Home समाचार भारतीय सेनाओं की ताकत बढ़ाने में जुटी मोदी सरकार, रूस से 12...

भारतीय सेनाओं की ताकत बढ़ाने में जुटी मोदी सरकार, रूस से 12 सुखोई-30 और 21 मिग-29 विमान खरीद को मंजूरी

401
SHARE

चीन से तनातनी के बीच प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में केंद्र सरकार भारतीय की सैन्य ताकत को मजबूत करने में जुटी है। भारतीय वायु सेना की मारक क्षमता को बढ़ाने के लिए मोदी सरकार ने रूस से 33 फाइट जेट खरीदने का ऐलान किया है। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार इसके तहत 12 सुखोई-30 विमान और 21 मिग-29 विमान खरीदे जाएंगे। इसके अलावा 59 मौजूदा मिग -29 विमानों को अपग्रेड भी किया जाएगा। रक्षा मंत्रालय ने बताया कि इसमें कुल 18,148 करोड़ रुपये की लागत आएगी। दोनों देशों के बीच होने वाली इस बड़ी और महत्वपूर्ण डील का फैसला डिफेंस एक्जिविशन काउंसिल ने लिया है।

बताया जा रहा है कि 21 मिग -29 विमान की खरीद और मिग -29 के मौजूदा बेड़े के विमानों को अपग्रेड करने में सरकार को 7,418 करोड़ रुपये की लागत का अनुमान है। अधिकारियों के मुताबिक हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड से 12 नए सुखोई-30 विमान की खरीद में 10,730 करोड़ रुपये की लागत आएगी।

इसके साथ ही रक्षा मंत्रालय ने भारतीय वायुसेना और नौसेना के लिए 248 एस्ट्रा बियॉन्ड विजुअल रेंज एयर टू एयर मिसाइलों को खरीदने को भी मंजूरी दी है। रक्षा मंत्रालय के मुताबिक DRDO द्वारा एक नई 1,000 किलोमीटर की स्ट्राइक रेंज लैंड अटैक क्रूज मिसाइल के डिजाइन और अन्य जरूरतों की भी मंजूरी दी गई है। इसके अलावा रक्षा अधिग्रहण परिषद ने 38,900 करोड़ रुपये के प्रस्तावों को मंजूरी दी, जिसमें से 31,130 करोड़ रुपए की खरीदारी भारतीय उद्योग से होगी।

आपको बता दे कि फ्रांस से अत्याधुनिक 6 राफेल लड़ाकू विमानों के 27 जुलाई को भारत पहुँचने की संभावना है। ये विमान पहले मई में भारत पहुँचने वाले थे, लेकिन कोरोना वायरस के कारण ऐसा मुमकिन नहीं हो पाया। पर, अब अंबाला के एयरबेस पर एक साथ 6 लड़ाकू विमान आएंगे। फ्रांस की रक्षा मंत्री ने देश के रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह को पिछले दिनों बातचीत के दौरान आश्वासन दिया था कि कोरोना वायरस महामारी के बावजूद राफेल विमान तय समय के अनुसार भारत पहुंच

 

Leave a Reply