Home समाचार ‘ऑक्सीजन एक्सप्रेस’ ने एक महीने में 14 राज्यों को पहुंचाया 16 हजार...

‘ऑक्सीजन एक्सप्रेस’ ने एक महीने में 14 राज्यों को पहुंचाया 16 हजार मीट्रिक टन ‘प्राणवायु’

555
SHARE

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी वैश्विक महामारी कोरोना से लड़ने के लिए जिस प्रकार भारतीय रेलवे से लेकर भारतीय वायु सेना के विमान तक की पूरी क्षमता का उपयोग किया है। देश के नागरिकों का जीवन बचाने के लिए पीएम ने भारतीय रेलवे की क्षमता का पूरा उपयोग किया। वहीं भारतीय रेलवे ने भी कोविड -19 के खिलाफ भारत की सामूहिक लड़ाई में अपनी अहम भूमिका निभाई। कोरोना की पहली लहर में लॉकडाउन के दौरान जहां आवश्यक सामान पहुंचाने से लेकर लाखों-लाख प्रवासियों को श्रमिक एक्सप्रेस के माध्यम से घर तक पहुंचाया, भारतीय अर्थव्यवस्था के इंजनों को चालू रखने में अपनी महती जिम्मेदारी निभाई। और अब जब कोरोना की दूसरी लहर के दौरान देश में प्राणवायु यानि ऑक्सीजन की किल्लत हुई तो एक बार फिर भारतीय रेलवे ने देश के प्रति दायित्व को निभाते हुए अपनी उपयोगिता साबित की है।

देश के 14 राज्यों में प्राणवायु पहुंचाने का कीर्तिमान

वैश्विक महामारी कोरोना की दूसरी लहर के दौरान ऑक्सीजन की आपूर्ति करने में अपना महत्वपूर्ण रोल निभाया। भारतीय रेलवे ऑक्सीजन एक्सप्रेस के माध्यम से देश के 14 राज्यों में 977 से अधिक टैकरों में 16,023 मीट्रिक टन लिक्विड मेडिकल ऑक्सीजन (एलओएम) पहुंचाने का कीर्तिमान बनाया है।

 

1142 मीट्रिक टन ऑक्सीजन पहुंचाने का रिकार्ड

मालूम हो कि भारतीय रेलवे ने ऑक्सीजन एक्सप्रेस की शुरुआत 24 अप्रैल को की थी। पहली ऑक्सीजन एक्सप्रेस 126 मीट्रिक टन ऑक्सीजन के साथ महाराष्ट्र पहुंची थी। इस दौरान रेलवे ने नया-नया कीर्तिमान भी स्थापित किया है। इसमें चाहे वह एक दिन में सर्वाधिक ऑक्सीजन ढुलाई हो या फिर महिला क्रू द्वारा ऑक्सीजन एक्सप्रेस का संचालन हो। ऑक्सीजन एक्सप्रेस ट्रेन एक दिन में ऑक्सीजन की आपूर्ति के 1142 मीट्रिक टन के स्तर पर पहुंची गईं। इससे पहले एक दिन का सर्वाधिक भार 20 मई को 1118 मीट्रिक टन था। रेलवे के अनुसार, लगभग 247 ऑक्सीजन एक्सप्रेस ट्रेनों ने अब तक अपनी यात्राएं पूरी कर ली हैं और विभिन्न राज्यों को राहत पहुंचाई है। दक्षिण भारत में कर्नाटक के बाद तमिलनाडु में ऑक्सीजन एक्सप्रेस द्वारा तरल मेडिकल ऑक्सीजन की आपूर्ति का आंकड़ा 1000 मीट्रिक टन से ऊपर पहुंच गया है।

मांग के अनुरूप रेलवे ने पहुंचाया ऑक्सीजन

प्रदेश                 ऑक्सीजन

महाराष्ट्र              614 टन

उत्तर प्रदेश          3649 टन

मध्य प्रदेश           633 टन

दिल्ली               4600 टन

हरियाणा             1759 टन

राजस्थान            98 टन

कर्नाटक             1063 टन

उत्तराखंड           320 टन

तमिलनाडु           1024 टन

आंध्र प्रदेश          730 टन

पंजाब               225 टन

केरल               246 टन

तेलंगाना            976 टन

असम              80 टन

कम समय में अधिक ऑक्सीजन पहुंचाने का लक्ष्य किया तय 

भारतीय रेलवे का यह प्रयास रहा है कि ऑक्सीजन का अनुरोध करने वाले राज्यों को कम से कम समय में अधिक से अधिक ऑक्सीजन पहुंचाई जा सके।  भारतीय रेलवे  कम समय में अधिक ऑक्सीजन पहुंचाने के अपने लक्ष्य को पाने में सफल रही है। ऑक्सीज एक्सप्रेस द्वारा भारतीय रेलवे ने 14 राज्यों उत्तराखंड, कर्नाटक, महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश, आंध्र प्रदेश, राजस्थान, तमिलनाडु, हरियाणा, तेलंगाना, पंजाब, केरल, दिल्ली, उत्तर प्रदेश और असम को ऑक्सीजन सही समय पर ऑक्सीजन पहुंचाकर असली सहायता पहुंचाई है। 

Leave a Reply