Home विपक्ष विशेष CM गहलोत पर भड़के सचिन पायलट – पंजाब में तो दलित...

CM गहलोत पर भड़के सचिन पायलट – पंजाब में तो दलित मुख्यमंत्री बना दिया, राजस्थान में एक भी दलित कैबिनेट मंत्री तक नहीं है

502
SHARE

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी यूपी के आगरा में जब सफाई कर्मचारी की मौत पर दलित राजनीति कर रही थीं, उसी दिन राजस्थान में उन्हीं की पार्टी के वरिष्ठ नेता दलितों पर दोहरे स्टेंड को लेकर कांग्रेस और उसके नेताओं को कोसने में लगे थे। दलितों को लेकर पार्टी पर डिप्टी सीएम ने कई व्यंग्य भी कसे। उधर प्रियंका ने कहा कि वह गहलोत से बात करेंगी।

 

गहलोत-पायलट की सियासी लड़ाई तेज
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और सचिन पायलट के बीच सियासी लड़ाई जगजाहिर है। सचिन के लाख चाहने पर भी गहलोत ने न तो मंत्रिमंडल फेरबदल किया और न ही राजनीतिक नियुक्तियां। डिप्टी सीएम और प्रदेश अध्यक्ष पद भी सचिन पायलट से छिन गया। दिल्ली तक बगावत करने के बाद उन्हें फिर से पार्टी के ही जुड़ना पड़ा। इसके बाद जब-तब उनके बगावती बोल ही सुनाई पड़ते रहते हैं।

राजस्थान में कोई दलित कैबिनेट मंत्री नहीं
इस बार सचिन ने अपनी ही पार्टी की दलित राजनीति को कठघरे में खड़ा किया है। जयपुर के चाकसू में अंबेडकर की मूर्ति के लोकार्पण समारोह में पायलट ने करारा प्रहार किया कि हमारी पार्टी पंजाब में तो दलित मुख्यमंत्री बना रही है और राजस्थान कैबिनेट में एक दलित मंत्री तक नहीं है। सचिन ने कहा कि दिवंगत मास्टर भंवरलाल के निधन के बाद से राजस्थान में कोई दलित कैबिनेट मंत्री नहीं है।

न्योता तो दिया था, दोनों नहीं आए
इस कार्यक्रम में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और प्रदेश अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा को भी बुलाया गया था, लेकिन दोनों नहीं आए। पायलट ने तंज कसा – न्योता तो दोनों को दिया गया था। किसी कारण से नहीं आ सके। दलितों की भलाई के लिए सरकार-पार्टी मेहनत के लगे हैं। उम्मीद है कि सरकार दलित समाज के किसी व्यक्ति को कैबिनेट मंत्री भी बना देगी।

चुपचाप मूर्ति लगाने के काम नहीं चलता
चाकसू में ही पिछले दिनों पिता राजेश पायलट की प्रतिमा गुपचुप तरीके के लगाने को भी सचिन ने आड़े हाथों लिया। उन्होंने कहा कि प्रतिमाओं का अनावरण सबको जोड़ने के लिए होता है। ऐसे चुपचाप मूर्ति लगाने के काम नहीं चलता। इस कार्यक्रम पर राजस्थान के पूर्व सहप्रभारी तरुण कुमार बोले कि कार्यक्रम का संदेश दिल्ली तक जाएगा।

 

Leave a Reply