Home समाचार पीएम मोदी पल-पल मोरबी पुल हादसे की ले रहे रिपोर्ट, कहा- एक...

पीएम मोदी पल-पल मोरबी पुल हादसे की ले रहे रिपोर्ट, कहा- एक तरफ करूणा से भरा पीड़ित दिल है तो दूसरी ओर कर्त्तव्य पथ

283
SHARE

गुजरात के मोरबी शहर में रविवार शाम को हुए केबल पुल हादसे और करीब 140 लोगों की मौत से पूरा देश मर्माहत है। वहीं प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने भी इस हादसे पर दुख जताया है। गुजरात के केवड़िया में मौजूद प्रधानमंत्री मोदी मोरबी पुल हादसे को लेकर काफी भावुक हो गए। प्रधानमंत्री मोदी ने जहां पीड़ित परिवारों को हर तरह की मदद देने का भरोसा दिलाया, वहीं मोरबी पुल हादसे के बाद चल रहे राहत और बचाव कार्य की पल-पल रिपोर्ट ले रहे हैं। प्रधानमंत्री ने लोगों को आश्वस्त किया कि राहत और बचाव के काम में कोई कमी नहीं आने दी जाएगी।

सरदार वल्लभ भाई पटेल की जयंती के मौके यानी एकता दिवस पर केवड़िया में मौजूद प्रधानमंत्री मोदी ने मोरबी पुल हादसे पर कहा कि केंद्र सरकार गुजरात सरकार की पूरी मदद कर रही है। उन्होंने भावुकता के साथ कहा, ‘मैं एकता नगर में हूं, मेरा मन मोरबी के पीड़ितों से जुड़ा है। शायद ही जीवन में मैंने बहुत कम ऐसी पीड़ा अनुभव की होगी। एक तरफ करूणा से भरा पीड़ित दिल है तो दूसरी ओर कर्त्तव्य पथ है। जिन लोगों को अपना जीवन गंवाना पड़ा हैं, मैं उनके परिवारों के प्रति अपनी संवेदना व्यक्त करता हूं।’

राहत और बचाव कार्य को लेकर प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि गुजरात सरकार कल से इसमें लगी हुई है। NDRF की टीमें राहत और बचाव के काम में लगी हुई हैं। इसमें सेना और वायुसेना की टीमें मदद कर रही हैं। प्रधानमंत्री मोदी ने इस हादसे के दोषियों को सख्त सजा देने का वादा किया। उन्होंने कहा कि मैं देश के लोगों को विश्वास दिलाता हूं कि बचाव और राहत कार्यों में कोई ढिलाई नहीं बरती जाएगी। गुजरात सरकार द्वारा हादसे की जांच के लिए SIT गठित कर दी गई है। मुख्यमंत्री भूपेंद्रभाई पटेल खुद रात को ही घटनास्थल पर पहुंचे थे। वहां उन्होंने पूरी घटना का जायजा लिया था। मुख्यमंत्री ने घायलों से भी मुलाकात की थी।

प्रधानमंत्री मोदी ने आज (सोमवार को) गुजरात में अपने सभी राजनीतिक कार्यक्रमों को रद्द कर दिया है। जानकारी के मुताबिक अहमदाबाद में होने वाले प्रधानमंत्री मोदी के रोडशो को रद्द कर दिया गया है। इसके अलावा गांधीनगर में प्रधानमंत्री का पन्ना प्रमुखों को संबोधित करने का कार्यक्रम भी स्थगित कर दिया गया है। इस कार्यक्रम में प्रधानमंत्री मोदी आगामी चुनावों को लेकर बीजेपी कार्यकर्ताओं को संबोधित करने वाले थे। इसमें राज्य के सभी 182 निर्वाचन क्षेत्र के पन्ना प्रमुख शामिल होने वाले थे। 

रविवार (30 अक्टूबर, 2022) को मोरबी में मच्छु नदी पर बना एक केबल पुल टूट गया। इस हादसे में करीब 140 लोगों की जान चली गई है और 200 से ज़्यादा लोग ज़ख्मी हैं। इस हादसे की सूचना मिलते ही प्रधानमंत्री मोदी ने तत्काल राहत और बचाव कार्य का निर्देश दिया। प्रधानमंत्री कार्यालय (PMO) के मुताबिक प्रधानमंत्री मोदी ने इस संबंध में गुजरात के मुख्यमंत्री भूपेन्द्र पटेल और अन्य अधिकारियों से बात की। उन्होंने राहत और बचाव कार्यों के लिए रेस्क्यू टीम तत्काल तैनात करने को कहा। उन्होंने रविवार रात में ही मोरबी दुर्घटना में जान गंवाने वाले प्रत्येक के परिजनों के लिए पीएमएनआरएफ (प्रधानमंत्री राष्ट्रीय राहत कोष) से 2-2 लाख रुपये की सहायता व घायलों को 50,000 रुपये देने की घोषणा की।

दूसरी तरफ प्रशासन ने घटना की जांच शुरू कर दी है। सूत्र के मुताबिक प्रशासन बारीकी से हर एंगल की जांच कर रहा है। पुल ढहने के मामले में साजिश या फाउल प्ले के एंगल की भी जांच की जा रही है। गुजरात प्रशासन द्वारा मोरबी पुल हादसा से पहले मिले एक वीडियो के जरिए कुछ विषय की जांच की जा रही है। प्रशासन यह देख रहा है कि ‘क्या एक साथ इतने ज्यादा लोग रोज पुल पर चढ़ते थे? अगर नहीं तो आज अचानक इतने लोग कैसे चढ़ गए? वीडियो में कुछ यंग लड़के पुल को संभालने वाले तार पर पैरों से जोर जोर से मार रहे हैं और तारों को पकड़कर पुल को हिला रहे हैं, वे कौन हैं?’ सूत्र ने बताया कि “प्रशासन देख रहा है कि कहीं इसके पीछे कोई राजनीतिक साजिश या अन्य साजिश तो नहीं है।”

गौरतलब है कि यह पुल करीब एक सदी पुराना था। गुजरात के मच्छु नदी पर इस पुल का निर्माण ब्रिटिश काल में किया गया था। एक सप्ताह पहले ही सस्पेंशन ब्रिज के नाम से चर्चित इस पुल की मरम्मत के बाद लोगों के लिए खोला गया था। अधिकारियों ने कहा कि हाल ही में मरम्मत के बाद जनता के लिए चार दिन पहले ही फिर से खोले गए इस पुल पर लोगों की काफी भीड़ थी। उन्होंने बताया कि पुल शाम करीब साढ़े छह बजे टूट गया। रविवार को घटना के समय मौके पर मौजूद लोगों ने बताया कि पुल पर छठ पूजा और वीकेंड मनाने आए सैकड़ों लोग इकट्ठा थे। घटना से पहले पुल पर मौजूद लोगों की संख्या 500 तक बताई जा रही है।

Leave a Reply