Home समाचार 75वां स्वतंत्रता दिवस: लाल किले की प्रचीर से बोले पीएम मोदी- यही...

75वां स्वतंत्रता दिवस: लाल किले की प्रचीर से बोले पीएम मोदी- यही समय है, सही समय है, भारत का अनमोल समय है

631
SHARE

75वें स्वतंत्रता दिवस के मौके पर रविवार को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने लाल किले पर तिरंगा फहराया। इस अवसर पर लाल किले की प्राचीर से देश को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने शिक्षा, सुरक्षा, महिला, किसान, गरीबी, टेक्नोलॉजी, विकास समेत हर मुद्दे पर अपने विचार रखे। पीएम मोदी ने इस दशक को अत्यंत महत्वूपर्ण बताते हुए कहा कि यही समय है, सही समय है, भारत का अनमोल समय है, असंख्या भुजाओं की शक्ति है, हर तरफ देश की भक्ति है, तुम उठो तिरंगा लहरा दो, भारत के भाग्य को फहरा दो, यही सम है, सही समय है।

पीएम मोदी ने कहा कि आज आजादी के अमृत महोत्सव के इस पर्व पर देश अपने सभी स्वतंत्रता सेनानियों को याद कर रहा है। उन्होंने कहा कि महात्मा गांधी, नेताजी सुभाष चंद्र बोस, भगत सिंह, रामप्रसाद बिस्मिल, अशफाकउल्ला खां, रानी लक्ष्मीबाई, पंडित जवाहरलाल नेहरू, सरदार पटेल, बाबा साहेब अंबेडकर समेत अन्य सभी को आज देश याद कर रहा है।

पीएम मोदी ने कहा कि कोरोना काल में देश के डॉक्टरों, वैज्ञानिकों ने वैक्सीन बनाने का काम किया, करोड़ों लोगों ने पल-पल जनसेवा की है। आज देश के कई इलाकों में बाढ़, भूस्खलन में कई लोगों की जान गई है, उन्हें देश याद करता है। प्रधानमंत्री ने इस दौरान ओलंपिक में भारत के शानदार प्रदर्शन पर खिलाड़ियों को बधाई दी, पीएम मोदी ने यहां सभी खिलाड़ियों के लिए तालियां भी बजवाईं।

पीएम मोदी ने कहा कि बंटवारे का दर्द आज भी हिन्दुस्तान के सीने को छलनी करता है, ये पिछली सदी की सबसे बड़ी त्रासदियों में से एक है। भारत ने फैसला लिया है कि 14 अगस्त को हर साल अब विभाजन विभिषिका स्मृति दिवस के रूप में याद किया जाएगा। जिन लोगों ने बंटवारे के समय अत्याचार सहा, अब उन लोगों का सम्मान किया जाएगा।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि कोरोना काल बहुत चुनौतियों के साथ आया, देश ने इन मुश्किलों का मिलकर सामना किया। ये हमारी ताकत है कि आज वैक्सीन के लिए हमें किसी बाहरी देश पर निर्भर नहीं होना पड़ा, अगर भारत के पास अपनी वैक्सीन नहीं होती तो क्या होता। पोलियो की वैक्सीन पाने में भारत को कई साल गंवाने पड़े, लेकिन इतने बड़े संकट के दौरान हमारे वैज्ञानिकों ने इतिहास रच दिया। श्री मोदी ने कहा कि दुनिया के अन्य देशों की तुलना में भारत में कम संख्या में लोग कोरोना से पीड़ित हुए हैं, लेकिन ये कहना कि हमारे सामने कोई चुनौती नहीं थी, ये कहना गलत होगा। तमाम प्रयासों के बाद भी हम कई लोगों को बचा नहीं पाए, कितने ही बच्चों के सिर से साया उठ गया। पीएम मोदी ने कहा कि आने वाले 25 साल हमारे देश का भविष्य तय करेंगे।

पीएम मोदी ने कहा कि स्वास्थ्य के क्षेत्र में देश आत्मनिर्भर हो रहा है, जल्द ही देश के हर अस्पताल के पास अपने ऑक्सीजन प्लांट होंगे। प्रधानमंत्री मोदी ने इस दौरान नॉर्थ ईस्ट में हो रहे सरकार के कामकाज के बारे में जानकारी दी। उन्होंने कहा कि हर राज्य की राजधानी को रेलवे सुविधा से जोड़ा जा रहा है, इसके अलावा वहां के टूरिज्म पर ज़ोर दिया जा रहा है। पीएम मोदी ने कहा कि जम्मू-कश्मीर में डिलिमिटेशन की प्रक्रिया जारी है, भविष्य में विधानसभा चुनाव कराने की तैयारी जारी है। लद्दाख भी आधुनिक इंफ्रास्ट्रक्चर का निर्माण होते हुए देख रहा है। हमारा फोकस आदिवासी इलाकों पर भी है, जहां विकास को तेजी से पहुंचाया जा रहा है।

