Home समाचार नागरिकता संशोधन कानून से देश के किसी नागरिक का कोई नुकसान नहीं...

नागरिकता संशोधन कानून से देश के किसी नागरिक का कोई नुकसान नहीं : लोकसभा में पीएम मोदी

628
SHARE

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को लोकसभा में राष्ट्रपति के अभिभाषण पर लाए गए धन्यवाद प्रस्ताव पर चर्चा का जवाब दिया। पीएम मोदी कहा कि नागरिकता संंशोधन कानून से देश के हिंदू, मुसलमान, सिख, इसाई किसी नागरिक को कोई नुकसान नहीं होने वाला है। कुछ लोग इस पर सवाल उठा रहे हैं। यह अभी क्‍यों लाया गया। कोई कह रहा है इससे देश टुकड़े-टुकड़े हो जाएगा। पाकिस्‍तान भी ऐसी ही बातें कर रहा है। उन्होंने कहा कि सीमांत गांधी का बचपन में उन्हें पांव छूने का अवसर मिला था। खान अब्‍दुल गफ्फार खान, हजरत महली ये सब भारतीय हैं।  

लोकसभा में बोलते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि हम भी आप लोगों के रास्ते पर चलते तो शायद 70 साल के बाद भी इस देश से अनुच्छेद 370 नहीं हटता। आपके ही तौर तरीके से चलते तो मुस्लिम महिलाओं को तीन तलाक की तलवार आज भी डराती। आपकी ही सोच के साथ चलते तो राम जन्मभूमि आज भी विवादों में रहती। आपकी ही सोच अगर होती तो करतापुर साहिब कोरिडोर कभी नहीं बन पाता।  

उन्होंने आगे कहा, “आपके ही के तरीके होते, आपका ही रास्ता होता, तो भारत-बांग्लादेश विवाद कभी नहीं सुलझता। अगर कांग्रेस के रास्ते हम चलते ,तो 50 साल बाद भी शत्रु संपत्ति कानून का इंतजार देश को करते रहना पड़ता। 35 साल बाद भी नेक्स्ट जनरेशन लड़ाकू विमान का इंतजार देश को करते रहना पड़ता। 28 साल बाद भी बेनामी संपत्ति कानून लागू नहीं हो पाता।”

पीएम मोदी ने कहा कि हमने जिस तेज गति से काम किया है। उसका परिणाम है कि देश की जनता ने इसे देखा और देखने के बाद, उसी तेज गति से आगे बढ़ने के लिए हमें फिर से सेवा का मौका दिया। अगर ये तेज गति न होती तो 37 करोड़ लोगों के बैंक अकाउंट इतनी जल्दी नहीं खुलते। अगर गति तेज न होती तो 11 करोड़ लोगों के घरों में शौचालय न बनते। 13 करोड़ गरीब लोगों के घर में गैस का चूल्हा नहीं पहुंचता। 2 करोड़ नए घर गरीबों के लिए नहीं बनते। लंबे समय से अटकी दिल्ली की 1,700 कॉलोनियों को नियमित करने का काम पूरा न होता। 

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि डेढ़ गुना एमएसपी का विषय लंबे समय से अटका था, ये किसानों के प्रति हमारी जिम्मेदारी थी कि हमने उसे पूरा किया। वर्षों से लटकी करीब 99 सिंचाई परियोजनाओं पर 1 लाख करोड़ रुपये से ज्यादा खर्च करके पूरा किया और अब किसानों को उसका लाभ मिल रहा है। पीएम फसल बीमा योजना से किसानों में एक विश्वास पैदा हुआ है। इस योजना के अंतर्गत किसानों से करीब 13 हजार करोड़ रूपये का प्रीमियम आया लेकिन प्राकृतिक आपदा के कारण किसानों को जो नुकसान हुआ,उसके लिए किसानों को करीब 56 हजार करोड़ इस बीमा योजना से प्राप्त हुए।

उन्होंने कहा कि किसानों की आय बढ़े, ये हमारी प्राथमिकता है। Input cost कम हो ये हमारी प्राथमिकता है। हमारे देश में पहले 7 लाख टन दाल और तिलहन की खरीद हुई। जबकि हमारे कार्यकाल में 100 लाख टन दाल और तिलहन की खरीद हुई।

पीएम मोदी ने कहा कि हमने समस्याओं के समाधान खोजने का लगातार प्रयास किया है और उसी का परिणाम है कि अर्थव्यवस्था में Fiscal deficit बनी रही है, महंगाई नियंत्रित रही है और Macro-economic स्टेबिलिटी भी बनी रही है। 

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि अगर विपक्ष यह मानता है कि संविधान इतना महत्वपूर्ण है तो हिंदुस्तान के संविधान को जम्मू कश्मीर में लागू करने से इन्हें किसने रोका था। कश्मीर भारत का मुकुटमणि है। कश्मीर की पहचान बम, बंदूक और अलगाववाद की बना दी गई थी।  

 

Leave a Reply