Home समाचार अपनी पहली समिट में ही I2U2 ने स्थापित किया अपना सकारात्मक एजेंडा...

अपनी पहली समिट में ही I2U2 ने स्थापित किया अपना सकारात्मक एजेंडा : पीएम

181
SHARE

आज यानि गुरुवार को वर्चुअल माध्यम से आयोजित I2U2 के पहले शिखर सम्मेलन को प्रधानमंत्री मोदी बहुत ही संक्षिप्त रूप में संबोधित किया। अपने संबोधन में उन्होंने कहा कि अपने पहले ही शिखर सम्मेलन में I2U2 ने एक सकारात्मक एजेंडा स्थापित कर लिया है। बढ़ती हुई वैश्विक अनिश्चितताओं के बीच हमारा कोऑपरेटिव फ्रेमवर्क व्यावहारिक सहयोग का एक अच्छा मॉडल बना है। मुझे पूरा विश्वास है कि I2U2 से हम वैश्विक स्तर पर ऊर्जा सुरक्षा, खद्य सुरक्षा और आर्थिक विकास के लिए महत्वपूर्ण योगदान करेंगे। पीएम मोदी ने कहा कि हमने कई क्षेत्रों में संयुक्त परियोजनाओं की पहचान की है, और जिसमें आगे बढ़ने का रोडमैप भी तैयार किया है।

छह क्षेत्रों में आपसी सहयोग बढ़ाने पर सहमति

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि हम सभी अच्छे दोस्त हैं और मुझे पूरा विश्वास है कि I2U2 से हम वैश्विक स्तर पर ऊर्जा सुरक्षा, खाद्य सुरक्षा और आर्थिक विकास के लिए महत्वपूर्ण योगदान करेंगे. बता दें कि पहले शिखर सम्मेलन में 6 क्षेत्रों में सहयोग बढ़ाने पर सहमति बनी। I2U2 की इस पहली बैठक में प्रधानमंत्री मोदी के अलावा अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडेन, इजराइल के प्रधानमंत्री यायर लापिड, संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) के राष्ट्रपति मोहम्मद बिन जायद अल नाह्यान शामिल हुए।

I2U2 चार देशों का समूह है

I2U2 का पूरा नाम India, Israel, USA, UAE है। मालूम हो कि भारत, इजरायल, यूएई और यूएसए के बीच होने वाले वर्चुअल समिट को ‘I2U2’ करार दिया गया है, जिसे पश्चिमी एशिया के लिए एक क्वाड के रूप में देखा जा रहा है। I2U2 का उद्देश्य जल, ऊर्जा, परिवहन, अंतरिक्ष, स्वास्थ्य और खाद्य सुरक्षा जैसे छह पारस्परिक रूप से पहचाने गए क्षेत्रों में संयुक्त निवेश को बढ़ावा और प्रोत्साहित करना है। I2U2 ग्रुपिंग की परिकल्पना पिछले साल 18 अक्टूबर को इन चारों देशों के विदेश मंत्रियों की बैठक में की गई थीष इसमें से प्रत्येक देश सहयोग के संभावित क्षेत्रों को लेकर नियमित रूप से शेरपा-स्तरीय चर्चा करते रहे हैं।

Leave a Reply