Home समाचार अखिलेश को तुष्टिकरण की नीति पड़ी भारी, बरेलवी उलेमा ने की मुस्लिम...

अखिलेश को तुष्टिकरण की नीति पड़ी भारी, बरेलवी उलेमा ने की मुस्लिम को समाजवादी पार्टी अध्यक्ष बनाने की मांग

478
SHARE

समाजवादी पार्टी प्रमुख अखिलेश यादव जिस मुस्लिम तुष्टिकरण की नीति को अपना कर उत्तर प्रदेश पर राज करना चाहते हैं, वही नीति अब उनपर भारी पड़ रही है। बरेलवी उलेमा मौलाना शहाबुद्दीन ने अखिलेश यादव से समाजवादी पार्टी का राष्ट्रीय अध्यक्ष किसी मुस्लिम को बनाने की मांग की है। ऑल इंडिया मुस्लिम जमात के राष्ट्रीय अध्यक्ष मौलाना शहाबुद्दीन ने एक वीडियो जारी कर कहा है समाजवादी पार्टी का राष्ट्रीय अध्यक्ष किसी मुस्लिम को बनाया जाना चाहिए, क्योंकि मुस्लिमों ने मुलायम सिंह और अखिलेश सिंह यादव दोनों को मुख्यमंत्री बनाया है। उन्होंने यह भी कहा कि अखिलेश यादव मुस्लिमों के मामले को नजरअंदाज करते हैं।

लखनऊ में 28-29 सितंबर को होने वाले समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय सम्मेलन से पहले जारी इस वीडियो ने पार्टी के अंदर हलचल मचा कर रख दी है। अपने बयान में मौलाना शहाबुद्दीन ने साफ कहा है कि यदि अखिलेश यादव ऐसा नहीं करते हैं, तो मुस्लिमों के पास विकल्प खुले हैं। पार्टी के मुस्लिम प्रेम को महज दिखावा करार देते हुए उन्होंने यह भी कहा कि अब समाजवादी पार्टी बिखर चुकी है। मौलाना शहाबुद्दीन ने कहा है कि समाजवादी पार्टी को अब मुसलमानों को उनका अधिकार देना होगा। पार्टी अगर मुसलमानों को उनका हक और सम्मान नहीं देगी तो मुसलमान किसी दूसरे विकल्प की तलाश करने पर मजबूर हो जाएंगे।

सोशल मीडिया पर जारी वीडियो में मौलाना शहाबुद्दीन ने यह भी कहा है कि अखिलेश यादव की बिरादरी के लोग पूरे उत्तर प्रदेश में सिर्फ 7 प्रतिशत हैं, जबकि मुस्लिमों की तादाद 22 से 25 प्रतिशत है। उन्होंने कहा कि अखिलेश यादव को राष्ट्रीय अध्यक्ष का पद मुस्लिमों को देने की कुर्बानी देनी होगी और अगर अखिलेश यादव ये कुर्बानी नहीं देते तो आने वाले चुनावों में मुस्लिमों के पास दूसरे विकल्प मौजूद हैं। देखिए वीडियो-

यह वीडियो जारी होते ही सोशल मीडिया पर वायरल हो गया। लोग अखिलेश यादव और उनकी समाजवादी पार्टी पर तंज कस रहे हैं।

Leave a Reply