Home समाचार ममता बनर्जी के ऑडियो टेप पर सियासी घमासान, पीएम मोदी ने कहा-...

ममता बनर्जी के ऑडियो टेप पर सियासी घमासान, पीएम मोदी ने कहा- शवों पर राजनीति करने की दीदी की पुरानी आदत, बीजेपी ने चुनाव आयोग से की शिकायत

240
SHARE

बंगाल में विधानसभा चुनाव के पांचवें चरण का मतदान राज्य के छह जिलों की 45 सीटों पर जारी है। इसी बीच कूचबिहार के शीतलकुची में सीआईएसएफ के फायरिंग मामले में मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के एक कथित ऑडियो टेप को लेकर सियासी घमासान मचा हुआ है। जहां आसनसोल की रैली में प्रधानमंत्री मोदी ने ममता बनर्जी पर निशाना साधा, वहीं बीजेपी ने इस मामले में चुनाव आयोग में शिकायत दर्ज कराई।

प्रधानमंत्री मोदी ने शनिवार यानि 17 अप्रैल, 2021 को आसनसोल में कूचबिहार की हिंसा को लेकर सामने आए ममता बनर्जी के कथित ऑडियो टेप को लेकर कहा, ‘कूचबिहार में जो हुआ, उस पर कल एक ऑडियो टेप आपने सुना होगा। 5 लोगों की दुखद मृत्यु के बाद दीदी किस तरह राजनीति कर रही हैं, ये इस ऑडियो से सामने आता है। इस ऑडियो में कूचबिहार के टीएमसी नेता को कहा जा रहा है कि मारे गए लोगों के शवों के साथ रैली करो।’

प्रधानमंत्री मोदी ने आगे कहा कि ममता दीदी, वोटबैंक के लिए आप कहां तक जाएंगी? सच्चाई ये है कि दीदी ने कूचबिहार में मारे गए लोगों की मृत्यु से भी अपना सियासी फायदा करने की सोची। शवों पर राजनीति करने की दीदी की बहुत पुरानी आदत है।

स्वप्न दासगुप्ता के नेतृत्व में बीजेपी का एक प्रतिनिधिमंडल चुनाव आयोग पहुंचकर शिकायत दर्ज कराई। बीजेपी ने इस मामले की निष्पक्ष जांच कराने की मांग की। पार्टी ने अपने शिकायत पत्र में कहा कि ममता बनर्जी चुनाव आयोग के कार्रवाई के बाद भी बंगाल में लगातार ध्रुवीकरण वाला बयान देने से बाज नहीं आ रही है। शिकायत में टीएमसी जिलाध्यक्ष से बातचीत का कथित ऑडियो का जिक्र किया गया है। 

बीजेपी ने आरोप लगाया कि अपने राजनीतिक हित साधने के लिए, धार्मिक आधार पर एक समुदाय के वोट प्राप्त करने के लिए जानबूझकर ऑडियो वायरल किया गया। बीजेपी नेता शिशिर बजोरिया ने कहा कि इस वायरल टेप की पुष्टि टीएमसी नेता शुखेंदु शेखर राय और डेरेक ओ ब्रायन ने मीडिया से कर दी है। हम चाहते हैं कि चुनाव आयोग इस पूरे मामले की एसआईटी से जांच कराएं।

बीजेपी की ओर से शेयर किए गए इस ऑडियो टेप में मुख्यमंत्री की आवाज में टीएमसी के कैंडिडेट पार्थ प्रतीम रॉय से कहा गया है, ‘मारे गये लोगों के शवों को रखो और एक दिन बाद जुलूस निकालो।’ वहीं उक्त ऑडियो टेप में मुख्यमंत्री ममता की ओर से कहा जा रहा है कि वे पेशेवर वकील के जरिये प्राथमिकी दर्ज कराने और केंद्रीय बल, एसपी और चुनाव आयोग को भी मामले में घसीटेंगी। ऑडियो टेप वायरल होने के बाद से राज्य का सियासी तापमान बढ़ गया है। 

गौरतलब है कि 10 अप्रैल को पश्चिम बंगाल में चौथे चरण के मतदान के दौरान कूचबिहार के शीतलकुची विधानसभा क्षेत्र की बूथ संख्या 126 पर हिंसा हुई थी। हिंसा का एक वीडियो सामने आया है। इसमें स्पष्ट रूप से देखा जा सकता है कि लाठी-डंडे से लैस भीड़ ने सुरक्षा बलों पर हमला कर दिया था। उनके हथियार छीनने की कोशिश की गई थी। तब सुरक्षाबलों ने अपनी सुरक्षा में गोलियां चलाईं और 4 लोग मारे गए। 

Leave a Reply