Home समाचार सीमा पर तनाव के बीच सैनिकों का हौसला बढ़ाने अचानक लेह पहुंचे...

सीमा पर तनाव के बीच सैनिकों का हौसला बढ़ाने अचानक लेह पहुंचे प्रधानमंत्री मोदी

749
SHARE

भारत-चीन सीमा विवाद के बीच प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी आज, 3 जुलाई को अचानक लेह पहुंच गए। यहां उन्होंने लद्दाख के नीमू पोस्ट में थलसेना, वायुसेना और आईटीबीपी के जवानों से मुलाकात की। प्रधानमंत्री ने यहां जवानों के साथ संवाद भी किया। प्रधानमंत्री मोदी के यहां आने से सेना का मनोबल बढ़ा है।

यह इलाका लेह से द्रास की तरफ पड़ता है। यह बॉर्डर की फॉरवर्ड लोकेशन है। नीमू अग्रिम पोस्ट समुद्री तल से करीब 11 हजार फीट की ऊंचाई पर मौजूद है। इसे दुनिया की सबसे ऊंची और खतरनाक पोस्ट में से एक माना जाता है। यह इलाका सिंध नदी के किनारे पर और जांस्कर रेंज से घिरी हुई बहुत ही दुर्गम जगह है।

प्रधानमंत्री मोदी के साथ सीडीएस बिपिन रावत और सेना प्रमुख एमएम नरवणे भी लेह में मौजूद हैं। प्रधानमंत्री मोदी को सेना के अधिकारियों ने यहां के जमीनी स्थिति के बारे में जानकारी दी। उत्तरी सेना के कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल वाईके जोशी ने प्रधानमंत्री मोदी को सेना की तैयारियों की जानकारी दी। जिस वक्त प्रधानमंत्री को ब्रीफ किया गया उस वक्त वहां बड़ी संख्या में सुरक्षा बल के जवान भी मौजूद थे। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि चीन से साथ सख्ती से निपटना होगा। उन्होंने कहा कि पूरी ताकत से दुश्मन से निपटने की जरूरत है।

गलवान में चीनी सेना के साथ झड़प के बाद प्रधानमंत्री मोदी ने खुद यहां लेह के पास अग्रिम पोस्ट पहुंचकर सभी को चौंका दिया है। झड़प के बाद से ही यहां तनाव की स्थिति है। तनाव के बीच भारत और चीन के बीच कूटनीतिक स्तर पर बातचीत भी चल रही है।

प्रधानमंत्री मोदी का नीमू अग्रिम पोस्ट का यह दौरा काफी अहम माना जा रहा है। यह भी माना जा रहा है कि प्रधानमंत्री ने सीमा पर पहुंचकर सैनिकों में जोश भरने के साथ चीन को सख्त संदेश दे दिया है।

प्रधानमंत्री मोदी ने इस दौरे की जानकारी फेसबुक पेज पर साझा की है। प्रधानमंत्री ने लिखा है कि नीमू में हमारे बहादुर सशस्त्र बल के जवानों के साथ बातचीत की।

प्रधानमंत्री मोदी ने इसकी जानकारी इंस्टाग्राम पर भी साझा की है।

 

 
 
 
 
 
View this post on Instagram
 
 
 
 
 
 
 
 
 

 

Interacting with our brave armed forces personnel at Nimu.

A post shared by Narendra Modi (@narendramodi) on

प्रधानमंत्री मोदी ने नीमू में जवानों को संबोधित किया। यहां कोरोना संकट के कारण जवानों के बीच सोशल डिस्टेंसिंग भी देखने को मिली।

15 जून को गलवान घाटी में झड़प के बाद से भारत और चीन की बीच तनाव बना हुआ है। गलवान घाटी में भारत के 20 जवान शहीद हुए जबकि चीन के 40 से ज्यादा सैनिक मारे गए थे। ऐसे में प्रधानमंत्री मोदी के लेह पहुंचते ही जवान ‘भारत माता की जय’ और ‘वंदे मातरम’ के नारे लगाने लगे।

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

प्रधानमंत्री मोदी ने पिछले रविवार 28 जून को मन की बात कार्यक्रम में कहा था कि लद्दाख में भारत की भूमि पर, आंख उठाकर देखने वालों को, करारा जवाब मिला है। भारत, मित्रता निभाना जानता है, तो, आंख-में-आंख डालकर देखना और उचित जवाब देना भी जानता है। हमारे वीर सैनिकों ने दिखा दिया है, कि, वो, कभी भी मां भारती के गौरव पर आंच नहीं आने देंगे।

Leave a Reply