Home समाचार जानिए किस तरह गलवान में भारतीय सैनिकों ने चीनी साजिश को किया...

जानिए किस तरह गलवान में भारतीय सैनिकों ने चीनी साजिश को किया नाकाम, काराकोरम मार्ग और डीबीओ रोड पर थी चीन की नजर

1039
SHARE

भारत के विदेश मंत्री एस जयशंकर ने चीनी विदेश मंत्री वांग यी से स्पष्ट कहा कि गलवान में जो कुछ भी हुआ, उसे चीन ने काफी सोची-समझी और पूर्वनियोजित रणनीति के तहत अंजाम दिया। ताकि भारतीय सेना को पेट्रोलिंग पॉइंट 14 से हटाकर एलएसी को बदला जा सके। इसके साथ ही काराकोरम मार्ग और डीबीओ रोड पर भारतीय सेना के वाहनों की आवाजाही को रोका जा सके। लेकिन भारतीय सैनिकों ने अपना बलिदान देककर इस साजिश को नाकाम कर दिया।

दरअसल चीन की सेना की ओर से भारत के पेट्रोलिंग पॉइंट 14 पर निगरानी चौकी बनाए जाने की वजह से सोमवार की रात भारत और चीन के सैनिकों के बीच खूनी संघर्ष हुआ, जिसमें भारत के 20 सैनिक शहीद हुए तो चीन के 40 से अधिक सैनिक मारे गए।

यदि इस पोस्ट को हटाया नहीं जाता तो चीन की सेना ना केवल काराकोरम की तरफ भारतीय सेना की आवाजाही पर नजर रख सकती थी, बल्कि दारबुक-श्योक-दौलतबेग ओल्डी (डीबीओ) रोड पर सेना के वाहनों की आवाजाही को रोकने की क्षमता मिल जाती। सबसे महत्वपूर्ण यह है कि इस पोस्ट को भारतीय सीमा में एलएसी के इस पार बनाया गया था। अगर चीनी सेना अपनी साजिश में सफल हो जाती तो यह भारतीय हितों के लिए बहुत बड़ा नुकसान होता।

पॉइंट 14 को भारतीय सेना ने 1978 में स्थापित किया था। यह एक चोटी पर है जहां से गलवान नदी घाटी और गलवान नदी पर नजर रखी जा सकती है, जो श्योक नदी में मिल जाती है। इसी के किनारे भारतीय सेना के इंजिनीयर्स डीएसबीओ रोड का निर्माण कर रहे हैं।

सेना के उच्च अधिकारियों और पूर्व कमांडर्स के साथ बातचीत के मुताबिक 6 जून को मिलिट्री कमांडर्स की बैठक में यह तक तय किया गया था कि पॉइंट 14 तक हर पोस्ट पर कितने सैनिक रह सकते हैं। लेकिन जिस समय सैनिकों के पीछे हटने की प्रक्रिया चल रही थी चीनी सैनिकों ने पॉइंट 14 के करीब निगरानी पोस्ट बनाने की कोशिश की। इसका 16 बिहार रेजिमेंट के कमांडिंग ऑफिसर कर्नल संतोष बाबू ने विरोध किया।

सोमवार 15 जून को सूर्यास्त के समय कर्नल संतोष और उनके कंपनी कमांडर पॉइंट 14 पर पहुंचे और पीएलए के अपने समकक्षों को ढांचा हटाने को कहा। दोनों पक्षों में जोरदार बहस होने लगी। दोनों तरफ से और सैनिक पहुंच गए और हाथ-पैर चलने लगे। गलवान नदी के पास चोटी के नीचे चाइनीज पीएलए का बेस कैंप है, वहां से बड़ी संख्या में चीनी सैनिक हथियारों के साथ पहुंच गए। शुरुआत में भारतीय सैनिकों की संख्या अच्छी खासी थी लेकिन चीनी उनसे अधिक संख्या में आ गए।

चाइनीज विदेश मंत्री ने भारतीय समकक्ष से कहा कि अनुशासन तोड़ने वाले सैनिकों को भारत सजा दे, जबकि सच्चाई यह है कि सीमा रेखा चीनी सैनिकों ने पार की। चीनी सेना वहां निगरानी पोस्ट बनाकर एलएसी को बदलना चाहती थी। झड़प से पहले चीनी अधिकारियों ने भारतीय अधिकारियों से कहा था कि एलएसी पाइंट 14 के पार है। चीन का यह अवैध पोस्ट पॉइंट 14 पर भारत की मौजूदगी को कमजोर कर देता। इससे चीनी सेना को बड़ा अडवांटेज मिल जाता।

 

 

Leave a Reply