Home समाचार प्रधानमंत्री मोदी के चुनिंदा भाषणों की किताब ‘सबका साथ, सबका विकास, सबका...

प्रधानमंत्री मोदी के चुनिंदा भाषणों की किताब ‘सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्‍वास’ का विमोचन

119
SHARE

प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी के चुनिन्‍दा भाषणों की किताब पुस्‍तक ‘सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्‍वास-प्राइम मिनिस्‍टर नरेन्‍द्र मोदी स्‍पीक्‍स’ का विमोचन 23 सितंबर को नई दिल्‍ली में आकाशवाणी भवन में किया गया। पूर्व उपराष्‍ट्रपति एम वेंकैया नायडू, केरल के राज्‍यपाल आरिफ मोहम्‍मद खान और सूचना और प्रसारण मंत्री अनुराग ठाकुर ने इस पुस्‍तक का विमोचन किया। हिंदी और अंग्रेजी में प्रकाशित इस किताब में नए भारत के बारे में प्रधानमंत्री मोदी के दृष्टिकोण को पेश किया गया है।

पूर्व उपराष्‍ट्रपति नायडू ने कहा कि मई 2019 से मई 2020 तक के प्रधानमंत्री मोदी के चुनिन्‍दा भाषणों पर आधारित इस पुस्‍तक में मोदी सरकार के विचार संकल्‍प और निर्णय लेने की प्रतिबद्धता पेश की गई है। उन्‍होंने कहा कि सुधार, कार्य प्रदर्शन और सुशासन इस सरकार के मंत्र हैं जिन्‍होंने लोगों के जीवन का कायाकल्‍प कर दिया।

सूचना और प्रसारण मंत्री अनुराग ठाकुर ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्‍व में देश विश्‍व की पांचवीं सबसे बड़ी अर्थव्‍यवस्‍था बन गया है। उन्‍होंने कहा कि इस पुस्‍तक में अर्थव्‍यवस्‍था, संस्‍कृति के संरक्षण, स्‍वच्‍छ और हरित भारत, विज्ञान और प्रौद्योगिकी और खेल सहित विभिन्‍न विषयों पर प्रधानमंत्री मोदी का दृष्टिकोण पेश किया गया है।

केरल के राज्‍यपाल आरिफ मोहम्‍मद खान ने कहा कि पुस्‍तक में महिलाओं और सीमांत वर्गों के प्रति चिंता दिखाई गई है। उन्‍होंने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी ने तीन तलाक की प्रथा को समाप्‍त करने के लिए ऐतिहासिक कदम उठाया। राज्‍यपाल ने कहा कि इस कदम के महत्‍व का आकलन भविष्‍य में किया जाएगा।

‘सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्‍वास-प्राइम मिनिस्‍टर नरेन्‍द्र मोदी स्‍पीक्‍स’ पुस्‍तक में प्रधानमंत्री मोदी के मई 2019 से मई 2020 के बीच दिए गए 86 भाषणों का संकलन है। इन भाषणों को दस विषयों के अंतर्गत रखा गया है। ये हैं- आत्‍मनिर्भर भारत-अर्थव्‍यवस्‍था, पीपल फर्स्‍ट गर्वनेंस, कोविड-19 से लड़ाई, उभरता भारत-विदेश कार्य, जय किसान, टेक इंडिया-न्‍यू इंडिया, ग्रीन इंडिया-रेजिलियेंट इंडिया-क्‍लीन इंडिया, फिट इंडिया-एफिशियेंट इंडिया, इटरनल इंडिया-मॉर्डन इंडिया-क्‍लचरल हेरिटेज और मन की बात।

Leave a Reply