Home समाचार संयुक्त राष्ट्र में चीन को घेरने की तैयारी, सीमा विवाद पर समर्थन...

संयुक्त राष्ट्र में चीन को घेरने की तैयारी, सीमा विवाद पर समर्थन जुटाने के लिए भारत ने तेज की मुहिम

230
SHARE

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने चीन को सबक सीखाने के लिए हर मोर्चे पर जवाब देने का फैसला कर लिया है। सीमा पर सैनिकों और हथियारों की तैनाती के साथ ही एस-400 और राफेल लड़ाकू विमान की जल्द आपूर्ति की कोशिशें भी तेज कर दी हैं। वहीं संयुक्त राष्ट्र में चीन को अलग-थलग करने के लिए भारत ने अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर समर्थन जुटाने की मुहिम भी तेज कर दी है। सूत्रों के मुताबिक संयुक्त राष्ट्र में अस्थायी सदस्यता हासिल करने के बाद से भारत अन्य स्थायी और अस्थायी सदस्य देशों से आपसी समझ बढ़ा रहा है, ताकि संयुक्त राष्ट्र में उसकी भूमिका प्रभावी हो सके और चीन को भी जवाब दिया जा सके।  

चीन की घेरेबंदी विभिन्न स्तरों पर तेज

सूत्रों के मुताबिक भारत अपने साथ चुने गए अन्य अस्थायी सदस्यों से भी सहयोग हासिल कर विश्व मंच पर एजेंडा तय करने में अहम भूमिका निभाने में जुटा है। कोविड संकट और अब भारत और चीन के बीच सीमा विवाद ने विश्व मंच पर भारत की आवाज को ताकत दी है। अधिकतर देश इस क्षेत्र में सीधे सैन्य टकराव के पक्ष में नहीं हैं लेकिन चीन की घेरेबंदी विभिन्न स्तरों पर तेज हुई है। जल्द भारत दुनिया का एजेंडा तय करता हुआ नजर आएगा। चीन के साथ कूटनीतिक स्तर पर दिक्कतों के बावजूद भारत की वैश्विक कूटनीति ज्यादा प्रभावी होगी।

स्थायी सदस्यों को करीब लाने की कोशिश

सूत्रों के मुताबिक भारत ने बारी-बारी से संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के स्थायी सदस्यों से मौजूदा ज्वलंत मुद्दों पर बात कर उन्हें अपने करीब लाने की कोशिश की है। वैश्विक मुद्दों पर भी भारत आपसी समझ बढ़ाने में जुटा है। सोमवार को फ्रांस और भारत के विदेश सचिव स्तर की बातचीत में भी आपसी समझ के कई मुद्दों पर चर्चा हुई। इसमें मौजूदा सीमा विवाद भी शामिल है। विदेश सचिव की पिछले हफ्ते जर्मनी के विदेश सचिव से भी बात हुई थी।

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में भारत का पलड़ा भारी

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में जहां चीन वीटो पावर के साथ चार अन्य देशों के साथ स्थायी सदस्य है, वहां भी समर्थन भारत के पक्ष में ज्यादा है। अमेरिका, रूस, फ्रांस और ब्रिटेन सीमा मसले पर भारत की समझ के ज्यादा करीब हैं। सूत्रों ने कहा कि ये सभी देश चीन के भारत विरोधी एजेंडे को बार-बार ध्वस्त करते रहे हैं।

भारत के पक्ष में अमेरिका, फ्रांस और रूस

फ्रांस का समर्थन भारत के लिए लगभग उस तरह का है, जैसे कभी रूस का भारत के लिए होता था। रूस की मित्रता चीन से भी है लेकिन अहम मौकों पर भारत का साथ देने की वजह से दोनों देशों का परंपरागत भरोसा बरकरार है। रूस ने मौजूदा विवाद में भी भारत के रुख को समझा है। अमेरिका भारत का बड़ा सामरिक सहयोगी बनकर उभरा है।

 

Leave a Reply