Home समाचार भारतीय अर्थव्यवस्था पर विदेशी निवेशकों का बढ़ा भरोसा, जून के पहले चार...

भारतीय अर्थव्यवस्था पर विदेशी निवेशकों का बढ़ा भरोसा, जून के पहले चार दिनों में निवेश किया 8000 करोड़ रुपये

300
SHARE

मोदी सरकार की नीतियों की वजह से कोरोना महामारी के बावजूद देश की अर्थव्यवस्था मजबूती के साथ आगे बढ़ रही है। यही वजह है कि विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों का भारतीय अर्थव्यवस्था पर भरोसा बना हुआ है। विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों यानि एफपीआई ने जून के पहले 4 ट्रेडिंग सेशन (Trading Sessions) में भारतीय शेयर बाजारों में 8,000 करोड़ रुपये डाले हैं।

डिपॉजिटरी आंकड़ों से पता चलता है कि मई महीने में एफपीआई ने 2,954 करोड़ रुपये और अप्रैल महीने में 9,659 करोड़ रुपये निकाले थे। आंकड़ों के मुताबिक, विदेशी पोर्टफोलिया निवेशकों ने 1 से 4 जून के बीच भारतीय इक्विटी बाजार में 7,968 करोड़ रुपये डाले हैं। पिछले दो हफ्तों के दौरान एफपीआई की रणनीति में अचानक बदलाव आया है।

कोरोना की दूसरी लहर में गिरावट और नए मामलों में कमी आ रही है। साथ ही कंपनियों के तिमाही रिजल्ट नतीजे बेहतर आने के बाद भारतीय बाजारों के प्रति विदेशी निवेशकों का भरोसा बढ़ा है। मॉर्निंगस्टार इंडिया के एसोसिएट निदेशक-प्रबंधक शोध हिमांशु श्रीवास्तव ने कहा, ”आगे चलकर कोरोना वायरस के मोर्चे पर परिदृश्य में सुधार और टीकाकरण अभियान तेज होने से एफपीआई का निवेश और बढ़ने की उम्मीद है।”

अक्टूबर 2020 से मार्च 2021 के दौरान विदेशी पोर्टफोलिया निवेशकों ने शेयरों में 1.97 लाख करोड़ रुपये का निवेश किया था। इसमें से 55,741 करोड़ रुपये का शुद्ध निवेश चालू साल के पहले तीन माह में हुआ है। ग्रो के सह-संस्थापक एवं मुख्य परिचालन अधिकारी (सीओओ) हर्ष जैन ने कहा, ”कोविड-19 संक्रमण में लगातार कमी के बाद अब विदेशी निवेशक भारतीय अर्थव्यवस्था में निवेश को लेकर अधिक आशान्वित नजर आ रहे हैं।”

 

Leave a Reply