Home समाचार डॉक्टर, नर्स, शिक्षक को वेतन देने के लिए पैसे नहीं, केजरीवाल सरकार...

डॉक्टर, नर्स, शिक्षक को वेतन देने के लिए पैसे नहीं, केजरीवाल सरकार ने दिवाली पूजा इवेंट पर हर मिनट खर्च किए 20 लाख रुपये, आरटीआई से खुलासा

685
SHARE

दिल्ली सरकार डॉक्टरों, नर्सों और शिक्षकों को वेतन नहीं दे रही है। वहीं फंड को लेकर दिल्ली नगर निगम के तीनों मेयर और कर्मचारी मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के घर के सामने धरना देने पर मजबूर है। इसी बीच आरटीआई के एक खुलासे ने सबको हैरान कर दिया है। इस साल दिवाली पूजा पर आयोजित कार्यक्रम के लिए दिल्ली सरकार ने 6 करोड़ रुपये खर्च किए थे। 

30 मिनट के इवेंट के लिए 6 करोड़ रुपये खर्च

आपकी हैरानी तब और बढ़ जाएगी, जब कार्यक्रम की अवधि जानेंगे। सिर्फ 30 मिनट के इस इवेंट के लिए 6 करोड़ रुपये का खर्च हुआ, जो एक मिनट में 20 लाख रुपये होता है। यानि केजरीवाल सरकार ने दिवाली इवेंट पर हर मिनट टेक्सपेयर्स के 20 लाख रुपये खर्च किए। इसका खुलासा एक्टिविस्ट साकेत गोखले द्वारा दायर की गई एक आरटीआई से हुआ है।

टैक्सपेयर्स के पैसे पर चेहरा चमकाने की कोशिश

दिल्ली सरकार के टूरिज्म विभाग के जवाब के बाद साकेत गोखले ने इस बारे में ट्वीट किया, ‘दिल्ली सरकार ने टैक्सपेयर्स के करीब 6 करोड़ रुपये अपने लक्ष्मी पूजा इवेंट में खर्च किया, 14 नवंबर को दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल का ये कार्यक्रम लाइव दिखाया गया था।’

केजरीवाल ने व्यक्तिगत पूजा को भी सार्वजनिक बना दिया

गौरतलब है कि अरविंद केजरीवाल ने अपना चेहरा चमकाने के लिए व्यक्तिगत पूजा को भी सार्वजनिक बना दिया। केजरीवाल ने अपनी पत्नी सुनीता के साथ 14 नवंबर को दीपावली के दिन शाम को चर्चित अक्षरधाम मंदिर परिसर में लक्ष्मी पूजन किया। लेकिन इस पूजा में किसी बाहरी व्यक्ति को शामिल होने की अनुमति नहीं थी।

विज्ञापन पर खर्च किए गए जनता के पैसे 

अक्षरधाम मंदिर के पीछे की तरफ गेट नंबर चार के पास दिल्ली सरकार द्वारा दिवाली पूजा के लिए भव्य पंडाल सजाया गया था। भजन सम्राट अनूप जलोटा के भजनों के साथ दीवाली की पूजा समाप्त हुई। मंच पर कलाकारों ने ‘जय देव, जय देव…’ गीत पर शानदार प्रस्तुति दी। मुख्यमंत्री केजरीवाल की पूजा के साथ ही इस कार्यक्रम को भी टीवी, फेसबुक और यू-ट्यूब पर सीधे प्रसारित किया गया। यहां तक कि प्रसारण की जिम्मेदारी प्रायोजकों को दी गई थी। विज्ञापन पर जनता के पैसे खर्च किए गए।

निगम कर्मचारियों के वेतन को लेकर प्रदर्शन

उधर देश की राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के घर के बाहर दिल्ली नगर निगम के 13 हजार करोड़ रूपये के फंड को रोके जाने के विरोध में बीजेपी धरना प्रदर्शन कर रही है। बीजेपी नेताओं के साथ निगम के कर्मचारी भी प्रदर्शन कर रहे हैं। बीजेपी का कहना है कि फंड नहीं मिलने की वजह से एमसीडी के कर्मचारियों का वेतन रुका हुआ है।

Leave a Reply