Home चुनावी हलचल ABP Opinion Poll: बिहार में फिर एनडीए सरकार, नीतीश कुमार बने हुए...

ABP Opinion Poll: बिहार में फिर एनडीए सरकार, नीतीश कुमार बने हुए हैं सीएम के लिए पहली पसंद

490
SHARE

बिहार में विधानसभा चुनाव के लिए तारीखों का ऐलान होने के साथ ही मतदाताओं का मूड जानने के लिए ओपिनियन पोल और सर्वे होने लगे हैं। बिहार में तीन चरणों में होने वाले विधानसभा चुनाव के नतीजे 10 नवंबर को आएंगे, लेकिन उससे पहले एबीपी न्यूज और सीवोटर (C-Voter) के ओपिनियन पोल में बिहार में एक बार फिर एनडीए की सरकार बनती दिख रही है। ABP Opinion Poll के अनुसार बिहार में जेडीयू-बीजेपी-एलजेपी और हम का एनडीए बाजी मारता दिख रहा है। जबकि आरजेडी के नेतृत्व वाला यूपीए पिछड़ता दिख रहा है।

एनडीए की सरकार बनने के साथ ही बिहार में नीतीश कुमार एक बार फिर मुख्यमंत्री बन सकते हैं। अगर सीटों की बात करें तो ओपिनियन पोल के अनुसार एनडीए को 141 से 161 सीटें मिल सकती हैं। यूपीए को 64 से 84 सीटें मिल सकती हैं। जबकि अन्य दलों को 13 से 23 सीटें मिल सकती हैं।

किस गठबंधन को कितनी सीटें मिल सकती हैं?

गठबंधन सीटें – 243
एनडीए  141 से 161
यूपीए   64 से 84
अन्य   13 से 23

नीतीश कुमार पिछले 15 साल से बिहार के मुख्यमंत्री हैं। एबीपी न्यूज ओपिनियन पोल में जब मतदाताओं से नीतीश कुमार, तेजस्वी यादव, राम विलास पासवान, सुशील मोदी और उपेंद्र कुशवाहा समेत अन्य नेताओं के मुख्यमंत्री चेहरे को लेकर सवाल किया गया तो सबसे अधिक 30 प्रतिशत लोगों ने नीतीश कुमार पर अपना भरोसा जताया।

नीतीश कुमार –30.9 प्रतिशत
तेजस्वी यादव- 15.4 प्रतिशत
सुशील मोदी – 9.2 प्रतिशत
लालू प्रसाद यादव– 8.3 प्रतिशत
राम विलास पासवान– 6.5 प्रतिशत
उपेंद्र कुशवाहा – 5.1 प्रतिशत
गिरिराज सिंह – 6.2 प्रतिशत
तारिक अनवर – 2.1 प्रतिशत
अन्य – 16.3 प्रतिशत

बिहार में पहले चरण में 28 अक्टूबर को 71 विधानसभा क्षेत्रों में चुनाव होंगे। दूसरे चरण में 3 नवंबर को 94 विधानसभा क्षेत्रों में मतदान होंगे। जबकि तीसरे चरण में 7 नवंबर को 78 विधानसभा क्षेत्रों में वोट डाले जाएंगे। इसके बाद 10 नवंबर को चुनाव के नतीजे आएंगे। 243 सदस्यीय बिहार विधानसभा का कार्यकाल 29 नवम्बर को समाप्त हो रहा है। 243 में से 38 सीटें अनुसूचित जाति के लिए और 2 सीटें अनुसूचित जनजाति के लिए रिजर्व हैं।

कोरोना के कारण इस बार वोटिंग का समय एक घंटा बढ़ा दिया गया है। नक्सल प्रभावित इलाकों को छोड़ बाकि इलाकों में मतदान का समय सुबह 7 बजे से शाम 6 बजे तक तय किया गया है। अंतिम एक घंटा कोविड रोगियों के लिए रखा गया है। इसके साथ ही चुनाव प्रचार के दौरान जनसभाओं और अन्य गतिविधियों में सुरक्षित दूरी बनाए रखने के नियमों का पालन करना होगा।

 

Leave a Reply