Home समाचार राजस्थान की इस बेटी की आत्महत्या से पहले का दर्द देखिए प्रियंका...

राजस्थान की इस बेटी की आत्महत्या से पहले का दर्द देखिए प्रियंका जी…

726
SHARE

गैर कांग्रेस सरकार वाले प्रदेश सरकार के खिलाफ हमेशा नकारात्मक नैरेटिव बनाने में जुटी कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी को राजस्थान की इस बेटी की आत्महत्या से पहले की इस दास्तां पर ध्यान देना चाहिए। उन्हें गहलोत सरकार से इंसाफ करने को कहना चाहिए, जो पुलिस की इस दरिंदगी की लीपापोती करने में जुटी है। कहा जाता है कि मरते वक्त कोई झूठ नहीं बोलता, लेकिन राजस्थान की पुलिस 30 वर्षीय विवाहिता की आत्महत्या करने से पहले सुनाई आपबीती पर यकीन नहीं कर रही है। अशोक गहलोत सरकार की सह पर मामले की लीपापोती करने में जुटी है।

वीडियो जारी कर किया दरिंदे का खुलासा  

कल यानि शुक्रवार को श्रीगंगानगर जिले के केसरीसिंहपुर कस्बे की एक 30 वर्षीया विवाहिता ने नहर में कूदकर आत्महत्या कर ली। लेकिन मरने से पहले वह उस दरिंदे पुलिस की करतूत का खुलासा कर गई। उन्होंने आत्महत्या करने से पहले वीडियो बनाकर खुदकुशी का जो कारण बताया है, वह राजस्थान सरकार और वहां की पुलिस को शर्मसार करने वाला है। उन्होंने अपनी आत्महत्या के लिए राजस्थान पुलिस में कार्यरत मनीराम चौहान और उनकी पत्नी को जिम्मेदार बताया है। उन्होंने वीडियो में मनीराम द्वारा बार-बार दुष्कर्म करने और उसकी पत्नी द्वारा परेशान करने से आजिज आकर खुदकुशी करने की बात कही है। उन्होंने स्पष्ट कहा है कि उनकी आत्महत्या के लिए सिर्फ और सिर्फ मनीराम और उसकी पत्नी जिम्मेदार है। फिर भी श्रीगंगानगर जिले के एसपी राजन दुष्यंत का कहना है कि इस मामले में जो दोषी पाया जाएगा उसके खिलाफ कार्रवाई होगी।

विवाहिता ने यूं बताई आपबीती…

मैं बस आज अपनी जिंदगी खत्म करने जा रही हूं। सॉरी, मम्म-पापा, भइया-भाभी, सबको। मैं आज अपने बच्चों को छोड़कर जा रही हूं, क्योंकि मैं अपनी जिंदगी से तंग आ गई हूं। मरने की वजह मनीराम चौहान जो पुलिस में हैं और उसकी पत्नी दोनों। सिर्फ और सिर्फ मैं उनकी वजह से आत्महत्या करने जा रही हूं। मनीराम चौहान ने मेरा बार-बार दुष्कर्म किया, मुझे ब्लैकमेल किय। मेरा शारीरिक शोषण किया और उसकी पत्नी ने मुझे परेशान कर दिया। इसमें किसी की कोई गलती नहीं है। सिर्फ और सिर्फ मनीराम चौहान व उसकी पत्नी जिम्मेदार है। बाय पापा, सॉरी, आपकी बेटी…         

Leave a Reply