Home समाचार भारत ने 5G के साथ नया इतिहास रच दिया, अब भारत को...

भारत ने 5G के साथ नया इतिहास रच दिया, अब भारत को शीर्ष पर चढ़ने से कोई रोक नहीं पाएगाः पीएम मोदी

275
SHARE

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को कहा कि भारत ने 5G के लॉन्च के साथ नया इतिहास रच दिया है। 5G के साथ भारत पहली बार टेलीकॉम टेक्नोलॉजी में ग्लोबल स्टैंडर्ड तय कर रहा है। उन्होंने कहा कि 5G को लेकर भारत के प्रयासों का एक और संदेश है। नया भारत, टेक्नोलॉजी का सिर्फ़ कंज्यूमर बनकर नहीं रहेगा बल्कि भारत उस टेक्नोलॉजी के विकास में, उसके इंप्लीमेंटेशन में सक्रिय भूमिका निभाएगा। इसके साथ ही भविष्य की वायरलेस टेक्नोलॉजी को डिजाइन करने में, उससे जुड़ी मैन्यूफैक्चरिंग में भारत की बड़ी भूमिका होगी। पीएम मोदी कहा कि आज की तेजी से बदलती दुनिया में भारत को शीर्ष पर चढ़ने से कोई रोक नहीं पाएगा। इस स्थान पर हमारा अधिकार है। भारत और भारतीय इससे कम पर समझौता नहीं कर सकते। भारत चौथी औद्योगिक क्रांति का नेतृत्व करेगा।

डिजिटल इंडिया अभियान की यह बहुत बड़ी सफलता है

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को 5जी के लांच एवं इंडिया मोबाइल कांग्रेस के उद्घाटन अवसर पर कहा कि 2G, 3G, 4G के समय भारत टेक्नॉलजी के लिए दूसरे देशों पर निर्भर रहा, लेकिन 5G के साथ भारत ने नया इतिहास रच दिया है। उन्होंने कहा कि 5G के साथ भारत पहली बार टेलीकॉम टेक्नॉलजी में ग्लोबल स्टैंडर्ड तय कर रहा है। आज इंटरनेट का इस्तेमाल करने वाला हर व्यक्ति इस बात को समझ रहा है कि 5G, इंटरनेट Internet का पूरा आर्किटेक्चर बदल कर रख देगा। उन्होंने कहा, ”भारत के युवाओं के लिए आज 5G बहुत बड़ा अवसर लेकर आया है। मुझे खुशी है कि विकसित भारत का संकल्प लेकर आगे बढ़ रहा हमारा देश, दुनिया के अन्य देशों के साथ किस तरह कदम से कदम मिलाकर चल रहा है। ये भारत की बहुत बड़ी सफलता है, डिजिटल इंडिया अभियान की बहुत बड़ी सफलता है।”

डिजिटल इंडिया की सफलता के लिए 4 Pillars पर फोकस

पीएम मोदी ने कहा कि जब हम डिजिटल इंडिया की बात करते हैं तो कुछ लोग समझते हैं कि ये सिर्फ एक सरकारी योजना है। लेकिन डिजिटल इंडिया सिर्फ एक नाम नहीं है, ये देश के विकास का बहुत बड़ा विजन है। इस विजन का लक्ष्य है उस टेक्नॉलजी को आम लोगों तक पहुंचाना, जो लोगों के लिए काम करे और लोगों के साथ जुड़कर काम करे। उन्होंने कहा, ”मुझे याद है, जब मोबाइल सेक्टर से जुड़े इस विजन के लिए स्ट्रैटजी बनाई जा रही थी, तो मैंने कहा था कि हमारी अप्रोच टुकड़ों-टुकड़ों में नहीं बल्कि होलिस्टिक होनी चाहिए।” उन्होंने कहा कि डिजिटल इंडिया की सफलता के लिए जरूरी था कि वो इस सेक्टर के सभी आयामों को एक साथ कवर करे। इसलिए हमने 4 Pillars पर, चार दिशाओं में एक साथ फोकस किया। पहला, डिवाइस की कीमत दूसरा, डिजिटल कनेक्टिविटी तीसरा, डेटा की कीमत चौथा, और सबसे जरूरी, ‘digital first’ की सोच।

डिजिटल कनेक्टिविटी के साथ ही डेटा की कीमत भी अहम

डिजिटल कनेक्टिविटी और डेटा की कीमत पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि डिजिटल कनेक्टिविटी बढ़ने के साथ ही डेटा की कीमत भी उतनी ही अहम हो जाती है। ये डिजिटल इंडिया का तीसरा पिलर था, जिस पर हमने पूरी शक्ति से काम किया। हमने टेलीकॉम सेक्टर के रास्ते में आने वाली तमाम अड़चनों को हटाया। पहले विजन की कमी और पारदर्शिता के अभाव में टेलीकॉम सेक्टर को तमाम मुश्किलों का सामना करना पड़ता था। आप परिचित हैं कि कैसे हमने 4G तकनीक के विस्तार के लिए नीतिगत सपोर्ट दिया। इससे डेटा की कीमत में भारी कमी आई और देश में डेटा क्रांति का जन्म हुआ। देखते ही देखते ये तीनों फैक्टर, डिवाइस की कीमत, डिजिटल कनेक्टिविटी और डेटा की कीमत – इसका मल्टीप्लायर अफेक्ट हर तरफ नजर आने लगा।