पीएम मोदी ने कहा कि अमृत काल का लक्ष्य है कि देश में सबसे आधुनिक सुविधाएं हो, हम किसी से कम ना हो, सरकार बेवजह लोगों की जिंदगी में दखल ना दे। लेकिन ये संकल्प तब तक पूरा नहीं होगा, जबतक परिश्रम और पराक्रम की पराकाष्टा ना हो। पीएम मोदी ने कहा कि हमें अपने लक्ष्यों की प्राप्ति के लिए लंबा इंतजार नहीं करना है, हमारे पास अब गंवाने के लिए एक पल भी नहीं है। हमारे देश और हमें खुद को बदलना होगा।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि सबका साथ, सबका विकास और सबका विश्वास के मिशन से हम आगे बढ़ रहे हैं। उन्होंने इसमें एक नया नारा जोड़ा और ‘सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्वास और सबका प्रयास’ की बात कही। पीएम मोदी ने कहा कि पिछले सात साल में सरकार की कई योजनाओं के जरिए आम लोगों तक मदद पहुंची है। अब हमें शत प्रतिशत का लक्ष्य रखना है, हर गांव तक सड़कें, हर किसी का बैंक खाता हो, इस लक्ष्य को हमें पूरा करना है। पीएम मोदी ने कहा कि अब गरीबों को पोषण युक्त चावल दिया जाएगा, मिड-डे मील के चावल को भी इस मिशन में शामिल किया जाएगा, साल 2024 तक हर योजना के तहत मिलने वाले चावल को पोषण युक्त किया जाएगा।

पीएम मोदी ने कहा कि भारत अब सहकारवाद पर भी ध्यान दे रहा है, ये अर्थव्यवस्था की एक अहम शक्ति है। सरकार ने अब इसके लिए अलग मंत्रालय बनाया है, राज्यों के साथ मिलकर इस क्षेत्र को मजबूत किया जाना है। इस दशक में अपने गांवों को आगे बढ़ाने के लिए हमें शक्ति लगानी होगी, पिछले कुछ वर्षों में गांवों में सड़क-बिजली पहुंचा है, अब गांवों को ऑप्टिकल फाइबर नेटवर्क से ताकत मिल रही है।

पीएम मोदी ने कहा कि छोटा किसान बने देश की शान, यह हमारा सपना है। आने वाले वर्षों में हमें देश के छोटे किसानों की सामूहिक शक्ति को और बढ़ाना होगा, उन्हें नई सुविधाएं देनी होंगी। देश में एक बड़ा तबका किसानों का ऐसा है, जिनके पास 2 हेक्टेयर से भी कम जमीन है। देश में पहले छोटे किसानों पर ध्यान नहीं दिया गया, इन्हीं सुधारों को ध्यान में रखते हुए कई फैसले लिए जा रहे हैं। अब ब्लॉक लेवल तक वेयरहाउस बनाए जाएंगे। वैज्ञानिकों के सुझावों को अब कृषि सेक्टर में लागू करना होगा, इसमें ज्यादा देरी नहीं की जा सकती है।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि सरकार उद्योग जगत के लिए नियमों को आसान करने में जुटी है, स्टार्टअप के लिए भी यही कोशिश की जा रही है। आज देश में स्टार्टअप यूनिकॉर्न बन रहे हैं, जो देश के नए वेल्थ क्रिएटर्स हैं। प्रधानमंत्री ने कहा कि आज देश में राजनीतिक इच्छाशक्ति की कमी नहीं है, अब गुड गर्वनेंस पर बल दिया जा रहा है।

श्री मोदी ने कहा कि आजादी के अमृत महोत्सव के 75 सप्ताह में, 75 वंदेभारत ट्रेनें देश के हर कोने को जोड़ेंगी। देश में नई गति से एयरपोर्ट का निर्माण हो रहा है, उड़ान योजना ने लोगों के सपनों को उड़ान दी है। पीएम मोदी ने कहा कि जल्द ही देश ‘प्रधानमंत्री गतिशक्ति योजना’ का ऐलान किया जाएगा, ये 100 लाख करोड़ रुपये से अधिक की योजना होगी, जो लाखों युवाओं के लिए योजगार के अवसर लाएगी। ये देश के लिए मास्टरप्लान होगा जो नए इंफ्रास्ट्रक्चर की नींव रखेगा।

पीएम मोदी ने कहा कि खेल के मैदान में भाषा रुकावट नहीं बनी है, यही कारण है कि आज हमारे युवा खिलने लगे हैं। जीवन के अन्य मैदानों में भी यही करना होगा, राष्ट्रीय शिक्षा नीति अहम भूमिका निभाएगी। स्पोर्ट्स को अब मेनस्ट्रीम पढ़ाई का हिस्सा बनाया गया है। आज देश में स्पोर्ट्स को लेकर नई जागरुकता आई है, इस बार ओलंपिक में भी हमने इतिहास रचते हुए देखा है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लालकिले से ग्रीन हाइड्रोजन योजना का ऐलान किया, पीएम मोदी ने कहा कि हमें अपने देश को एनर्जी के सेक्टर में आत्मनिर्भर बनाना है । पीएम मोदी ने कहा कि कोरोना काल के बाद दुनिया का वर्ल्ड ऑर्डर बदल रहा है, भारत आतंकवाद की चुनौती से लड़ रहा है और हिम्मत के साथ जवाब दे रहा है। मैं देश को विश्वास दिलाता हूं कि सेनाओं के हाथ मजबूत करने में हम कोई कसर नहीं छोड़ेंगे।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि जब 2047 में आजादी के 100 साल पूरे होंगे, तब जो भी देश का प्रधानमंत्री होगा और वो यहां से जब संबोधन करेगा, तब उन्हीं बातों का ज़िक्र होगा जिनका संकल्प आज हम यहां से कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि 21वीं सदी में भारत को अपने सपनों को पूरा करने से कोई बाधा हमें रोक नहीं सकती है। हमारी ताकत हमारी एकजुटता है, हमारी जीवटता है। हमारी प्राणशक्ति, राष्ट्र प्रथम, सदैव प्रथम की भावना है।

Leave a Reply