूकी पर उतर आए। इसके बाद केजरीवाल की पहाड़गंज रैली में मुर्दाबाद के नारे लगने लगे। महिला आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं ने झूठे वादों के खिलाफ केजरीवाल मुर्दाबाद का नारा लगाया। जनता अब समझ चुकी है कि केजरीवाल भ्रष्ट हैं, आम आदमी पार्टी भ्रष्ट है जिसने दिल्ली का हाल बेहाल कर दिया है। यही कारण है कि दिल्ली से लेकर पंजाब, गुजरात और हिमाचल तक केजरीवाल मुर्दाबाद के नारे लगने शुरू हो गए हैं।

आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं का फूटा गुस्सा, केजरीवाल के घर के पास निकाला विरोध मार्च

इस साल फरवरी 2022 में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल के घर के पास आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं का हड़ताल और प्रदर्शन कई दिनों तक चला। लेकिन केजरीवाल के कानों पर जूं तक नहीं रेंगी। आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं ने न्यूनतम मजदूरी न मिलने की मांग पर सीएम केजरीवाल के घर के निकट सिविल लाइंस में विरोध मार्च निकाला। दिल्ली स्टेट आंगनबाड़ी वर्कर्स यूनियन एंड हेल्पर यूनियन के अध्यक्ष का कहना है कि सभी आंगनबाड़ी केंद्रों में 22 हजार से ज्यादा वर्कर और हेल्पर काम कर रही हैं। उनको मिलने वाला मानदेय न्यूनतम रोजगार भत्ता के अंतर्गत भी नहीं है। दिहाड़ी मजदूरों को भी इससे ज्यादा मानदेय मिलता है। लेकिन आंगनबाड़ी केंद्रों में बच्चों, गर्भवती महिलाओं की देखरेख, पोषण, स्वास्थ्य के लिए काम करनेवालों को काफी कम मानदेय दिया जाता है। उन्होंने बताया कि साल 2017 में हड़ताल के बाद वर्कर और हेल्पर का मानदेय थोड़ा बढ़ा था। आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं की मांग है कि वर्कर का मानदेय कम से कम 25 हजार और हेल्पर का 20,000 होना चाहिए। महिलाओं को बढ़ती महंगाई और कोरोना के चलते आई आर्थिक समस्याओं से कुछ निजात दिलाया जाए।

दिल्ली संभल नहीं रहा, पंजाब में भी आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं से वादे कर आए

अरविंद केजरीवाल ने दिसंबर 2021 में पंजाब की आंगनवाड़ी और आशा कार्यकर्ताओं से मुलाकात की और आगामी विधानसभा चुनाव में राज्य में उनकी पार्टी के सत्ता में आने पर आंगनवाड़ी और आशा कार्यकर्ताओं की समस्याओं का समाधान करने का आश्वासन दिया। केजरीवाल ने कहा कि आप एकमात्र ऐसी पार्टी है जो लोगों के पास जाकर उनके मुद्दों को जानने का प्रयास करती है, ताकि सत्ता में आने के बाद उन मुद्दों का समाधान किया जा सके। उन्होंने वादा किया कि दिल्ली की तरह पंजाब की व्यवस्था से भ्रष्टाचार को खत्म किया जाएगा और आशा और आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं की सभी मांगों को पूरा किया जाएगा। दिल्ली के मुख्यमंत्री ने ‘अरविंद केजरीवाल की आंगनवाड़ी और आशा (मान्यता प्राप्त सामाजिक स्वास्थ्य कार्यकर्ता) कार्यकर्ताओं के साथ संवाद’ कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा, ‘‘आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं की कठिनाइयों जैसे कम वेतनमान, कोई छुट्टी नहीं और कोविड-19 महामारी के दौरान मारे गए आशा कार्यकर्ताओं के परिवारों को कोई मुआवजा नहीं, जैसे मामले उनकी दुर्दशा के कारण बने।’’

हिमाचल में केजरीवाल मुर्दाबाद के नारे लगे, भाषण छोड़ बैरंग लौटना पड़ा

हिमाचल प्रदेश विधानसभा चुनाव में प्रचार के लिए सोलन पहुंचे अरविंद केजरीवाल के रोड शो में खूब हंगामा हुआ। यहां पंजाब से आए कुछ शिक्षक आम आदमी पार्टी के विरोध में प्रदर्शन कर रहे थे, जिनके साथ मारपीट की गई। आम आदमी पार्टी सोलन के कार्यकर्ता उनके साथ उलझ गए व दोनों पक्ष में मारपीट हुई। केजरीवाल के रोड शो में विरोध जताने पर जिन लोगों से AAP के कार्यकर्ताओं ने मारपीट की, उनमें से ज्यादातर पंजाब की ETT TET पास अध्यापक संघ के मेंबर थे। पंजाब में भगवंत मान की अगुवाई वाली AAP सरकार द्वारा सुनवाई नहीं किए जाने पर यह लोग सोलन में केजरीवाल से मिलने पहुंचे थे। यहां जब इन लोगों ने रोड शो के दौरान अपनी बात रखने की कोशिश की तो आम आदमी पार्टी के वर्कर बदसलूकी पर उतर आए। रोड शो में मारपीट के बाद केजरीवाल भाषण बीच में ही खत्म कर दिल्ली लौट गए। पंजाब की ETT-TET पास अध्यापक संघ के अध्यक्ष कमल ठाकुर कहा कि आम आदमी पार्टी के वर्करों ने उन लोगों के साथ जिस तरह की धक्कामुक्की की, वह किसी भी सूरत में बर्दाश्त करने लायक नहीं है।

वडोदरा में लगे ‘केजरीवाल गो बैक’ के नारे

AAP कार्यकर्ताओं ने ही लगाए केजरीवाल मुर्दाबाद के नारे

जनता तो जनता अब तो AAP कार्यकर्ता भी केजरीवाल मुर्दाबाद के नारे लगाने लगे हैं। उत्तर पूर्वी दिल्ली में आम आदमी पार्टी के नेता, विधायक और केजरीवाल पर भ्रष्टाचार के आरोप लगा कर पार्टी छोड़ रहे है! वहां पोस्टरों पर कालिख भी पोती गई और भ्रष्टाचार आदमी पार्टी मुर्दाबाद से लेकर केजरीवाल मुर्दाबाद के नारे भी लगे।

केजरीवाल बना रहे रोहिंग्याओं के लिए कॉलोनी, महिलाओं ने किया विरोध

केजरीवाल दिल्ली के एक गांव में एक स्कूल तोड़कर रोहिंग्याओं के लिए कॉलोनी बना रहा है और वहां महिलाएं, बहनें, बेटियां उस बस्ती का विरोध कर रही हैं। पिछले एक सप्ताह से यह विरोध-प्रदर्शन चल रहा है लेकिन इसे लेकर मीडिया में कोई खबर नहीं है। इससे यह जाहिर होता है कि केजरीवाल की टीम मीडिया को किस तरह से मैनेज कर रही है।

Leave a Reply