Home समाचार अफगानिस्‍तान में फंसे लोगों के लिए संकटमोचक बनी मोदी सरकार, वीजा नीति...

अफगानिस्‍तान में फंसे लोगों के लिए संकटमोचक बनी मोदी सरकार, वीजा नीति में किया बदलाव,तालिबान के कारण देश छोड़ने वालों को मिलेगी मदद

453
SHARE

अफगानिस्तान पर तालिबान के कब्जे बाद भारी अफरातफरी का माहौल है। हवाई अड्डे पर लोगों की काफी भीड़ है। लोग किसी भी तरह अफगानिस्तान से बाहर निकलना चाहते हैं। ऐसे हालात में मोदी सरकार संकटमोचक बनकर सामने आई है। सरकार जहां अफगानिस्‍तान में फंसे अपने देश के नागरिकों को वहां से निकाल रही है, वहीं वीजा नीति में बदलाव किया है। इसके तहत केंद्रीय गृह मंत्रालय ने e-Emergency X-Misc Visa कैटेगरी की शुरुआत की है। इसका मकसद उन लोगों की मदद करना है, जो तालिबान से अपनी जान बचाने के लिए वहां से तुरंत निकलने की कोशिश कर रहे हैं। 

इस बीच भारतीय दूतावास के अधिकारी समेत अन्य नागरिकों को लेकर काबुल से रवाना हुआ वायुसेना का विमान गुजरात के जामनगर पहुंचा। इस विमान से करीब 120 लोगों को सुरक्षित वतन लाया गया है। सभी लोग अपने देश पहुंचकर बहुत खुश नजर आ रहे हैं और इस दौरान सभी ने भारत माता की जय के नारे भी लगाए। भारतीय दूतावास ने अपने देश के नागरिकोें से अपील की है कि भारतीय नागरिक भारतीय दूतावास में अपना रजिस्ट्रेशन कराएं ताकि ऐसे वक्त में उन्हें वापस लाया जा सके। 

वहीं मोदी सरकार ने अपने नागरिकों के राहत और बचाव के साथ अफगानिस्तान के नागरिकों के लिए इलेक्ट्रॉनिक वीजा की नई कैटेगरी e-Emergency X-Misc Visa बनाई है। इसका मकसद अफगानिस्तान से भाग कर भारत आ रहे अफगानियों के लिए वीजा प्रक्रिया में तेजी लाना है। यह भारत में प्रवेश के वीजा आवेदनों का तेजी से निपटारा करेगा। इसकी एक बड़ी वजह है कि जो पूर्व में तालिबान का शासन और उसकी क्रूरता को देख चुके हैं, वो जल्‍द से जल्‍द अपने बेहतर भविष्‍य के लिए देश छोड़ना चाहते हैं। नई वीजा कैटेगरी इन लोगों के लिए वरदान साबित होगी।

गौरतलब है कि सोमवार 16 अगस्त, 2021 को संयुक्‍त राष्‍ट्र सुरक्षा परिषद की अहम बैठक हुई, जिसमें महासचिव एंटोनियो गुटेरस ने अफगानिस्‍तान नागरिकों की मदद के लिए आगे आने के लिए दुनिया से अपील की थी। उन्‍होंने कहा था कि अफगान शरणार्थियों को अपने यहां पर शरण देने से कोई भी देश पीछे न रहे। उन्होंने कहा कि हमें पूरे देश से मानवाधिकारों पर प्रतिबंधों की चौंकाने वाली रिपोर्टें मिल रही हैं। मैं विशेष रूप से अफगानिस्तान की महिलाओं और लड़कियों के खिलाफ बढ़ते मानवाधिकारों के उल्लंघन से चिंतित हूं, जिन्हें काले दिनों की वापसी से डर लग रहा है।

अमेरिका के अफगानिस्‍तान से हाथ खड़े करने के बाद वहां के हालात तेजी से बदले हैं। अफगानिस्तान पर तालिबान के कब्जे के बाद लोगों में इस कदर खौफ हो गया है कि जैसे तैसे वो इस देश को छोड़कर भागना चाह रहे हैं। इस बात की तस्दीक सोशल मीडिया पर वायरल एक तस्वीर कर रही है जिसमें देखा जा सकता है कि कैसे अमेरिकी विमान में यात्रियाों का हुजूम है। दरअसल अमेरिकी एयरफोर्स विमान के काबुल पहुंचते ही कतर जाने वाले यात्रियों का हुजूम इसमें प्रवेश कर गया। भीड़ इतनी थी कि लोगों को गिनना मुश्किल हो रहा था। सभी में डर इतना था कि वे फर्श पर बैठकर जाने को तैयार हो गए।

Leave a Reply