Home समाचार एनसीपी की कठपुतली बने उद्धव ठाकरे, बेबस शिवसेना सांसद ने दिया इस्तीफा,...

एनसीपी की कठपुतली बने उद्धव ठाकरे, बेबस शिवसेना सांसद ने दिया इस्तीफा, कार्यकर्ता अपमान का घूंट पीने को मजबूर

615
SHARE

शिवसेना और एनसीपी के शीर्ष नेता अक्सर यही कहते हुए नज़र आते हैं कि गठबंधन में सब कुछ सही है। दोनों दलों के नेताओं के बीच किसी भी तरह का मनमुटाव नहीं है। लेकिन उद्धव ठाकरे एनसीपी प्रमुख शरद पवार की कठपुतली बन गए हैं। महाराष्ट्र सरकार में एनसीपी का दखल इतना बढ़ गया है कि अब शिवसेना के सांसद और कार्यकर्ता बेबस नजर आ रहे हैं। यही वजह है कि परभणी से शिवसेना सांसद संजय जाधव ने लोकसभा की सदस्यता से इस्तीफा दे दिया। 

एनसीपी के बढ़ते दखल से नाराज शिवसेना सांसद संजय जाधव ने मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को लिखे अपने पत्र में कहा कि वह अपनी पार्टी के कार्यकर्ताओं के साथ न्याय नहीं कर पा रहे हैं। इस आधार पर उन्हें सांसद बने रहने का कोई अधिकार नहीं है।

इसके अलावा संजय जाधव ने यह भी लिखा कि पिछले 8-10 महीनों से परभणी में जिंतुर नगरपालिका में प्रशासक नियुक्ति का मामला वह देख रहे हैं। वहां फिलहाल एनसीपी के एक व्यक्ति को गैर सरकारी प्रशासक के रूप में नियुक्त किया गया है। यह शिवसेना के कार्यकर्ताओं के साथ अपमान जैसा है और यह अस्वीकार्य है। 

कार्यकर्ताओं के बीच महाराष्ट्र के कई शहरों में पदों के संबंध में विवाद की ख़बरें सामने आई हैं। दोनों ही दलों के कई नेता इस मुद्दे पर अपनी असहमति जता चुके हैं। लेकिन सांसद संजय जाधव का इस्तीफ़ा होने के बाद दोनों दोलों में चल रही खींचतान फिर सतह पर आ गई है। 

शिवसेना और एनसीपी के बीच प्रशासनिक नियुक्तियों को लेकर खींचतान की बात पहले भी सामने आ चुकी है। इससे पहले मुंबई में आईपीएस अधिकारियों के तबादले को लेकर दोनों पार्टियों के बीच मतभेद देखने को मिले थे। इसी सिलसिले में एनसीपी प्रमुख शरद पवार ने मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे से 6 जुलाई को मुलाकात भी की थी। उस समय कहा गया था कि एनसीपी और शिवसेना के बीच मुंबई में आईपीएस अधिकारियों के तबादले को लेकर कोई तकरार है।

अभी से लगभग साल भर पहले जब विधानसभा चुनाव के बाद उद्धव ठाकरे ने भाजपा का साथ छोड़ कर एनसीपी और कांग्रेस के साथ मिल कर महाराष्ट्र में सरकार बनाई थी, तभी से तमाम तरह की अटकलें लगाई जा रही थीं। इसके पहले तक दोनों दल एक दूसरे के वैचारिक स्तर पर विरोधी रहे हैं। ऐसे में दोनों ही पार्टियों का एक साथ काफी समय तक सरकार चलाना आसान नहीं होगा।       

 

Leave a Reply