Home समाचार आतंकी हमले के बीच दादा के शव पर बैठे बच्चे को बहादुर...

आतंकी हमले के बीच दादा के शव पर बैठे बच्चे को बहादुर जवान ने बचाया

279
SHARE

पाकिस्तान प्रायोजित आतंकवाद का एक और भयानक चेहरा सामने आया है। जम्मू-कश्मीर से सफाया किए जाने से बौखलाए पाकिस्तानी आतंकवादियों ने अब आम लोगों को भी निशाना बनाना शुरू कर दिया है। आतंकियों ने बुधवार को सोपोर में सीआरपीएफ के काफिले पर घात लगाकर हमला किया। इस हमले में एक जवान के शहीद होने के साथ एक स्थानीय व्यक्ति भी मारा गया। दूध लेने जा रहे उस व्यक्ति के साथ उसका तीन साल का पोता भी था। खून से लथपथ शव पर बैठकर बच्चे के रोने वाली तस्वीर ने दुनिया भर के लोगों को झकझोर कर रख दिया। पाकिस्तान मानवता का दुश्मन है। ये तस्वीरें इस बात की तस्दीक करती हैं।

मुठभेड़ के बीच तीन साल का बच्चा अपने दादा के शव पर बैठा रो रहा था। बच्चे को क्या पता कि अब उसके दादा जी कभी नहीं उठ पाएंगे। सीआरपीएफ और जम्मू-कश्मीर पुलिस के जवानों के लिए सबसे बड़ी चुनौती गोलीबारी के बीच बच्चे को वहां से सुरक्षित निकालने की थी।

एक जवान ने फरिश्ते की तरह वहां पास जाकर बच्चे को इशारे से अपने पास बुलाया और उसे पुचकारते हुए अपनी गोद में उठा लिया। और मुठभेड़ के दौरान गोलीबारी के बीच जवान ने अपनी जान की परवाह ना करते हुए बच्चे को वहां से सुरक्षित बाहर निकाल लिया।

सेना के जवान के इस बहादुरी पर देश भर के लोग गर्व महसूस कर रहे हैं।

बच्चे को वहां से निकालने वाली तस्वीर सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है।

Leave a Reply