देश में ‘digital first’ की सोच विकसित हुई

पीएम मोदी ने कहा कि इसके साथ ही एक और महत्वपूर्ण काम हुआ और वह है देश में ‘digital first’ की सोच विकसित हुई। एक वक्त था जब इलीट क्लास के कुछ मुट्ठी भर लोग गरीब लोगों की क्षमता पर संदेह करते थे। उन्हें शक था कि गरीब लोग डिजिटल का मतलब भी नहीं समझ पाएंगे। लेकिन मुझे देश के सामान्य मानवी की समझ पर, उसके विवेक पर, उसके जिज्ञासु मन पर हमेशा भरोसा रहा है। उन्होंने कहा, ”मैंने देखा है कि भारत का गरीब से गरीब व्यक्ति भी नई तकनीकों को अपनाने में आगे रहता है। सिर्फ देश के इलीट क्लास के कुछ लोगों को ही हमारे गरीब भाई-बहनों पर यकीन नहीं था। हम ‘digital first’ के अप्रोच के साथ आगे बढ़ने में कामयाब हुए। सरकार ने खुद आगे बढ़कर डिजिटल पेमेंट्स का रास्ता आसान बनाया। सरकार ने खुद ऐप के जरिए citizen-centric delivery service को बढ़ावा दिया। बात चाहे किसानों की हो, या छोटे दुकानदारों की, हमने उन्हें ऐप के जरिए रोज की जरूरतें पूरी करने का रास्ता दिया।

टेक्नोलॉजी सही मायने में लोकतांत्रिक हुई

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि आज टेक्नॉलजी सही मायने में लोकतांत्रिक हो गई है। आपने भी देखा है कि ‘digital first’ की हमारी अप्रोच ने कोरोना वैश्विक महामारी के इस दौर में देश के लोगों की कितनी मदद की। दुनिया के बड़े-बड़े विकसित देश जब अपने नागरिकों की मदद करने में संघर्ष कर रहे थे, भारत एक क्लिक पर हजारों करोड़ रुपए उनके बैंक खाते में ट्रांसफर कर रहा था। उन्होंने कहा कि ये डिजिटल इंडिया की ही ताकत थी कि जब दुनिया थमी हुई थी, तो भी हमारे बच्चे ऑनलाइन क्लासेस ले रहे थे। अस्पतालों के सामने असाधारण चुनौती थी, लेकिन डॉक्टर्स अपने मरीजों का इलाज टेली-मेडिसिन के जरिए भी कर रहे थे। ऑफिसेस बंद थे, लेकिन वर्क फ्राम होम चल रहा था। आज हमारे छोटे व्यापारी हों, छोटे उद्यमी हों, लोकल कलाकार और कारीगर हों, डिजिटल इंडिया ने सबको मंच दिया है, बाजार दिया है। आज आप किसी लोकल मार्केट में या सब्जी मंडी में जाकर देखिए, रेहड़ी-पटरी वाला छोटा दुकानदार भी आपसे कहेगा, कैश नहीं ‘UPI’ कर दीजिए। ये बदलाव बताता है कि जब सुविधा सुलभ होती है तो सोच किस तरह सशक्त हो जाती है।

सरकार के प्रयासों से भारत में डेटा की कीमत बहुत कम

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि टेलीकॉम सेक्टर में जो क्रांति देश देख रहा है, वो इस बात का सबूत है कि अगर सरकार सही नीयत से काम करे, तो नागरिकों की नियति बदलने में देर नहीं लगती। भारत आज दुनिया के उन देशों में है जहां डेटा इतना सस्ता है। पहले 1GB डेटा की कीमत जहां 300 रुपए के करीब होती थीं, वहीं आज 1GB डेटा का खर्च केवल 10 रुपए तक आ गया है। आज भारत में महीने भर में एक व्यक्ति मोबाइल पर करीब-करीब 14 GB डेटा इस्तेमाल कर रहा है। 2014 में इसी 14 GB डेटा की कीमत होती थी करीब 4200 रुपए प्रति महीना। आज इतना ही डेटा सवा सौ रुपए, डेढ़ सौ रुपए में मिल जाता है। यानि आज गरीब के, मध्यम वर्ग के मोबाइल डेटा के करीब करीब 4 हजार रुपए हर महीने बच रहे हैं। हमारी सरकार के प्रयासों से भारत में डेटा की कीमत बहुत कम बनी हुई है। ये बात अलग है कि हमने इसका हल्ला नहीं मचाया, बड़े-बड़े विज्ञापन नहीं दिए। हमने फोकस किया कि कैसे देश के लोगों की सहूलियत बढ़े, ईज आफ लिविंग बढ़े।

Leave a Reply